Was under pressure in 2010 Asiad to defend my Doha gold, says Advani-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 30, 2020 12:49 am
Location
Advertisement

एशियाड 2010 में दोहा खिताब बचाने का दबाव था : पंकज आडवाणी

khaskhabar.com : शुक्रवार, 23 अक्टूबर 2020 4:33 PM (IST)
एशियाड 2010 में दोहा खिताब बचाने का दबाव था : पंकज आडवाणी
नई दिल्ली। स्नूकर और बिलियर्डस में कुल 23 खिताब जीतने वाले खिलाड़ी पंकज आडवाणी ने खुलासा किया है कि ग्वांग्झोउ में 2010 एशियाई खेलों में 2006 में दोहा में जीते गए खिताब को बचाने का उन पर दबाव था। आडवाणी ने 2006 दोहा एशियाई खेलों में बिलियर्डस में स्वर्ण पदक जीता था और वह ग्वांग्झोउ 2010 एशियाई खेलों में मौजूदा चैंपियन के रूप में उतरे थे, जहां उन्हें अपने पिछले खिताब का बचाव करना था।

आडवाणी ने ओलंपिक रजत पदक विजेता भारतीय महिला बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु के शो 'द-ए गेम' में बातचीत के दौरान यह बात कही।

आडवाणी ने कहा, " जब मैं 21 साल का था तो एशियाई खेल मुझे एक अलग स्तर का लगा था। वहां बहुत दबाव था क्योंकि न केवल आपकी की बिरादरी के लोग आपको देख रहे हैं, बल्कि पूरी खेल दुनिया, विशेष रूप से महाद्वीप, भारतीय अधिकारी, भारतीय ओलंपिक संघ (आईओए) और हर किसी की नजर आप पर और खेल पर है, क्योंकि वे हर खेल से पदक जीतने की उम्मीद रखते हैं।"

आडवाणी ने 2010 एशियाई खेलों में स्वर्ण पदक जिताकर भारत को इस प्रतियोगिता में पहला स्वर्ण पदक दिलाया था।

उन्होंने कहा, "मुझे पता था कि हमने बहुत से कांस्य और रजत पदक जीते हैं, लेकिन मुझे नहीं पता था कि यह भारत के लिए (प्रतियोगिता में) पहला स्वर्ण पदक होगा। इसलिए वह दबाव मुझ पर भाग्यशाली नहीं था। लेकिन स्वर्ण जीतने और एशियाई खेलों में अपने स्वर्ण पदक का बचाव करने का दबाव, निश्चित रूप से मुझ पर भारी पड़ रहा था।"

35 वर्षीय आडवाणी ने आगे कहा, " जब मैं 62 अंक पर था और मुझे 38 अंक और चाहिए थे, तो मैंने बहुत ही साधारण गलती की और मुझे लगा कि शायद यह बहुत महंगा पड़ सकता है। फिर मुझे अंतिम झटका लगा और इस बार मैं खुद को तैयार करना चाहता था और थोड़ा समय लेकर और यह सुनिश्चित करना चाहता था कि मैंने फिनिश लाइन पार कर ली।" (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement