Sourav Ganguly writes a letter to ombudsman in conflict of interest matter-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 19, 2019 9:17 pm
Location
Advertisement

गांगुली ने लोकपाल को पत्र लिख हितों के टकराव पर दिया स्पष्टीकरण, पढ़ें...

khaskhabar.com : सोमवार, 08 अप्रैल 2019 5:15 PM (IST)
गांगुली ने लोकपाल को पत्र लिख हितों के टकराव पर दिया स्पष्टीकरण, पढ़ें...
नई दिल्ली। बंगाल क्रिकेट संघ (सीएबी) के अध्यक्ष और इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की फ्रेंचाइजी दिल्ली कैपिटल्स के सलाहकार सौरव गांगुली ने बीसीसीआई के लोकपाल डीके जैन को पत्र लिखकर हितों के टकराव के मुद्दे पर अपना जवाब पेश किया है। जैन ने गांगुली से इस मुद्दे पर स्पष्टीकरण मांगा था। भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) के एक सीनियर अधिकारी ने आईएएनएस से कहा है कि गांगुली ने पत्र लिख अपनी स्थिति साफ कर दी है।

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान गांगुली ने साथ ही कहा है कि वे ऐसी किसी समिति का हिस्सा नहीं हैं जो आईपीएल की देखरेख कर रही हो। पत्र में गांगुली ने लिखा है कि मैं किसी भी तरह से प्रशासन, प्रबंधन या ऐसी किसी भी समिति का सदस्य नहीं हूं जो आईपीएल की देखरेख कर रही हो। साथ ही न ही बीसीसीआई की ऐसी किसी समिति का सदस्य हूं जो आईपीएल के संबंध में हो। उन्होंने कहा कि मैं ऐसी किसी भी तरह की समिति से इस्तीफा दे चुका हूं/नाम वापस ले चुका हूं।

मैं ऐसी किसी भी समिति का सदस्य नहीं हूं जिसका आईपीएल के प्रबंधन पर अधिकार हो। अधिकारी के अनुसार, गांगुली ने साथ ही कहा है कि वे किसी भी तरह से कोलकाता नाइट राइडर्स से जुड़े हुए नहीं हैं। गांगुली ने लिखा कि कोलकाता नाइट राइडर्स एक फ्रेंचाइजी है जिसका मालिकाना हक रेड चिली इंटरटेनमेंट के पास है। यह कंपनी, कंपनी एक्ट 1956 के अंतर्गत आती है। मैं इस कंपनी में न ही शेयरहोल्डर हूं न ही मेरा इस कंपनी में कोई हिस्सा है।

गांगुली ने आगे लिखा, न ही रेड चिली और न ही कोलाकाता नाइट राइडर्स का सीएबी से किसी तरह का संबंध है। सीएबी का भी कोलाकाता नाइट राइडर्स में किसी तरह का अधिकार नहीं है। सीएबी कोलकाता नाइट राइडर्स और कंपनी दोनों में किसी भी तरह से अधिकार नहीं रखती है। आईपीएल के दौरान सीएबी सिर्फ अपना स्टेडियम कोलकाता नाइट राइडर्स को देती है जिसके बदले वह एक तय राशि लेती है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement