Sachin Tendulkar, Virat Kohli, Rahul Dravid and many other cricketers are superstitious, know...-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 1, 2020 4:32 am
Location
Advertisement

अंधविश्वास से अछूते नहीं रहे ये क्रिकेटर, जानें सचिन, कोहली...ने आजमाए कौनसे तरीके

khaskhabar.com : गुरुवार, 14 नवम्बर 2019 2:04 PM (IST)
अंधविश्वास से अछूते नहीं रहे ये क्रिकेटर, जानें सचिन, कोहली...ने आजमाए कौनसे तरीके
नई दिल्ली। क्रिकेट जैसे खेल को भारत में धर्म समझा जाता है और खिलाडिय़ों को भगवान। इसका कारण खिलाडिय़ों के द्वारा किया गया प्रदर्शन होता है जिसके दम पर वे अपनी टीम को जीत दिलाते हैं और खुद भी नाम कमाते हैं। लेकिन कई बार खिलाड़ी इस अच्छे प्रदर्शन के लिए मेहनत, काबिलियत के अलावा कई तरह के टोटकों और अंधविश्वास पर भी निर्भर रहते हैं।

कोई खास रंग और नंबर को अपने साथ रखना पसंद करता है तो कोई अपनी पसंदीदा चीजों को साथ लेकर चलना चाहते हैं ताकि उन्हें असुरक्षा की भावना नहीं आए और वे अपने इन टोटकों से अच्छे प्रदर्शन का विश्वास हासिल कर सकें। छोटी सी उम्र से गेंदबाजों के लिए काल बन क्रिकेट में भगवान का दर्जा पाने वाले सचिन तेंदुलकर भी इससे अछूते नहीं रहे।

क्रिकेट बुक में लगभग हर रिकॉर्ड अपने नाम करने वाले सचिन बल्लेबाजी के लिए जाने से पहले खास तरह का पैटर्न फॉलो करते थे। सचिन हमेशा अपने बाएं पैर में पहले पैड पहनते थे,क्योंकि खेल के भगवान को लगता था कि इससे वे मैदान पर अच्छा करेंगे। इसी तरह 2011 विश्व कप से पहले सचिन ने अपना पसंदीदा बल्ला भी ठीक करवाया था जिसे वो लकी मानते थे।

सचिन के कई रिकॉर्ड तोडऩे वाले और बाकी के रिकॉर्ड के पीछे हाथ धोकर पड़े भारत के मौजूदा कप्तान विराट कोहली भी अपने प्रेरणास्त्रोत सचिन की तरह एक समय तक अंधविश्वास से घिरे हुए थे। कोहली ने जब रनों का अंबार लगाने की शुरुआत की थी, तब उन्होंने जो ग्लव्स पहने थे, कोहली लंबे समय तक उन्हें ही दोहराते रहे क्योंकि उन्हें लगता था कि इन्ही ग्लव्स के दम पर उनके बल्ले से रन निकल रहे हैं। एक समय के बाद जब उन्हें यह अहसास हो गया कि उनकी प्रतिभा इस अंधविश्वास से कहीं ज्यादा ताकतवर है तो उन्होंने इससे छुटकारा पा लिया।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/4
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement