Morgan won England a World Cup after being almost an embarrassment in 2015: Swann-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 14, 2022 3:06 pm
Location
Advertisement

2015 में खराब प्रदर्शन के बाद मोर्गन ने इंग्लैंड को विश्व कप जिताया: स्वान

khaskhabar.com : मंगलवार, 28 जून 2022 1:27 PM (IST)
2015 में खराब प्रदर्शन के बाद मोर्गन ने इंग्लैंड को विश्व कप जिताया: स्वान
मुंबई । ब्रिटिश मीडिया में अटकलें लगाई जा रही हैं कि इंग्लैंड के सफेद गेंद के कप्तान इयोन मोर्गन पद छोड़ सकते हैं और अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास ले सकते हैं।

वहीं, पूर्व ऑफ स्पिनर ग्रीम स्वान ने मोर्गन की प्रशंसा करते हुए कहा कि उन्होंने 2015 वनडे विश्व कप में शमिर्ंदगी झेलने के बाद में राष्ट्रीय टीम को 2019 में विश्व कप जिताया।

मोर्गन को 2012 में इंग्लैंड टी20 कप्तान बनाया गया था और 2014 में वनडे टीम की जिम्मेदारी दी गई थी, लेकिन कुछ महीनों के बाद ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में 2015 के वनडे विश्व कप के ग्रुप चरणों से टीम बाहर हो गई थी। इस खराब प्रदर्शन के बाद मोर्गन ने सफेद गेंद वाले क्रिकेट में इंग्लैंड को पूरी तरह से बदल कर रख दिया, जिसके कारण उन्हें 2019 में घर पर पहली बार क्रिकेट विश्व कप का खिताब मिला।

सोनी स्पोर्ट्स द्वारा आयोजित वर्चुअल इंटरेक्शन में आईएएनएस के एक सवाल का जवाब देते हुए स्वान ने कहा, "हमने खेल खेलने के नए जमाने के तरीके को नहीं अपनाया था, अति-आक्रामक दृष्टिकोण और विश्वास करने वाले खिलाड़ियों को चुनना किसी भी टीम के लिए अच्छा होता है।"

स्वान ने आगे बताया कि कैसे मोर्गन को क्रिकेट के तत्कालीन निदेशक और इंग्लैंड के पूर्व कप्तान एंड्रयू स्ट्रॉस ने अपने तरीके से वनडे टीम को फिर से तैयार करने की छूट दी थी।

उन्होंने कहा, "मुझे नहीं पता कि आप यह जानते हैं कि नहीं, लेकिन इयोन मोर्गन को 2015 में एंड्रयू स्ट्रॉस द्वारा अपने स्वयं के दूष्टिकोण में इंग्लिश वनडे क्रिकेट को नया रूप देने की स्वतंत्रता दी गई थी, जिसे ब्रेंडन मैकुलम के साथ उनकी महान दोस्ती से साझा किया गया था, जो कि अब हमारी टेस्ट टीम के मुख्य कोच हैं।"

मोर्गन वनडे और टी20ई क्रिकेट में इंग्लैंड के अग्रणी रन-स्कोरर हैं, जिसमें क्रमश: 225 वनडे और 115 टी20 में 6,957 और 2,458 रन हैं।

स्वान ने कहा, "टेस्ट क्रिकेट में शतक बनाने वाले शीर्ष पांच खिलाड़ियों को वनडे क्रिकेट में चुना गया था, लेकिन इसे दूर रखा गया और उन्होंने रोमांचक युवा खिलाड़ियों को चुना, जो सफेद गेंद वाले क्रिकेट खेलते हुए बड़े हुए थे, हमेशा आक्रामक रुख अपनाते थे और उनमें विश्वास था। कि वे कुछ भी कर सकते हैं और लगभग 500 रन बना सकते हैं, जो उन्होंने इंग्लैंड की इस टीम में लगभग दो या तीन बार किया है। यह सब इयोन मोर्गन और उनके नेतृत्व में हुआ है।"

हाल के दिनों में, मोर्गन ने फॉर्म और फिटनेस के साथ संघर्ष किया है, जिससे वह अपने अंतर्राष्ट्रीय भविष्य के बारे में सोच रहे हैं। नीदरलैंड पर इंग्लैंड की 3-0 वनडे श्रृंखला जीत में मोर्गन ने लगातार शून्य पर आउट हुए और चोट के कारण तीसरे मैच से चूक गए, जबकि अंतर्राष्ट्रीय और घरेलू क्रिकेट में उनका अंतिम अर्धशतक पिछले साल जुलाई में श्रीलंका के खिलाफ पहले वनडे मैच के दौरान आया था।

स्वान ने टिप्पणी की है कि मोर्गन को उनके खेल करियर के समाप्त होने के बाद इंग्लैंड के वनडे और टी20 टीम में जल्दी से एक भूमिका दी जानी चाहिए।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement