Kapil returned to golf course, praised Indian pace battery -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 7, 2021 12:48 pm
Location
Advertisement

गोल्फ कोर्स में लौटे कपिल, भारतीय पेस बैटरी की प्रशंसा की

khaskhabar.com : गुरुवार, 15 अप्रैल 2021 11:43 AM (IST)
गोल्फ कोर्स में लौटे कपिल, भारतीय पेस बैटरी की प्रशंसा की
नई दिल्ली| भारतीय टीम को अपनी कप्तानी में विश्व कप दिलाने वाले टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी कपिल देव ने भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण की प्रशंसा की है।

कपिल की अक्टूबर 2020 में ह्दय की सर्जरी हुई थी जिसके बाद अब वह गोल्फ खेलने लौटे हैं।

कपिल ने आईएएनएस से कहा, "भारतीय तेज गेंदबाजी आक्रमण में मजबूती देखना सुखद है। मैंने आज से 20-30 वर्ष पहले यह उम्मीद नहीं की थी कि हमारे पास कई तेज गेंदबाज होंगे जो दुनिया के शीर्ष गेंदबाज बनेंगे।"

उन्होंने कहा, "टीम के पास जसप्रीत बुमराह, मोहम्मद शमी और भुवनेश्वर कुमार जैसे तेज गेंदबाज हैं और मेरे ख्याल से यह काफी अच्छा है।"

कपिल ने कहा, "जब मैंने क्रिकेट खेलना शुरू किया था तो तेज गेंदबाज कम थे। अभी हमारे पास कई तेज गेंदबाज हैं। अगर हमारे तीन तेज गेंदबाज नहीं खेल रहे हैं तो अगले तीन गेंदबाज हमें मैच जीता सकते हैं।"

कपिल ने 1994 में क्रिकेट से संन्यास लेने के बाद भारत को ऑलराउंडर तेज गेंदबाज की तलाश थी। हालांकि हार्दिक पांड्या टीम के लिए इस कमी को पूरी कर रहे हैं।

भारतीय टीम के मौजूदा कप्तान विराट कोहली ने हाल ही में कहा था कि विश्व टेस्ट चैंपियनशिप और अन्य दौरे को देखते हुए हार्दिक के वर्कलोड को मैनेज करने की जरूरत है।

कपिल का मानन है कि अपनी चोट के कारण लंबे समय तक गेंदबाजी नहीं कर पाए हार्दिक के पास खुद को साबित करने का अभी बहुत मौका है।

कपिल ने कहा, "मेरे ख्याल से हार्दिक को अभी लंबा सफर तय करना है। उनके पास अच्छा कौशल है और वह एक बेहतरीन क्रिकेटर हैं। उन्हें अपनी फिटनेस पर काम करने की जरूरत है।"

उन्होंने कहा, "मैं सिर्फ क्रिकेट उस वक्त करीब से देख पाता हूं जब मैं टीवी पर और न्यूज चैनल में इस बारे में बात करता हूं। इसके अलावा मैं ज्यादा दिमाग नहीं लगाता और खेल का आनंद लेता हूं।"

पूर्व कप्तान ने कहा कि कोरोना महामारी ने लोगों को सीख लेने का अनुभव दिया है।

कपिल ने कहा, "अच्छा है, भगवान ने कुछ सोचा है। कोरोना महामारी चुनौती नहीं है, यह एक सकारात्मक चीज है। यह ऐसा है जिसका दुनिया ने पहले कभी अनुभव नहीं किया है। यह बुरा नहीं है बल्कि सीख देने वाला है।"

-- आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement