Cheteshwar Pujara reaction about his inning in first test against australia-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 10, 2018 7:55 pm
Location
Advertisement

पुजारा ने कहा, हमारा ऊपरी क्रम अच्छी बल्लेबाजी कर सकता था...

khaskhabar.com : गुरुवार, 06 दिसम्बर 2018 6:24 PM (IST)
पुजारा ने कहा, हमारा ऊपरी क्रम अच्छी बल्लेबाजी कर सकता था...
एडिलेड। ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ एडिलेड ओवल मैदान पर जारी पहले टेस्ट मैच के पहले दिन गुरुवार को विकेटों की पतझड़ के बीच एक छोर संभाले रहते हुए शतक लगाने वाले भारतीय बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा ने 123 रनों की इस पारी को अपनी शीर्ष पांच पारियों में शामिल किया है। पुजारा ने पहले सत्र से विकेट पर पैर जमाया और 246 गेंदों पर सात चौके और दो छक्के लगाए। वे रन आउट हुए और इसी के साथ दिन का खेल खत्म होने की घोषणा कर दी गई। भारत ने दिन का अंत नौ विकेट के नुकसान पर 250 रनों के साथ किया।

पुजारा ने मैच के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि मैं इस पारी को टेस्ट में अपनी शीर्ष-5 पारियों में रखता हूं। मैं नहीं कह सकता कि यह सर्वश्रेष्ठ थी। मेरी टीम के खिलाडिय़ों ने मेरी पारी को काफी सराहा और कहा कि यह मेरी सर्वश्रेष्ठ पारियों में से एक है। आखिरी सत्र में भारत के सिर्फ चार विकेट बाकी थे। पुजारा ने माना कि तीसरे सत्र में बल्लेबाजी करना मुश्किल था। पुजारा ने कहा, तीसरा सत्र मुश्किल था। लेकिन मैं सेट था और अपने शॉट खेल सकता था।

हमने सात विकेट खो दिए थे। मैं और अश्विन अच्छा खेल रहे थे और हमारे बीच साझेदारी भी अच्छी हो रही थी। जब अश्विन का विकेट गिरा तो मुझे लगा कि मुझे तेजी से रन बनाने होंगे। मैं जानता था कि इस विकेट पर मैं किस तरह के शॉट खेल सकता हूं। मैं दो सत्र खेल चुका था। मौसम को देखते हुए हालांकि तीसरा सत्र मुश्किल था। मौसम गर्म था हालांकि हम भारत में इस तरह के मौसम के आदि हैं। पुजारा रन आउट होकर पवेलियन लौटे।

उन्हें इस बात की निराशा है लेकिन पुजारा ने कहा कि उनके लिए वह रन लेना जरूरी था। पुजारा के मुताबिक, रन आउट होना निराशाजनक था लेकिन मुझे वह एक रन लेना पड़ा क्योंकि सत्र की आखिरी दो गेंदें बची थीं। मुझे लगा था कि मुझे स्ट्राइक पर रहना चाहिए। भारत का शीर्ष क्रम पहले सत्र में ही पवेलियन में बैठ चुका था। इस पर पुजारा ने कहा कि शीर्ष क्रम ने गलतियां की लेकिन दूसरी पारी में कोशिश उन गलतियों को सुधारने की होगी।

उन्होंने कहा, मैं ईमानदारी से कहूं तो पहले दो सत्र में हम अच्छी बल्लेबाजी कर सकते थे। उन्होंने भी अच्छी गेंदबाजी की। मैं जानता था कि मुझे धैर्य के साथ खेलने की जरूरत है और खराब गेंद का इस्तेमाल करना है। उन्होंने भी अच्छी जगहों पर गेंदबाजी की, लेकिन हमारा ऊपरी क्रम अच्छी बल्लेबाजी कर सकता था। हम गलतियों से सीखेंगे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement