Uttar Pradesh Fact Check: No, Gold Deposits Of 3,000 Tonne Not Discovered In Sonbhadra -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 25, 2020 8:03 pm
Location
Advertisement

सोनभद्र की सोन पहाड़ी : 'सौ मन सोना, कोना-कोना' , यहां जानें पूरी कहानी

khaskhabar.com : सोमवार, 24 फ़रवरी 2020 09:43 AM (IST)
सोनभद्र की सोन पहाड़ी : 'सौ मन सोना, कोना-कोना' , यहां जानें पूरी कहानी
सोनभद्र। उत्तर प्रदेश का सोनभद्र जिला आजकल कथित विशाल सोना भंडार की वजह से चर्चा में है। यह बात अलग है कि जियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया (जीएसआई) इसे नकार चुकी है, फिर भी जिस सोन पहाड़ी पर सोना होने की अफवाह उड़ी, उसके अतीत में जाना जरूरी है।

सोनभद्र जिले में 'सौ मन सोना, कोना-कोना' की कहावत बहुत प्रचलित है और इस कहावत का सीधा संबंध सोन पहाड़ी और अगोरी किला से है। जिले के चोपन विकास खंड के अगोरी गांव के जंगल में आदिवासी राजा बल शाह का 'अगोरी किला' आज भी जीर्ण-शीर्ण हालत में मौजूद है। यहां के आदिवासियों में किंवदंती है कि 711 ईस्वी में यहां खरवार आदिवासी राजा बल शाह का शासन था, जिसपर चंदेल शासकों ने हमला कर दिया था। इस हमले में पराजित राजा बल शाह अपने खजाने का एक सौ मन (चार हजार किलोग्राम) सोना लेकर सैनिकों सहित किला छोड़कर गुप्त रास्ते से किले से महज सात किलोमीटर दूर रेणु नदी से लगे पनारी के जंगलों में छिप गए और इस पहाड़ी के कोने-कोने में उस खजाने को छिपा दिया था और खुद भी छिप गए थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement