UP girl develops app for soil identification-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jan 24, 2022 3:27 pm
Location
Advertisement

यूपी की लड़की ने मिट्टी की पहचान के लिए विकसित किया ऐप

khaskhabar.com : बुधवार, 01 दिसम्बर 2021 10:51 AM (IST)
यूपी की लड़की ने मिट्टी की पहचान के लिए विकसित किया ऐप
ललितपुर। दिल्ली में आयोजित आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस आधारित अभिनव परियोजना प्रदर्शनी और पुरस्कार समारोह में ललितपुर जिले के एक गांव की एक 14 वर्षीय लड़की को देश के शीर्ष 20 में स्थान मिला है। नंदिनी कुशवाहा को एक स्मार्ट डेटा-आधारित एआई उपकरण तैयार करने के लिए सम्मानित किया गया है जो मिट्टी में मौजूद विभिन्न पोषक तत्वों का विश्लेषण करके मिट्टी के लिए सबसे उपयुक्त फसल की पहचान करता है।

सरकारी स्कूलों के लिए राष्ट्रीय कार्यक्रम के तहत पूरी पहल की परिकल्पना की गई है, जिसका नाम 'युवाओं के लिए जिम्मेदार एआई' है। इसकी परिकल्पना और डिजाइन राष्ट्रीय ई-गवर्नेंस डिवीजन, इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार और इंटेल इंडिया द्वारा संयुक्त रूप से करता है।

ललितपुर जिले की महरोनी तहसील के पाठा गांव की रहने वाली नंदिनी शासकीय कन्या इंटर कॉलेज (जीजीआईसी) की कक्षा 9 की छात्रा है।

वह कोविड -19 लॉकडाउन के दौरान अपने गणित शिक्षक प्रकाश भूषण मिश्रा से प्रेरित थीं, जब 'युवाओं के लिए जिम्मेदार एआई' परियोजना के तहत विशेष रूप से तैयार की गई वेबसाइट लॉन्च की गई थी।

उस समय वह अपने गांव के उच्च प्राथमिक विद्यालय में आठवीं कक्षा में थी।

नंदनी ने अपने मोबाइल फोन के जरिए ऑनलाइन क्लासेज लीं और अपना हुनर दिखाया। बाद में, उन्हें इंटेल इंडिया द्वारा एक लैपटॉप उपहार में दिया गया, जिसने उनकी प्रेरणा को और आगे बढ़ाया।

मिट्टी की खराब गुणवत्ता के कारण विषम फसल उत्पादन से संबंधित दिन-प्रतिदिन की समस्याओं को देखते हुए, नंदिनी ने इस मुद्दे पर अपना प्रोजेक्ट आधारित किया और इसे 'मिट्टी को जानो, फसल पहचानो' नाम दिया।

नंदिनी ने संवाददाताओं से कहा कि यह एक स्मार्ट डेटा-आधारित एआई उपकरण है जो इसमें मौजूद विभिन्न पोषक तत्वों का विश्लेषण करके मिट्टी के लिए सबसे उपयुक्त फसल की पहचान करता है। इस मॉडल को एक भौतिक मिट्टी का पता लगाने वाले उपकरण के रूप में तैनात किया जा सकता है जो किसानों को सही फैसला लेने में मदद करेगा।

उन्होंने समझाया कि मेरी एआई परियोजना की मदद से, मिट्टी से नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, तापमान, आद्र्रता सामग्री, पीएच मान और वर्षा की सामग्री के लिए डेटा पुनप्र्राप्त किया जाता है। मैंने अपने पिता सहित सभी किसानों को वर्षों से कम फसल उत्पादन की इस चुनौती का सामना करते देखा है।

मुख्य विकास अधिकारी (सीडीओ) ललितपुर, अनिल कुमार पांडे ने कहा कि यह जिले के साथ-साथ राज्य के सभी छात्रों के लिए एक बहुत ही प्रेरक कहानी है। उनके यहां आने के बाद हम न केवल उनका सम्मान करेंगे, बल्कि उनके लिए उदाहरण पेश करेंगे और अन्य छात्रों भी उनसे प्रेरित होंगे।

इस बीच, उनके किसान पिता, जमुना प्रसाद कुशवाहा, को अभी तक पता नहीं है कि उनकी बेटी ने इतनी बड़ी उपलब्धि हासिल की है।

उन्होंने कहा कि मैं जानता हूं कि उसे एक बड़ा पुरस्कार मिला है और मैं इसके लिए भगवान का शुक्रगुजार हूं। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement