UP Elections: Raja Bhaiya is facing a challenge from his own colleague-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 17, 2022 10:03 am
Location
Advertisement

यूपी चुनाव: राजा भैया को अपने ही सहयोगी से चुनौती का सामना करना पड़ रहा

khaskhabar.com : शुक्रवार, 11 फ़रवरी 2022 4:24 PM (IST)
यूपी चुनाव: राजा भैया को अपने ही सहयोगी से चुनौती का सामना करना पड़ रहा
प्रतापगढ़। निर्दलीय विधायक रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया लगभग तीन दशकों में पहली बार अपने ही निर्वाचन क्षेत्र कुंडा में चुनौती का सामना कर रहे हैं। राजा भैया इस सीट पर 1993 से जीतते आ रहे हैं और उनकी जीत का अंतर हर चुनाव के साथ बढ़ता ही गया है।

उन्होंने 2007 में बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की लहर, 2012 में समाजवादी पार्टी (सपा) और 2017 में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की लहर का सामना किया।

इस बार उन्हें उनके ही सहयोगी गुलशन यादव से चुनौती मिल रही है, जो सपा प्रत्याशी हैं। राजा भैया जनसत्ता दल के टिकट पर चुनाव लड़ रहे हैं-एक पार्टी जो उन्होंने दो साल पहले बनाई थी।

राजा भैया, जिन्होंने 2005 में मुलायम सिंह सरकार में मंत्री के रूप में कार्य किया था। हालांकि बाद में उन्होंने सपा के साथ अपना नाता तोड़ लिया, जब सपा ने 2019 में बसपा के साथ चुनावी समझौता किया था।

हाल ही में प्रतापगढ़ में जब राजा भैया के साथ गठबंधन की संभावना के बारे में सवाल किया गया तो अखिलेश ने कहा- कौन है राजा भैया?

सपा ने अब कुंडा के नगर पंचायत के पूर्व अध्यक्ष गुलशन यादव को मैदान में उतारा है, जो पहले राजा भैया के सहयोगी थे।

गुलशन यादव ने अब राजा के खिलाफ जोरदार अभियान छेड़ दिया है।

हालांकि राजा भैया ने गुलशन यादव पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया है।

सपा के खिलाफ अभियान के बारे में पूछे जाने पर वे कहते हैं, चलिए इसके बजाय दूसरे मुद्दों पर बात करते हैं।

भदरी और बैंती के वंशज राजा भैया अपने निर्वाचन क्षेत्र में प्रचार में व्यस्त हैं और इस बार उनके जुड़वां बेटे शिवराज और ब्रजराज भी अपने पिता के लिए प्रचार कर रहे हैं।

यह पहला मौका है जब उनके परिवार के अन्य सदस्य चुनाव प्रचार कर रहे हैं।

उनके बेटे अभी अपनी किशोरावस्था में हैं और उन्हें हाथ जोड़कर लोगों से समर्थन मांगते देखा गया है।

दिलचस्प बात यह है कि कुंडा में ओबीसी और दलितों का भारी बहुमत है - ठाकुरों का नहीं है - जैसा कि कई लोग मानते हैं।

राजा भैया को मजबूत हिंदू झुकाव वाले ठाकुर आइकन के रूप में देखा जाता है।

उनके पिता, राजा उदय प्रताप सिंह हिंदुओं के बीच उनकी धार्मिक और परोपकारी गतिविधियों के लिए जाने जाते हैं।

राजा भैया ने राम लला के दर्शन के बाद अयोध्या से अपने चुनाव अभियान की शुरूआत की थी।

उनकी पार्टी जनसत्ता दल जाति आधारित आरक्षण का विरोध करती है।

राजा भैया के समर्थक मानते हैं कि गुलशन यादव जिस तरह का प्रचार कर रहे हैं, उससे चुनावी माहौल बिगड़ रहा है, लेकिन इस बात पर भी जोर दिया कि इससे नतीजे पर कोई असर नहीं पड़ेगा।

जनसत्ता दल के महासचिव कैलाश नाथ मिश्रा ने कहा, यह लोकतंत्र है और हर कोई चुनाव लड़ सकता है। अगर कोई शातिर अभियान शुरू करना चाहता है, तो यह उनकी पसंद है। जनता अच्छी तरह से जानती है कि कौन उनके कल्याण के लिए काम करता है और कौन व्यक्तिगत लाभ के लिए यहां है।

अब जो बात राजा भैया के पक्ष में काम कर रही है, वह यह है कि उन्होंने अपने कट्टर कांग्रेसी नेता प्रमोद तिवारी, जो कि प्रतापगढ़ से भी ताल्लुक रखते हैं, के साथ बिगड़ी स्थिति को सुधार लिया है और इससे उनके संबंधित समर्थकों के बीच तनाव कम हो गया है।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement