Union Minister Smriti Irani defeats Congress President Rahul Gandhi from Amethi-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 4, 2020 10:00 am
Location
Advertisement

स्मृति ने इस तरह गढ़ी गांधी परिवार की परंपरागत सीट पर जीत की कहानी

khaskhabar.com : शनिवार, 25 मई 2019 2:10 PM (IST)
स्मृति ने इस तरह गढ़ी गांधी परिवार की परंपरागत सीट पर  जीत की कहानी
अमेठी। गांधी परिवार की परंपरागत संसदीय सीट अमेठी इस बार के आम चुनाव में भाजपा के पास चली गई। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी चुनाव हार गए हैं। भाजपा प्रत्याशी स्मृति ईरानी ने उन्हें 55,120 वोटों से परास्त कर इस सीट पर भगवा परचम लहरा दिया है। केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी इस सीट से दूसरी बार प्रत्याशी थीं। राहुल गांधी यहां से चौथी बार चुनाव मैदान में थे। 2014 के लोकसभा चुनाव में राहुल ने स्मृति को 1,07,000 वोटों के अंतर से हराया था।
गांधी को 408,651 वोट मिले थे, जबकि ईरानी को 300,748 वोट मिले थे। इस बार स्मृति ने बाजी पलट दी। सवाल उठता है कि आखिर स्मृति ने ये किया कैसे? स्मृति ने इसके लिए पूरे पांच साल मेहनत की, और एक-एक व्यक्ति को जोड़ने और एक-एक वोट को सहेजने का काम किया। अमेठी की राजनीतिक जानकार तारकेश्वर कहते हैं कि स्मृति ईरानी का अमेठी से लगातार जुड़ाव उन्हें जीत के द्वार पर खड़ा करता है। राहुल का जनता से दूर होना उन्हें हराता है। 2014 का चुनाव हारने के बाद स्मृति ईरानी यहां लगातार सक्रिय रहीं। उन्होंने गांव-गांव में प्रधानों और पंचायत सदस्यों को अपने साथ जोड़ा। यह उनके लिए कारगर साबित हुआ। हर सुख-दु:ख में अमेठी में सक्रिय रहना उन्हें राहुल से बड़ी कतार में खड़ा करता है।
उन्होंने बताया कि कांग्रेस का जिले में संगठन ध्वस्त हो गया था। राहुल महज कुछ लोगों तक ही सीमित रहे। यही कारण है कि चुनाव हार गए। वह पांच सालों में जनता से जुड़ नहीं पाए हैं।" तारकेश्वर बताते हैं, स्मृति ईरानी ने तीन अप्रैल को टिकट मिलने के बाद से ही गांव-गांव जाकर प्रचार किया है। उन्होंने एक दिन में 15-15 जनसभाएं की हैं। सपा, बसपा और कांग्रेस से नाराज लोगों को भी भाजपा ने अपने पाले में ले लिया। इसलिए इन्हें फायदा मिला। प्रधान, पूर्व प्रधान, कोटेदार सबको अपनी तरफ मिलाने का प्रयास किया है। सपा और बसपा का वोट राहुल गांधी को ट्रांसफर नहीं हो पाया, यह भी राहुल की हार का एक बड़ा कारण था।
आमतौर पर बाकी पार्टियां कांग्रेस को इस सीट पर वाकओवर देती आई हैं। लेकिन 2014 में भाजपा ने यहां से स्मृति ईरानी को उतारकर मुकाबले को काफी रोमांचक बना दिया, और इस बार उसने सीट पर कब्जा कर लिया। तारकेश्वर ने कहा कि केन्द्रीय योजनाएं शौंचालय, आवास योजनाओं का लाभ भी बहुत सारे लोगों को मिला है। सम्राट साइकिल का मुद्दा भी कांग्रेस की हार का बड़ा कारण बना है। इसे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भी कई बार जोर-शोर से उठाया।
संग्रामपुर के रमेश कहते हैं कि रोजगार अमेठी की बड़ी समस्या है। इस कारण लोग यहां से पलायन कर रहे हैं। इस बार राहुल गांधी ने ध्यान नहीं दिया। राजीव गांधी के समय शुरू की गई कई परियोजनाएं और कार्यक्रम राहुल के सांसद रहते एक एक करके बंद होते गए। इससे हजारों लोगों की रोजी-रोजगार पर असर पड़ा। इस पर ही अगर वह ध्यान दे लेते तो शायाद इतनी परेशानी न उठानी पड़ती।
संग्रामपुर के ही एक बुजुर्ग रामखेलावन कहते हैं कि जो प्यार हमें राजीव गांधी से मिला, शायद उनकी यह पीढ़ी हमें नहीं दे पाई है। ये हम लोगों की तरफ देखते भी नहीं हैं।" जामों ब्लॉक के चिकित्सक सुजीत सिंह राहुल के कार्यकाल में क्षेत्र की बिगड़ी चिकित्सा व्यवस्था को लेकर सवाल उठाते हैं। उन्होंने कहा, "राजीव गांधी जीवन रेखा एक्सप्रेस वर्ष में एक माह अमेठी के लिए आती थी। इसमें सारी चिकित्सा टीम होती थी, जो गरीबों का उपचार करती थी। यहां तक कि बड़े-बड़े आपरेशन भी होते थे। यह योजना सालों से बंद है, और इसे शुरू कराने के लिए राहुल ने कोई उचित कदम नहीं उठाए हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement