Stone Pelting Attack On The Squad That Went To Remove The Encroachment Nagore One Death-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Apr 16, 2021 4:27 am
Location
Advertisement

नागौर : ताऊसर में पुलिस के साथ अतिक्रमण हटाने गए घायल जेसीबी चालक की मौत

khaskhabar.com : रविवार, 25 अगस्त 2019 4:17 PM (IST)
नागौर : ताऊसर में पुलिस के साथ अतिक्रमण हटाने गए घायल जेसीबी चालक की मौत
ताऊसर। राजस्थान के नागौर (Nagaur) के ताऊसर गांव में अतिक्रमण हटाने (Encroachment Removal) पर मचे बवाल के बाद मामला और गंभीर हो गया है। ताऊसर बवाल मामले में पुलिस-प्रशासन चारों तरफ से घिर गया है। ताऊसर में तनाव बना हुआ है, वहीं दूसरी तरफ जेसीबी चालक की मौत के बाद उसके परिजन अस्पताल में हंगामा कर रहे हैं। दरअसल, पूरी सुरक्षा के साथ अतिक्रमण हटाने के पहुंचे पुलिस-प्रशासन (Rajasthan Police) की टीम पर हुए पथराव (Stone Pelting) की चपेट में आए जेसीबी चालक फारुख की मौत (JCB Driver Death) हो गई है। मौत से गुस्साएं मृतक के परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया है। वहीं, ताऊसर में तनाव के बीच भारी पुलिसबल और शीर्ष अधिकारी डटे हुए हैं। मामला बढ़ता देखकर पुलिस और प्रशासन की सांसें फूल गई हैं। इस बीच, नागौर सांसद हनुमान बेनीवाल ने पुलिस-प्रशासन को चेतावनी देते हुए कहा कि वह गरीबों के घर नहीं उजडऩे देंगे।

जेसीबी चालक की मौत पर अस्पताल में हंगामा...
दरअसल, रविवार को सुबह पुलिस-प्रशासन की एक टीम ताऊसर गांव की बंजारों की ढाणियों में अतिक्रमण हटाने लिए गया था। वहां बंजारा समाज के लोगों ने पुलिस-प्रशासन की कार्रवाई का विरोध किया और बाद में उन पर जबर्दस्त पथराव कर दिया। इस घटना में जेसीबी चालक फारुख गंभीर रूप से घायल हो गया था। उसे तत्काल नागौर के जेल अस्पताल भेजा गया, जहां उसकी मौत हो गई। दूसरी तरफ, बंजारा समाज के लोग काफी देर तक पुलिस पर पथराव करते रहे। इस पर पुलिस ने भीड़ को हटाने के लिए जवाबी कार्रवाई करते हुए लाठीचार्ज कर दिया था। इससे वहां और भगदड़ मच गई। लाठीचार्ज के दौरान भी कई लोग चोटिल हो गए।

जानिए क्या है मामला...
हाईकोर्ट के आदेश का पालन करते हुए स्थानीय प्रशासन की टीम पुलिस की सुरक्षा में अतिक्रमण हटाने गई थी। दो दर्जन से अधिक कच्चे-पक्के मकान को हटाने का प्रस्ताव था। अतिक्रमण हटाने के दौरान कानून व्यवस्था प्रभावित होने और भारी विरोध की आशंका पहले से थी। इसके चलते पुलिस-प्रशासन पूरी तैयारी के साथ वहां पहुंचा था। कार्रवाई के दौरान एडीएम, एसडीएम, एएसपी, तीन डीएसपी और तहसीलदार समेत 550 से अधिक पुलिसकर्मियों का जत्था तैनात किया गया था। पुलिस-प्रशासन ने भारी विरोध के बीच अतिक्रमण किए हुए काफी कच्चे-पक्के मकान ध्वस्त भी कर दिए थे। इस बीच, बंजारा समाज के लोगों द्वारा पथराव करने से हालात बिगड़ गए। कलक्टर-एसपी पूरे मामले पर नजर बनाए हुए हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement