Space technology dealing issues, challenges in NE states-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 25, 2021 6:41 am
Location
Advertisement

'अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी पूर्वोत्तर राज्यों में मुद्दों, चुनौतियों से निपटने में मददगार'

khaskhabar.com : रविवार, 25 जुलाई 2021 08:31 AM (IST)
'अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी पूर्वोत्तर राज्यों में मुद्दों, चुनौतियों से निपटने में मददगार'
शिलांग । केंद्रीय अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी, डोनर मंत्री जी. किशन रेड्डी ने शनिवार को कहा कि अंतरिक्ष विभाग और उत्तर पूर्वी परिषद (एनईसी) के संयुक्त उद्यम नॉर्थ ईस्टर्न स्पेस एप्लीकेशन सेंटर (एनईएसएसी) ने पूर्वोत्तर राज्यों को इस क्षेत्र के मुद्दों और चुनौतियों से निपटने में मदद की है। मेघालय के उमियाम में नेसैक मुख्यालय में 8 पूर्वोत्तर राज्यों के मुख्यमंत्रियों और शीर्ष अधिकारियों की एक बैठक को संबोधित करते हुए, पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास (डोनर) मंत्री ने कहा कि संगठन अपने समग्र विकास और रणनीतिक योजना के लिए पूरे क्षेत्र के लिए आवश्यक रणनीतिक इनपुट भी दे सकता है।

रेड्डी ने केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की अध्यक्षता में हुई बैठक में बताया कि 2014 से 2021 के बीच नेसैक की संपत्ति लगभग 41.6 करोड़ रुपये से बढ़कर 112 करोड़ रुपये हो गई है। उन्होंने कहा कि एनईएसएसी की गतिविधियां कृषि में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के व्यावहारिक अनुप्रयोगों और रेशम की खेती जैसे संबद्ध क्षेत्रों पर केंद्रित हैं, जहां यह बीमारियों का जल्द पता लगाने में मदद कर सकती है।

रेड्डी के पास संस्कृति, पर्यटन मंत्रालय भी हैं, उन्होंने कहा, जैसा कि हम सभी जानते हैं, शिलांग को अपनी प्राकृतिक सुंदरता के कारण 'पूर्व का स्कॉटलैंड' कहा जाता है। हालांकि, एनईएसएसी के प्रयासों से, मुझे यकीन है कि इसे जल्द ही 'पूर्व की अंतरिक्ष टेक राजधानी' के रूप में जाना जाएगा।

मंत्री ने कहा कि यह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दृष्टि थी कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के सभी राज्यों के पास अन्य राज्यों के समान अवसर हों, और ये शेष भारत के समान विकसित होते रहें। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
स�?थानीय ख़बरें
Advertisement