Ratangarh-Sujangarh Great Drinking Water Project will complete till 30 june 2018-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 2, 2020 12:57 pm
Location
Advertisement

रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद पेयजल परियोजना 30 जून तक होगी पूरी- मंत्री गोयल

khaskhabar.com : गुरुवार, 15 फ़रवरी 2018 4:24 PM (IST)
रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद पेयजल परियोजना 30 जून तक होगी पूरी- मंत्री गोयल
चूरू। जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री सुरेन्द्र गोयल ने गुरुवार को विधानसभा में बताया कि सुजानगढ़ विधानसभा क्षेत्र के 5 कस्बों एवं 256 गांवों की पेयजल समस्या को दूर करने के लिए शुरू की गई रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद पेयजल परियोजना को 30 जून 2018 तक पूरा कर लिया जाएगा और क्षेत्र में पेयजल की कोई कमी नहीं रहने दी जाएगी।

गोयल ने प्रश्नकाल के दौरान विधायकों द्वारा पूछे गए पूरक प्रश्नों के जवाब में बताया कि रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद पेयजल परियोजना के कार्यादेश के अनुसार पैकेज द्वितीय का कार्य 16 अगस्त 2016 तक पूर्ण करना निर्धारित था। इसका 94 प्रतिशत कार्य भैतिक रूप से अब तक पूर्ण हो चुका है और इसे 30 जून 2018 तक पूर्ण किया जाना अपेक्षित है।

उन्होंने कहा कि इस परियोजना के पैकेज प्रथम एव द्वितीय के कार्यों को निष्पादन करने वाली अनुबंधक फर्मों द्वारा परियोजना का कार्य धीमी गति से करने, पाइप लाइनों के बिछाने एवं जोड़ने के कार्य के लिए रेलवे लाइन एवं नेशनल हाइवे क्रॉसिंग की अनुमति देरी से प्राप्त होने के कारण परियोजना का कार्य निर्धारित अवधि में पूर्ण नहीं हो सका। उन्होंने कहा कि इसके लिए कंपनियों की 13.93 और 2.75 करोड़ रुपए की राशि विभाग द्वारा रोकी गई है।

गोयल ने कहा कि सुजानगढ़ में वर्ष 2014-15 में 76 ट्यूबवैल स्वीकृत किए गए थे, उनमें से 71 पूर्ण कर लिए गए हैं। इनमें से 13 ट्यूबवैल भूजल स्तर कम होने से सूख गए हैं। उन्होंने कहा कि भूजल विभाग द्वारा इनकी फिजिबिलिटी की जांच कर कार्यवाही की जाएगी।

उन्होंने कहा कि क्षेत्र में पेयजल की समस्या दूर करने के लिए 5 ट्यूबवैल की स्वीकृति तुरंत जारी कर दी जाएगी। उन्होंने कहा कि 4 हजार से ज्यादा आबादी के गांवों को पाइप लाइन से जोड़ने का काम किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आपणी योजना में पेयजल सशुल्क ही वितरित किया जाएगा।

इससे पहले विधायक खेमाराम द्वारा पूछे गए मूल प्रश्न के जवाब में जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री ने बताया कि विधान सभा क्षेत्र, सुजानगढ़ के 2 कस्बे क्रमशः सुजानगढ़ एवं बीदासर तथा 108 ग्राम, विधान सभा क्षेत्र, रतनगढ़ के 3 कस्बे रतनगढ़, छापर एवं राजलदेसर तथा 128 ग्राम तथा विधान सभा क्षेत्र, सरदारशहर के 20 ग्राम, इस प्रकार कुल 5 कस्बों एवं 256 ग्रामों की पेयजल समस्या के दीर्घकालिक उपायों के अंतर्गत रतनगढ़-सुजानगढ़ वृहद् पेयजल परियोजना की राशि रूपए 971.21 करोड़ की संशोधित प्रशासनिक एवं वित्तीय स्वीकृति 30 मई 2013 को जारी हुई थी।

गोयल ने बताया कि प्रथम पैकेज में सरदारशहर से सुजानगढ़ की मुख्य ट्रंक मेन एवं आपणी योजना के प्रथम चरण के धन्नासर से सरदारशहर सैक्शन का नवीनीकरण एवं तत्पश्चात् 10 वर्ष का संचालन व संधारण कार्य के लिए मैसर्स एन.सी.सी., हैदराबाद को 6 जुलाई 2012 को 249.75 करोड़ रुपए का कार्यादेश जारी किया गया। इसके अनुसार इसका कार्य 15 जनवरी 2015 तक पूर्ण करना निर्धारित था तथा इस पैकेज के समस्त कार्य 30 सितंबर 2016 को पूर्ण किए जा चुके हैं।

उन्होंने कहा कि द्वितीय पैकेज में ग्रामों में कलस्टर वितरण प्रणाली के कार्य के लिए मैसर्स एल एंड टी, चैन्नई को 7 अगस्त 2013 को 591.40 करोड़ रुपए का कार्यादेश जारी किया गया। इसके अनुसार इस पैकेज का कार्य 16 अगस्त 2016 तक पूर्ण करना निर्धारित था। उक्त पैकेज का कार्य वर्तमान में प्रगति पर है तथा इसका 94 प्रतिशत कार्य भौतिक रूप से अब तक पूर्ण हो चुका है। इस पैकेज का कार्य 30 जून 2018 तक पूर्ण किया जाना अपेक्षित है। इस परियोजना अंतर्गत विधान सभा क्षेत्र, सुजानगढ़ का कस्बा सुजानगढ़ तथा 9 गांवों को आंशिक रूप से अब तक लाभान्वित किया गया है। इसके अतिरिक्त विधान सभा क्षेत्र, रतनगढ़ के कस्बे छापर व रतनगढ़ एवं 8 गांवों को आंशिक रूप से तथा 41 ग्रामों को पूर्ण रूप से लाभान्वित किया गया है।

जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी मंत्री ने परियोजना के प्रगतिरत पैकेज-द्वितीय के अंतर्गत विधान सभा क्षेत्र, सुजानगढ़ के कस्बों एवं गांवों के लिए अब तक बिछाई व जोड़ी गई तथा शेष बिछाई एवं जोड़ी जाने वाली पेयजल वितरण पाइप लाइनों संबंधी वांछित ग्राम और शहरवार विवरण भी सदन की पटल पर रखा।

उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण परियोजना का कार्य 30 जून 2018 तक पूर्ण किया जाना अपेक्षित है। विधान सभा क्षेत्र, सुजानगढ़ के पाइप्ड जल योजना अंतर्गत पूर्व से लाभान्वित 24 ग्रामों में घरेलू जल संबंधों द्वारा तथा शेष 84 ग्रामों में परियोजना के प्रावधान के अनुरूप पीएसपी द्वारा पेयजल उपलब्ध कराया जाना अपेक्षित है। उन्होंने कहा कि उक्त परियोजना के पैकेज प्रथम का कार्य कार्यादेश अनुसार दिनांक 15 जनवरी 2015 तक पूर्ण करना निर्धारित था तथा इस पैकेज का कार्य 30 सिंतबर 2016 को पूर्ण किया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि विभाग द्वारा स्वीकृत एवं प्रगतिरत लक्ष्मणगढ़-फतेहपुर वृहद् पेयजल परियोजना के पैकेज-6 के अंतर्गत रतनगढ़-सुजानगढ़ परियोजना के लिए स्वच्छ पेयजल की शेष मांग की आपूर्ति के लिए ग्राम धन्नासर स्थित हैडवक्र्स पर स्वच्छ जलाशय का निर्माण (75 प्रतिशत कार्य पूर्ण), स्वच्छ जल एवं वाटर पम्प हाऊस का निर्माण (70 प्रतिशत कार्य पूर्ण), जल शोधन संयंत्र के निर्माण (75 प्रतिशत कार्य पूर्ण) एवं मुख्य ट्रंक पाइप लाइन बिछाने-जोड़ने का कार्य (94.50 प्रतिशत कार्य पूर्ण) संबंधित कार्य कार्यादेश अनुसार 24 मई 2016 तक पूर्ण करना निर्धारित था परन्तु अनुबंधक फर्म मैसर्स एस.पी.एम.एल. इन्फ्रा लिमिटेड, गुड़गांव द्वारा धीमी गति से करने के कारण परियोजना निर्धारित अवधि में पूर्ण करने में देरी हुई है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement