Ram Mandir construction: Politics begins for formation of Trust Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jan 26, 2020 1:38 pm
Location
Advertisement

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के ट्रस्ट में जगह पाने को लेकर राजनीति शुरू

khaskhabar.com : शनिवार, 16 नवम्बर 2019 11:21 AM (IST)
अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के ट्रस्ट में जगह पाने को लेकर राजनीति शुरू
इसका मुख्य कारण यह है कि न्यास 1990 के दशक की शुरुआत से ही मंदिर आंदोलन का नेतृत्व कर रहे थे और भाजपा नेता उनका काफी सम्मान करते हैं। राम जन्मभूमि के स्थल का प्रभार लेने और प्रस्तावित राम मंदिर के निर्माण की देखरेख के लिए जनवरी 1993 में विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के सदस्यों द्वारा एक स्वतंत्र ट्रस्ट के रूप में राम जन्मभूमि न्यास की स्थापना की गई थी। महंत रामचंद्र दास परमहंस 2003 में निधन होने तक न्यास के प्रमुख बने रहे। महंत नृत्य गोपाल दास अब न्यास के प्रमुख हैं और माना जा रहा है कि मोदी सरकार प्रस्तावित ट्रस्ट में न्यास के एक प्रतिनिधि को शामिल करेगी।

भाजपा के एक पूर्व सांसद रामविलास वेदांती ने पहले ही ट्रस्ट में जगह पाने के लिए अपने नाम को आगे करना शुरू कर दिया है और भाजपा नेता विनय कटियार के समर्थक उनके नाम का प्रचार कर रहे हैं। सूत्रों के मुताबिक, प्रस्तावित ट्रस्ट में मोदी की पसंद के एक वरिष्ठ नौकरशाह और एक वकील शामिल होंगे जो यह सुनिश्चित करेंगे कि गतिविधियां सुप्रीम कोर्ट के फैसले के अनुरूप हों।

चूंकि राम मंदिर उत्तर प्रदेश के अयोध्या में बनाया जाएगा, इसलिए राज्य से एक वरिष्ठ मंत्री या भाजपा नेता को भी शामिल करने की संभावना है।

और चूंकि प्रधानमंत्री ट्रस्ट के गठन को लेकर किसी भी तरह का विवाद नहीं चाहेंगे, इसलिए वे ट्रस्ट में कुछ अन्य गैर-विवादास्पद सदस्यों के अलावा सुप्रीम कोर्ट के एक सेवानिवृत्त न्यायाधीश या एक विद्वान को शामिल करेंगे।

2/3
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement