Rajasthan Architecture Festival - Delegates and guests did heritage walk in UNESCO World Heritage Site-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 29, 2022 12:47 am
Location
Advertisement

राजस्थान आर्किटेक्चर फेस्टिवल - डेलीगेट्स व मेहमानों ने की यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट में हेरिटेज वॉक

khaskhabar.com : रविवार, 22 मई 2022 2:10 PM (IST)
राजस्थान आर्किटेक्चर फेस्टिवल - डेलीगेट्स व मेहमानों ने की यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट में हेरिटेज वॉक
जयपुर । इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ आर्किटेक्ट्स-राजस्थान चैप्टर द्वारा 3 दिवसीय ‘राजस्थान आर्किटेक्चर फेस्टिवल’ के दूसरे दिन की शुरुआत जयपुर की चारदीवारी-यूनेस्को वर्ल्ड हेरिटेज साइट में हेरिटेज वॉक से की गई। जिसमें 200 से अधिक डेलीगेट्स व मेहमानों ने हिस्सा लिया। इस फेस्टिवल के दूसरे दिन ‘इमैजनिंग ए री-अडैप्टिव फ्यूचर’, ‘द आर्किटेक्चर ऑफ डेमोक्रेसी’, ‘कोअलेसिंग मॉर्डन मैटेरियल्स इन ए ट्रेडिशनल टरैन’ और ‘आर्किटेक्चर ट्रॉन्सर्फाेमेशन’ आदि जैसे विषयों पर विभिन्न सैशन्स आयोजित किये गये।
की-नोट सेशन को प्रस्तुत करते हुए दातो’ डॉ. केन येंग, टीआर हमजा और येंग एसडीएन बीएचडी, मलेशिया ने बताया कि, मनुष्य सभी प्रजातियों में सबसे शक्तिशाली हैं और वे दुनिया को बदल सकते हैं। उन्होने बताया कि प्रकृति समय के साथ ठीक हो जाती है और यह परवाह नहीं करती है और इसलिए पर्यावरण को मानव निर्मित इको सिस्टम तंत्र के रूप में रीमेक करने की जरूरत है।
‘इमेजिनिंग ए री-अडैप्टिव फ्यूचर’ विषय पर नीमराना होटल्स के को-फाउंडर और को-चैयरमैन, अमन नाथ ने कहा कि, “नीमराना के लिए आस-पास के लोग हमेशा पहले आते हैं। उन्हें पहले रीस्टोर या निर्माण के लिए प्रशिक्षित किया जाता है और फिर मेहमानों का दिल से स्वागत करने का अधिकार दिया जाता है। उनके अनुसार, भारत में काम कराने और करने के लिए सबसे प्रतिभाशाली लोग हैं और उन्होंने मराठा, चौहान, जाट, सिख आदि की संपत्ति को रिस्टोर करने के लिए कदम रखा है क्योंकि जितना अधिक आप भारत में करते हैं, उतना ही कम होता है। उन्होंने यह भी कहा कि राजस्थान में रि-स्टोरेशन करने के लिए आपको बेहद जिद्दी होना होगा और अपनी विरासत को रिस्टोर करने के लिए रिश्वत नहीं देनी होगी।
आभा नरेन लांबा एसोसिएट्स की आभा नरेन लांबा ने अपने विचार व्यक्त करते हुए बताया कि, मेरे अनुसार एडेप्टेशन को शुरुआती स्तर पर होने की आवश्यकता नहीं है, यह शहर या कस्बे से भी शुरू हो सकता है। उनके अनुसार, हेरिटेज बिल्डिंग संपत्ति हो सकती है न कि देनदारी। जब हम पश्चिम में ऐसे स्थानों को देखते हैं जिन्हें रिस्टोर किया गया है तो हम भारत में ऐसा क्यों नहीं कर सकते? उन्होने यह भी उल्लेख किया कि भारत में, हम अपनी विरासत संपत्तियों को एक बूढ़ी विधवा की तरह देखते हैं, जिसे हम कुछ भी करने के बजाय मरने देना पसंद करते हैं।
एआरसीएशिया के प्रेसीडेंट, डॉ. अबु सईद एम अहमद ने कहा कि, भारत और बांग्लादेश में संरक्षण प्रक्रिया के बीच बहुत अंतर है। बांग्लादेश में धन, विचारों और समझ की कमी है। इमारत बाहर से अंग्रेजी लग सकती है लेकिन अंदर से वे सभी बंगाली हैं। वहां प्रमुख रूप से अधिकांश संग्रहालयों को संग्रहालयों में ही परिवर्तित किया जाना है। उनके अनुसार, युवा और अगली पीढ़ी के लिए जीर्णाेद्धार किया जाना चाहिए ताकि वे अपनी विरासत और वास्तुकला के बारे में भी समझ सकें।”
डीडी आर्किटेक्ट्स स्टूडियो के विनोद कुमार एमएम ने अपने विचार व्यक्त करते हुये बताया कि, हमें आर्किटेक्ट्स के रूप में यह भी बात करने की ज़रूरत है कि हम पर्यावरण और जलवायु का नुकसान करते हैं क्योंकि हमारे द्वारा इस्तेमाल की गई 40 प्रतिशत उत्पाद कार्बन और पर्यावरण के अनुकूल नहीं हैं इसलिए हमें आर्किटेक्ट समुदाय के रूप में हमारी शैली को फिर से री-एडेप्ट करने की आवश्यकता है।
‘द आर्किटेक्चर ऑफ डेमोक्रेसी’ विषय पर सैशन को संबोधित करते हुए, आर्किटेक्चर काउंसिल के प्रेसीडेंट, हबीब खान ने वास्तुकला उद्योग में लोकतंत्र पर व्यंग्य करके अपने भाषण की शुरुआत की। उन्होंने कहा कि जैसे-जैसे समय बीत रहा है, सार्वजनिक सभाओं की मेजबानी करने वाले स्थानों में कमी आ रही है। बड़े और विशाल सार्वजनिक सभा क्षेत्रों को निजी संपत्तियों द्वारा प्रतिस्थापित किया जा रहा है और यह प्रथा सभी क्षेत्रों में आक्रामक रूप से प्रचलित है। उन्होंने आगे कहा कि वास्तुशिल्पीय व्यवस्था में लोकतंत्र को बढ़ावा देने के लिए जनता को अधिक से अधिक स्थान उपलब्ध कराने से बेहतर कार्य हो सकता है। उनके अनुसार वास्तुकला में लोकतंत्र को जोड़ने के लिए पुरानी झीलों, पुस्तकालय, अखाड़ा और अन्य सामाजिक स्थलों को फिर से जीवंत करने की आवश्यकता है। उन्होंने इस अवधारणा को एक सामान्य अच्छी अवधारणा का नाम दिया।

मेहता एंड एशोसियेट के जितेन्द्र मेहता ने अपने संबोधन के दौरान बताया कि साल 2005 में इंदौर में स्थानीय लोग और विशेषकर महिलाओं के लिए परिवहन की दुरूस्त व्यवस्थायें नहीं थी। शहर में परिवहन को मजबूत करने के लिए, बीआरटीएस का प्रस्ताव पेश किया गया। उन्होंने बताया कि वर्तमान में इंदौर शहर में 42 बसें सुचारू रूप से काम कर रही हैं, जिसका इस्तेमाल रोजाना लगभग 60,000 लोग करते हैं। स्वच्छ शहर की कैटेगरी में अव्वल स्थान प्राप्त करने पर इंदौर शहर के बारें में आगे बताते हुये उन्होंने कहा कि, उनकी दूसरी परियोजना रिवर फ्रंट डेवलपमेंट थी जो मुख्य रूप से नदी की सफाई पर केंद्रित थी जो कचरे के कारण अशुद्ध और प्रदूषित थी। उन्होंने और उनकी टीम ने नदी को स्वच्छ बनाने में लोगों की भागीदारी बढ़ाने वाले कार्यक्रमों के साथ काम किया। स्थानीय लोगों के लिए बहुत सारे हरे भरे स्थान और लॉन बनाए गए थे और इंदौर को देश के सबसे स्वच्छ शहरों में से एक बनाने में महत्वपूर्ण कदम में से एक था।


‘क्रिटिंग स्पेसस विथ एम्पथी’ पर बोलते हुए शिरीष बेरी एंड एसोसिएट्स और प्रकृति प्रेमी वास्तुकार शिरीष बेरी ने कहा कि, हमें सहानुभूति के साथ रिक्त स्थान बनाना चाहिए, लेकिन पैसे के स्वार्थ और लालच के साथ नहीं जो कुछ महीनों तक ही टिकता है। कई उदाहरणों के माध्यम से उन्होने बताया कि कैसे उस जगह पर मौजूद प्रकृति के किसी भी हिस्से (जीवित या निर्जीव) को बिना हटाये कैसे अस्पतालों, संस्थानों, घरों आदि सहित शानदार जगहों का निर्माण किया गया। इन साइटों पर मौजूद सब कुछ संरचना में शामिल था और इंटरैक्टिव रिक्त स्थान बनाए गए थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement