Railway line ready to run with electricity-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Mar 20, 2019 7:40 am
Location
Advertisement

बिजलीसे चलने के लिए तैयार हो गई है रेलवे लाइन

khaskhabar.com : शुक्रवार, 11 जनवरी 2019 8:43 PM (IST)
बिजलीसे चलने के लिए तैयार हो गई है रेलवे लाइन
कैथल। हरियाणा के उत्तरी हिस्से में कुरुक्षेत्र से जींद व राजस्थान की तरफ जानने वाला रेलवे ट्रैक अब बिजली से चलने के लिए रेल तैयार हो गया है। पिछले काफी सालों से कुरुक्षेत्र कैथल जींद के लोगों की यह मांग रही है। कि उनका यह रेलवे ट्रैक बिजलीकरण वाला हो जाए। जो अब जाकर पूर्ण हो गया है। उत्तर रेलवे के कमिश्नर शैलेश कुमार पाठक ने इस बिजली से वाले रेलवे ट्रैक का निरीक्षण किया और निरीक्षण में यह पाया गया कि इस ट्रक पर अब बिजली वाली ट्रेन चल सकेंगी।

उन्होंने कहा कि आने वाले कुछ ही दिनों में यह बिजली से चलने वाली ट्रेनों से यात्रियों को सुविधाएं देगा। कैथल रेलवे कमेटी के लोगों का कहना है। कि हमारी यह मांग पिछले काफी वर्षों से चली आ रही थी जो अब जाकर पूरी हुई है इससे ना ही सरकार को पैसों की बचत होगी। बल्कि जो यात्री इस रूट पर रेल से यात्रा करते हैं उनको साफ स्वच्छ व कम समय में होने वाली यात्रा का लाभ मिलेगा। रेलवे कमिश्नर ने बताया कि गाड़ियों की संख्या को देखते हुए यहां पर कुछ समय बाद गाड़ियों की संख्या भी बढ़ाई जा सकती है और जो अन्य खामी इस रूट पर है उनको भी वह जल्द पूरा किया जाएगा।

रेल कल्याण समिति के चेयरमैन सातपाल गुप्ता और सरक्षक अनुराग सिक्का ने कहा कि उन्होंने जनता के हितों के लिए रेलवे से जुडी कुछ मांगो का मांग पत्र रेलवे कमिश्नर शैलेश कुमार पाठक को देकर उन्हें जल्द पूरा करने की मांग की है। उल्लेखनीय कि कैथल शहर हरियाणा का सबसे पुराना शहर है जिसमें कपास गेहूं, चना ,की मंडी लगाई जाती थी । लेकिन यातायात के साधनों के अभाव के कारण यह शहर गेहूं चना कपास के आयात निर्यात के लिए पिछड़ गया।

जिसका एक बड़ा कारण रेलवे विभाग भी माना जाता था क्योंकि यहां पर रेलवे विभाग द्वारा सम्मान दूसरे राज्यों में पहुंचने में बहुत परेशानियां यहां के व्यापारियों को आती थी। लेकिन अब लोगों को उम्मीद है कि हमारे शहर में अब एक नया व्यापार उद्योग जन्म लेगा। हम बताना चाहते हैं कि जो यह रेलवे ट्रैक है यह अंग्रेजों के समय का रेलवे ट्रैक है और जो यह स्टेशन कैथल में बनाया गया था यह अंग्रेजो के द्वारा ही बनाया गया था।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement