Rafale aircraft to be landing in Ambala, Air Force chief RKS Bhadoria will receive-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 27, 2020 12:48 pm
Location
Advertisement

अंबाला एयरबेस पर लैंड हुए पांचों लड़ाकू विमान, रक्षा मंत्री ने ट्वीट कर बोली ये बड़ी बात

khaskhabar.com : बुधवार, 29 जुलाई 2020 4:43 PM (IST)
अंबाला एयरबेस पर लैंड हुए पांचों लड़ाकू विमान, रक्षा मंत्री ने ट्वीट कर बोली ये बड़ी बात
नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना की शक्ति आज कई गुना मजबूत हाेने वाली है। बता दें कि कई सालों से जिस लड़ाकू विभान का इंतजार था, वो राफेल विमान आज भारत पहुंच गया है। हरियाणा के अंबाला एयरबेस में बुधवार को राफेल विमान लैंड हुए, जहां उनका स्वागत वाटर सैल्यूट के साथ किया गया।


Update


:- हरियाणा: अंबाला एयरबेस पर राफेल लड़ाकू विमान को वाटर सैल्यूट दिया गया। आज 5 राफेल विमान अंबाला एयरबेस पहुंचे हैं।

:- हरियाणा: अंबाला एयरबेस पर उतरता राफेल विमान

:- हरियाणा: राफेल विमानों का पहला बैच अंबाला पहुंचा।

:- रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्वीट कर कहा, राफेल अंबाला में सुरक्षित लैंड कर चुके हैं। भारत में राफेल लड़ाकू विमानों का आना हमारे सैन्य इतिहास में एक नए युग की शुरुआत है। ये मल्टीरोल विमान भारतीय वायुसेना की क्षमताओं में क्रांतिकारी बदलाव लाएंगे।

:- हरियाणा: पांच राफेल लड़ाकू विमान अंबाला पहुंचे।

:- भारतीय राफेल ने पश्चिमी अरब सागर में तैनात भारतीय नौसेना के युद्धपोत INS कोलकाता से संपर्क किया।

:- हरियाणा के अंबाला एयरबेस पर 5 राफेल लड़ाकू विमानों का पहला बैच आज दोपहर 2 बजे आने की उम्मीद है, वायुसेना प्रमुख इस दौरान अंबाला एयरबेस पर मौजूद रहेंगे।

:- जब राफेल विमान अंबाला पहुंचेंगे, तो उन्हें वाटर सैल्यूट दिया जाएगा।


भारतीय पायलटों को दिया गया है खास प्रशिक्षण

राफेल विमानों को उड़ाने के लिए भारतीय वायुसेना के पायलटों को खास प्रशिक्षण दिया गया है। साल 2018 में इस विशेष प्रशिक्षण के लिए एक फाइटर पायलट, एक इंजीनियर और चार तकनीकी विशेषज्ञों को पहले ग्रुप में चुना गया था। यह प्रशिक्षण कार्यक्रम वर्तमान में भी चल रहा है। इसके लिए अभी पांच राफेल विमानों को फ्रांस में ही रखा गया है। वायुसेना के 12 लड़ाकू पायलटों ने फ्रांस में राफेल लड़ाकू जेट पर अपना प्रशिक्षण पूरा कर लिया है।


राफेल विमानों की फोटोग्राफी पर प्रतिबंध

हरियाणा के अंबाला शहर में एक हवाई अड्डे पर पांच राफेल विमानों के उतरने से कुछ घंटे पहले स्थानीय प्रशासन ने प्रतिबंधात्मक आदेश जारी किया। इसमें वायुसेना संपत्ति और राफेल हवाई जहाजों की फोटोग्राफी पर प्रतिबंध लगा दिया गया, साथ ही सुरक्षा को भी बढ़ाया गया। ये निषेधात्मक आदेश पूरे दिन लागू रहेंगे। यहां तक कि मीडियाकर्मियों के लिए राफेल विमान के वीडियो और तस्वीरें लेने को भी वर्जित किया गया है।

एक आदेश में कहा गया है, वायु सेना स्टेशन के आसपास के इलाकों में असामाजिक तत्वों की आवाजाही और इस इवेंट के दौरान आसपास के गांवों के घरों से तस्वीरें लेने वाले मीडियाकर्मियों से इंकार नहीं किया जा सकता है। यह सुरक्षा को खतरे में डाल देगा। राफेल विमान के यहां आने के दौरान अंबाला वायुसेना स्टेशन की सुरक्षा सुनिश्चित करना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है। आदेश में कहा गया है कि एयर बेस धुलकोट, बलदेव नगर, गरनाला और पंजोखरा और राष्ट्रीय राजमार्ग

1-ए सहित गांवों से घिरा हुआ है।

जिला मजिस्ट्रेट द्वारा हस्ताक्षर किए गए आदेश में लिखा है, "दंड प्रक्रिया संहिता, 1973 की धारा 144 के आधार पर मुझमें निहित शक्तियों का प्रयोग करते हुए, मैं 29 जुलाई को वायुसेना स्टेशन अंबाला की किसी भी संपत्ति की फोटोग्राफी को तत्काल प्रभाव से सुबह से शाम तक के लिए प्रतिबंधित करता हूं।"

रक्षा मंत्रालय के एक बयान में कहा गया है कि राफेल के अधिस्थापन के औपचारिक समारोह की योजना बाद में बनाई जाएगी। बयान में आगे कहा गया, आज (29 जुलाई) की आवश्यकता यह सुनिश्चित करना है पायलट और ग्राउंड क्रू पूरी तत्परता से जल्द से जल्द इस पूरे एयरफोर्स ऑपरेशन के लिए साथ हो जाएं। बयान में कहा गया, यह देश के हित में है। इसमें भारतीय वायुसेना और चालक दल शामिल हैं और फिलहाल इसे मीडिया की चकाचौंध से दूर रखा गया है। उन्होंने कहा, यह जरूरी है कि लड़ाकू विमानों के साथ-साथ सहायता दल भी तेजी से और सुरक्षित तरीके से अपने काम करे, इसके लिए स्टेशन अधिकारियों को अपना पूरा ध्यान मिशन में लगाना आवश्यक है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement