Punjab Civic Election Results: Congress dominates many cities including Rajpura, AAP opened account -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Apr 16, 2021 5:28 am
Location
Advertisement

पंजाब शहरी निकाय चुनाव - कांग्रेस को 7 निगमों में मिली जीत

khaskhabar.com : बुधवार, 17 फ़रवरी 2021 4:00 PM (IST)
पंजाब शहरी निकाय चुनाव - कांग्रेस को 7 निगमों में मिली जीत
चंडीगढ़। पंजाब में स्थानीय निकाय चुनाव के बुधवार को घोषित परिणाम के मुताबिक, कांग्रेस ने सात नगर निगमों में शानदार जीत दर्ज की। किसानों के विरोध के बीच, पंजाब में सत्तारूढ़ कांग्रेस ने स्थानीय निकाय चुनावों में बड़ी बढ़त हासिल कर ली है, जबकि केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर गुस्से का सामना कर रही भाजपा का प्रदर्शन निराशाजनक रहा।

कांग्रेस ने अबोहर में 50 वार्ड में से 49 जीते, जबकि शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने एक वार्ड में जीत दर्ज की। कांग्रेस ने मोगा, होशियारपुर, कपूरथला, अबोहर, पठानकोट, बटाला और बठिंडा में जीत दर्ज की।

होशियारपुर के 50 वार्ड में से, कांग्रेस ने 31 वार्ड जीते। भारतीय जनता पार्टी ने चार वार्ड जीते, जबकि आम आदमी पार्टी (आप) ने दो जीते। हालांकि, शिअद और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) ने कोई वार्ड नहीं जीता।

मोगा में, कांग्रेस ने 50 वार्ड में से 20 जीते, जबकि शिअद 15 वार्ड में जीत के साथ दूसरे स्थान पर रही। निर्दलीय उम्मीदवारों ने 10 वार्ड जीते, जबकि आप और भाजपा ने क्रमश: चार और एक वार्ड जीते।

भवानीगढ़ नगरपालिका परिषद में, कांग्रेस ने 15 में से 13 सीटें जीतीं, जबकि शिअद और निर्दलीय ने एक-एक सीट जीती। भाजपा और आप किसी भी सीट को हासिल करने में विफल रहे।

चुनाव अधिकारियों ने बताया कि 116 शहरी स्थानीय निकायों के लिए कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना जारी है।

बूथ कैप्चरिंग और झड़प के आरोपों के बीच, राज्य में 14 फरवरी को 39,15,280 मतदाताओं के साथ 71.39 प्रतिशत मतदान हुआ था।

मोहाली में अनियमितताओं की रिपोर्ट के कारण दो बूथों में रिपोलिंग के बाद नगर निगम के लिए मतगणना गुरुवार को होगी।

शहरी स्थानीय निकायों में मुख्य मुकाबला कांग्रेस, विपक्षी आम आदमी पार्टी (आप) और शिरोमणि अकाली दल (शिअद) के बीच है।

विवादित केंद्रीय कृषि कानूनों को लेकर किसानों के विरोध का सामना कर रही भाजपा भी मैदान में है। यह अकालियों के बिना दो दशकों में पहली बार चुनाव लड़ रहा है, जो एनडीए के सबसे पुराने सहयोगी हैं, जिन्होंने कृषि कानूनों को लेकर पार्टी से किनारा कर लिया।

कस्बों और शहरों के स्थानीय मुद्दे भी चुनाव प्रचार के दौरान हावी रहे थे।

सात नगर निगमों अबोहर, बठिंडा, बटाला, कपूरथला, होशियारपुर, पठानकोट और मोगा - और 109 नगरपालिका परिषदों और नगर पंचायतों के लिए मतगणना शुरू हुई।

2,302 वाडरें के लिए कुल 9,222 उम्मीदवार मैदान में थे।

राजनीतिक समीक्षकों का कहना है कि विधानसभा चुनाव से ठीक एक साल पहले ये चुनाव अमरिंदर सिंह की अगुवाई वाली कांग्रेस सरकार के लिए एक सेमीफाइनल है, जो कृषि कानूनों के खिलाफ लोगों की नाराजगी को अपनी भुनाने की कोशिश में है।

मतगणना की पूर्व संध्या पर, मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने चुनाव में धांधली के आरोप पर भाजपा और आप पर निशाना साधा।

मुख्यमंत्री ने कहा, "इन चुनावों में यह उनकी घबराहट की प्रतिक्रिया है।"

अमरिंदर सिंह ने कहा कि इन सभी दलों ने पंजाब को बर्बाद करने के लिए एक साथ काम किया है। काला कृषि कानून इसमें नवीनतम है।

यह चुनावी परिणाम ऐसे समय में सामने आए हैं, जब केंद्रीय कृषि कानूनों के विरोध में नवंबर से दिल्ली की सीमाओं पर हजारों किसान डेरा डाले हुए हैं।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement