Political compulsions not hurdle in defeating Modi: Chandrababu Naidu-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 19, 2019 9:17 am
Location
Advertisement

मोदी को हराने के लिए राजनीतिक मजबूरियां बाधा नहीं : चंद्रबाबू नायडू

khaskhabar.com : गुरुवार, 04 अप्रैल 2019 1:20 PM (IST)
मोदी को हराने के लिए राजनीतिक मजबूरियां बाधा नहीं : चंद्रबाबू नायडू
विशाखापत्तनम। आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने कहा कि विपक्षी पार्टियों में कुछ राजनीतिक और विचारधारा स्तर की बाधाएं हो सकती हैं, लेकिन आम सहमति नरेंद्र मोदी सरकार को हराने की है और ‘कोई भी उनसे बेहतर प्रधानमंत्री हो सकता है।’

यहां एक विशाल रैली के बाद, आईएएनएस से बातचीत करते हुए नायडू ने कहा कि वह बीते 40 साल से राजनीति में है और नेशनल फ्रंट, युनाइटेड फ्रंट, संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) और राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के साथ उन्होंने काम किया है।

उन्होंने कहा, ‘‘हमेशा विचारधारा के स्तर पर बाधाएं होती हैं। लोग काम कर रहे हैं। अब इसमें लोकतांत्रिक बाध्यताएं भी जुड़ गई हैं। नरेंद्र मोदी सभी संवैधानिक संस्थाओं का दुरुपयोग कर रहे हैं। चाहे यह सीबीआई हो, ईडी या आयकर विभाग या आरबीआई हो।’’

नायडू ने कहा, ‘‘वह नेतृत्व को नष्ट कर रहे हैं, चाहे वह राजनीतिक नेतृत्व हो, कॉरपोरेट नेतृत्व हो या मीडिया नेतृत्व हो। इसीलिए भारत प्रगति नहीं कर रहा है। हम आर्थिक रूप से फिसलते जा रहे हैं। रोजगार में पिछड़ रहे हैं। कृषि क्षेत्र खस्ता हालत में है। अगर आप पहले के गठबंधनों के प्रधानमंत्रियों को देंखें, चाहे वह गठबंधन सरकार हो, बहुमत या अल्पमत सरकार हो, सभी ने उनसे (मोदी से) अच्छा काम किया है।’’

विपक्षी दलों में मतभेदों की पृष्ठभूमि में उनके प्रधानमंत्री उम्मीदवार के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘वे (भाजपा नेता) लगातार कह रहे हैं कि नरेंद्र मोदी का विकल्प कौन है। लेकिन, कोई भी विकल्प है, नरेंद्र मोदी की तुलना में बेहतर विकल्प है।’’

मोदी पर एक ‘सिंगल मैन शो’ चलाने का आरोप लगाते हुए तेलुगू देशम पार्टी प्रमुख ने कहा कि वह देश के लिए हर नकारात्मक चीज कर रहे हैं।

उन्होंने कहा, ‘‘अब, देश का खून बह रहा है, आप मजा ले रहे हैं। आपके पास कोई नैतिकता, मूल्य नहीं है। व्यक्ति को उदारचरित होना चाहिए। प्रधानमंत्री को एक स्टेट्समैन होना चाहिए, न कि एक छोटी मानसिकता वाला राजनेता। यही वजह है, जिससे हम सभी उनसे अलग मत रखते हैं। चुनाव के बाद भी, कोई भी नरेंद्र मोदी को पसंद नहीं करता है।’’

प्रधानमंत्री द्वारा उन्हें ‘यू टर्न’ राजनेता कहे जाने पर नायडू ने कहा, ‘‘किसने ‘यू टर्न’ लिया है? आपने (नरेंद्र मोदी ने) यू टर्न लिया है, मैंने नहीं। मैं सीधा चलता हूं, सही टर्न लेता हूं।’’

नायडू ने कहा कि मोदी ने आंध्र प्रदेश व उन्हें राज्य को विशेष राज्य का दर्जा देने का वादा पूरा नहीं कर धोखा दिया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री ने तिरुपति में वादा किया था कि बंटवारे की वजह से हम आंध्र प्रदेश के साथ विशेष राज्य की तरह व्यवहार करेंगे। क्या इसे पूरा किया गया? चार वर्षों तक मैंने इंतजार किया। मैं उनसे और उनके मंत्रियों से 29 बार मिला।

नायडू ने कहा, ‘‘उन्होंने मुझे धोखा दिया। उन्होंने आंध्र प्रदेश के साथ अन्याय किया। इस तरह की बातें करना बहुत दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने यू टर्न लिया है, मैंने नहीं।’’

उनके ‘मोदी हटाओ’ आह्वान के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि एक बार लोग निर्णय कर लेंगे, तो नेता कोई मायने नहीं रखेगा।

नायडू ने कहा, ‘विभिन्न राज्यों और विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के जो भी नेता मोदी या भाजपा के खिलाफ लड़ेंगे, लोग उन्हें वोट देंगे। मैंने ऐसा पहले देखा है। पूरे देश में एक ही लहर है। जम्मू एवं कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक वही ट्रेंड जारी है।’’

नायडू ने कहा, ‘‘लोग उन्हें तरजीह देंगे जो भाजपा को हराएगा। पिछली बार, भाजपा चारों विधानसभा चुनाव में हार गई थी। लोगों कभी परेशान नहीं होते। उन्होंने कभी नहीं सोचा कि नरेंद्र मोदी को वहां होना चाहिए। ये क्या दिखाता है?’’

उन्होंने कहा, ‘‘बीते पांच वर्षों में, क्या कोई भी उपचुनाव उन्होंने जीता है? कुछ जगहों पर सपा और बसपा, तेदेपा और तृणमूल कांग्रेस ने जीत दर्ज की। क्या उनके लिए दक्षिण भारत में कोई जगह है? वे आज एक नफरत करने वाली पार्टी हैं।’’
(आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement