Political Advisor to former Chief Minister Hooda, Prof. Virendra Singh acquitted of treason charges-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jan 19, 2020 12:50 pm
Location
Advertisement

पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा के राजनीतिक सलाहकार प्रो. वीरेंद्र सिंह देशद्रोह के आरोपों से बरी

khaskhabar.com : शनिवार, 07 दिसम्बर 2019 7:43 PM (IST)
पूर्व मुख्यमंत्री हुड्डा के राजनीतिक सलाहकार प्रो. वीरेंद्र सिंह देशद्रोह के आरोपों से बरी
निशा शर्मा
चंडीगढ़।
हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा के राजनीतिक सलाहकार रहे प्रोफेसर वीरेंद्र सिंह समेत तीन आरोपियों को रोहतक एडीजे कोर्ट ने देशद्रोह के आरोपों से मुक्त कर दिया है। एडीजे ऋतु बहल की कोर्ट ने यह फैसला सुनाया। प्रो. वीरेंद्र के अलावा जयदीप धनखड़ और कैप्टन मान सिंह पर 24 फरवरी 2016 को देशद्रोह, अंतरजातीय दुर्भावना, प्रॉपर्टी को नुकसान पहुंचाने के आरोपों के तहत मामला दर्ज किया गया था। जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान यह मामला एक भड़काऊ ऑडियो के सामने आने के बाद दर्ज किया गया था।
प्रो. वीरेंद्र सिंह के वकील जेके गक्खड़ के मुताबिक जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान 18 फरवरी, 2016 को एक ऑडियो वायरल हुआ था। इसी को आधार बना कर पुलिस ने छह दिन बाद प्रो. वीरेंद्र समेत तीन लोगों पर मामले दर्ज किए गए थे। अदालत में बहस के दौरान बताया गया कि प्रो. वीरेंद्र ने जयदीप धनखड़ का फोन लेकर मानसिंह को कहा था कि यहां सब शांतिपूर्ण चल रहा है, अपने इलाकों में संभालो। कोर्ट को यह बताया गया कि किसी का फोन लेकर यह बात कहने को कैसे देशद्रोह कहा जा सकता है? इसके बाद कोर्ट ने आरोपियों को दोष मुक्त कर दिया।
गौरतलब है कि जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान प्रो. वीरेंद्र का एक ऑडियो वायरल हुआ था। इस आधार पर उनके अलावा दो अन्य लोगों पर दंगा भड़काने के आरोप लगाते हुए विभिन्न धाराओं के तहत मामले दर्ज कर लिए गए थे। खुद मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा था कि जाट आरक्षण आंदोलन के बहाने उनकी सरकार को अस्थिर करने की कोशिश की गई थी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement