It is necessary to fight dynastic politics to save democracy: PM Modi-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 1, 2022 8:00 am
Location
Advertisement

लोकतंत्र को बचाने के लिए वंशवादी राजनीति से लड़ना जरूरी: PM मोदी

khaskhabar.com : शुक्रवार, 20 मई 2022 3:56 PM (IST)
लोकतंत्र को बचाने के लिए वंशवादी राजनीति से लड़ना जरूरी: PM मोदी
जयपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को कांग्रेस का नाम लिये बगैर उस पर कटाक्ष करते हुए कहा कि वह वंशवादी राजनीति को महत्व देती है, जो लोकतंत्र के लिए खतरनाक है।

जयपुर में आयोजित भाजपा पदाधिकारियों की बैठक को प्रधानमंत्री ने डिजिटली संबोधित किया।

मोदी ने इस अवसर पर परिवारवादी राजनीतिक दलों से बचने की चेतावनी देते हुए कहा कि उन्होंने देश का बहुत अधिक कीमती समय बर्बाद किया है और देश को क्षति पहुंचाई है।

उन्होंने कहा कि वंशवादी राजनीति करने वाली पार्टियां देश को सिर्फ पीछे ले जाना चाहती हैं क्योंकि उनकी जिंदगी परिवार से शुरू होकर परिवार पर ही खत्म होती है।

मोदी ने 40 मिनट से अधिक समय तक भाजपा पदाधिकारियों को संबोधित किया। उन्होंने भाजपा नेताओं से आग्रह किया कि वे ऐसे नये सदस्यों को पार्टी से जोड़ें, जिनका परिवार राजनीति में नहीं रहा हो।

उन्होंने कहा,''हमें ऐसे लोगों को भाजपा में मौका देना चाहिए इसीलिए ऐसे लोगों को पार्टी से जोड़ें। हमें यह याद रखना होगा कि वंशवादी राजनीति से धोखा खाये लोगों का भरोसा सिर्फ भाजपा ही कायम कर सकती है। वंशवादी राजनीति ने देश में भ्रष्टाचार को बढ़ावा दिया है। लोकतंत्र को बचाने के लिए हमें वंशवादी राजनीति के खिलाफ लड़ना होगा।''

मोदी ने कहा कि वंशवादी राजनीति करने वाली राजनीतिक पार्टियां महात्मा गांधी के दृष्टिकोण के खिलाफ काम कर रही हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा,''लेकिन इस वंशवादी राजनीति के बीच भी कमल खिला। आजादी के बाद वंशवादी राजनीति ने देश की बहुत क्षति की। पार्टियां सिर्फ महात्मा गांधी का नाम लेती रहीं लेकिन उनके काम बापू के दृष्टिकोण के विपरीत रहे।''

उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने आत्मनिर्भरता की बात की थी लेकिन हमारा देश अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए विदेशों पर निर्भर था। देश लेकिन आज आत्म निर्भरता के पथ पर आगे बढ़ रहा है और इसका श्रेय भाजपा को जाता है।

प्रधानमंत्री ने कहा,''कुछ राजनीतिक दल समाज की खामियों को तलाश कर कभी जातिवाद तो कभी धर्म आदि के नाम पर उस कमजोरी को भुनाना चाहते हैं। हमें इस तरह के लोगों से सावधान रहना होगा। हमें एक भारत, श्रेष्ठ भारत के लक्ष्य को हासिल करने के लिये बढ़ना है।''

उन्होंने कहा,''विकास की राजनीति को बढ़ावा दिया जाना चाहिए। हम गर्व से कह सकते हैं कि भाजपा विकास की राजनीति को मुख्यधारा में लेकर आई है। हर पार्टी चुनाव से पहले विकास की बात करती है। कुछ पार्टियां समाज की खामियों का लाभ उठाकर या समाज में तनाव पैदा करके उस अवसर को भुनाती हैं। ''

प्रधानमंत्री ने कहा कि भाजपा से जुड़े कार्यकर्ताओं को देश के 130 करोड़ लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरने के लिये कड़ी मेहनत करनी चाहिए। यहां तक कि पूरी दुनिया भारत की ओर बड़ी उम्मीद से देखती है।

मोदी ने कहा, ''लोगों की यही आकांक्षायें हमारी जिम्मेदारी बढ़ा देती हैं। देश ने अपने लिये अगले 25 साल का लक्ष्य निर्धारित किया है और भाजपा को भी आने वाले वर्षो के लिये अपना लक्ष्य तय करना चाहिए। लोगों की उम्मीदें पूरी होनी चाहिए। देश के समक्ष उत्पन्न चुनौतियों को लोगों के साथ मिलकर खत्म करना चाहिए।''

उन्होंने कहा, ''हमारा सिद्धांत पंडित दीनदयाल उपाध्याय का अभिन्न मानवतावाद है। हमारा मंत्र 'सबका साथ-सबका विकास-सबका विश्वास' और सबका प्रयास है। ''

मोदी ने राजस्थान में पूर्व की कांग्रेस सरकार पर तंज करते हुए कहा कि उनकी कोई भी जवाबदेही नहीं रही और जनता ने भी उनसे कोई उम्मीद नहीं की थी।

उन्होंने कहा, ''वर्ष 2014 के बाद भाजपा देश को निराशा के दौर से बाहर लेकर आई। देश की जनता अब परिणाम को अपनी नजरों के सामने देखना चाहती है। मैं इसे राजनीतिक लाभ और हानि से परे बहुत ही सकारात्मक परिवर्तन मानता हूं। लोगों की उम्मीदें जब बढ़ जाती हैं, तब सरकार के लिए काम करना जरूरी हो जाता है।''

मोदी ने कहा कि जनता की जागरूकता अपने साथ दबाव लेकर आती है लेकिन यह प्रेरित भी करती है। उम्मीदें जब बढ़ती हैं, तो कठिन परिश्रम से उसे पूरा करने का उत्साह भी बढ़ता है। यही भावना देश को नई ऊंचाइयों पर ले जायेगी।

उन्होंने कहा, ''भाजपा कार्यकर्ता के रूप में, हमें शांति से बैठने का कोई अधिकार नहीं है। देश के 18 राज्यों में भाजपा की सरकार है। भाजपा के 1,300 से अधिक विधायक और 400 से अधिक सांसद हैं। इन सभी सफलताओं को देखकर कोई यह सोच सकता है कि अब काफी हो गया है। हमें अगर सत्ता का आनंद लेना है तो कोई आराम करने की सोच सकता है। हमें यह राह मंजूर नहीं। विजय का परचम लहराने के बाद भी हम आतुर हैं, व्यग्र हैं। हम आतुर हैं क्योंकि हमारा लक्ष्य देश को उन नई ऊंचाइयों पर ले जाना है, जिसका सपना देश की आजादी के लिये जान गंवाने वाले लोगों ने देखा था।''

उन्होंने कहा, ''आपको भ्रमित करने की कोशिशें होंगी लेकिन आपको देश के विकास के लिये मजबूती से खड़ा होना होगा। कुछ दल मुख्य मुद्दों से भटकाने के लिए काम कर रहे हैं। हमें ऐसे जाल में फंसने से बचने की कोशिश करनी होगी। हमें विकास के मुद्दों से ही जुड़े रहना है। इसी से हम विकास आधारित राजनीति पर फोकस कर पायेंगे। हमें अधिक से अधिक लोगों को भाजपा से जोड़ने की जरूरत है।''

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement