Pink marathon at panipat-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 21, 2019 3:12 am
Location
Advertisement

पिंक मैराथन में उमड़ा महिलाओं का सैलाब

khaskhabar.com : शुक्रवार, 08 मार्च 2019 6:57 PM (IST)
पिंक मैराथन में उमड़ा महिलाओं का सैलाब
पानीपत।हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर पूरे देश में शायद ये अपनी तरह का पहला मौका है जब पानीपत में पिंक मैराथन महिलाओं के लिए आयोजित की गई है। उन्होंने कहा कि महिलाओं को सबल बनाने के लिए भविष्य में पुलिस बल में भर्ती होने वाली महिलाओं की संख्या को 10 प्रतिशत तक ले जाया जाएगा।
यह बात उन्होंने पानीपत में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर आयोजित पिंक मैराथन में कही। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने यह मैराथन वीर शहीदों के नाम समर्पित करते हुए बीच-बीच में मैराथन में भाग लेने वाली महिलाओं का भारत माता की जय और सशक्त महिला-सशक्त भारत के उदघोष से हौसला भी बढ़ाया। उन्होंने मैराथन को झण्डी दिखाकर रवाना किया।
उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने महिला सशक्तिकरण और महिला उत्थान के नाते बहुत से कार्यक्रम किए हैं लेकिन इस तरह का मौका पहली बार आया है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विगत 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान की शुरूआत की यहीं से की थी। जब ये अभियान शुरू किया गया तब हरियाणा का लिंगानुपात 850 से भी कम था। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आह्वान पर बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ जन जागरण अभियान बना जिसका असर ये हुआ कि आज के समय में लिंगानुपात 914 पर है।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि महिला सशक्तिकरण की पहल करते हुए विगत साढ़े चार वर्षो में प्रदेश में 34 नए महिला कॉलेज स्थापित किए गए हैं। परीक्षा परिणामों में भी महिलाओं ने अव्वल स्थान प्राप्त किया है और आगे रही हैं। उन्होंने कहा कि सुरक्षा के दृष्टिगत प्रदेश के 151 रूटों पर हरियाणा राज्य परिवहन की सेवाएं छात्राओं को नि:शुल्क रूप से प्रदान की जा रही हैं।
महिलाओं को सबल बनाने के लिए भविष्य में पुलिस बल में भर्ती होने वाली महिलाओं की संख्या को 10 प्रतिशत तक ले जाया जाएगा। साल 2014 में केवल 6 प्रतिशत महिला पुलिस बल में थी और वर्तमान में 8 प्रतिशत तक पुलिस बलों में महिलाएं शामिल हैं। महिलाओं को सुरक्षित माहौल देने के लिए दुर्गा शक्ति ऐप बनाई गई है जिसे एक लाख से ज्यादा महिलाओं ने डाऊनलोड किया है जिसके माध्यम से वे तुरन्त रूप से अपनी सूचना पुलिस तक पंहुचा सकती है। महिलाओं की समस्या को दूर करने के लिए 32 महिला थाने स्थापित किए गए हैं जबकि 2014 में केवल 2 महिला थाने ही थे। सभी जिला केन्द्रों पर और कुछ सबडिविजन पर यह व्यवस्था की गई है।
मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि महिलाएं आज किसी भी क्षेत्र में कम नही हैं। आज प्रदेश की बेटियां खेलों में भी अपना नाम कमा रही हैं। ओलम्पिक और एशियन खेलों में मेडल प्राप्त किए जा रहे हैं और सब जगह महिलाओं का योगदान महत्वपूर्ण है। उन्होंने देश की उन माताओं को भी नमन किया जो अपने बच्चों को देश की सेवा के लिए सेनाओं में भर्ती होने के लिए भेजती हैं। उन्होंने कहा कि जनप्रतिनिधि के तौर पर भी महिलाएं हर वर्ग में आगे आ रही हैं। प्रदेश में 33 प्रतिशत से अधिक 42 प्रतिशत तक महिलाएं जनप्रतिनिधि के तौर पर शामिल हैं। उन्होंने कहा कि यह देश की सबसे अनूठी 11वीं मैराथन है, जिसमें करीब 50 हजार महिलाओं ने सामुहिक रूप से भाग लिया है।
मैराथन की समाप्ति पर आयोजित कार्यक्रम में उपायुक्त सुमेधा कटारिया ने हम होंगे कामयाब मन में है विश्वास गीत गाकर महिलाओं का उत्साहवर्धन किया और मैराथन में भाग लेने वाले प्रतिभागियों में से विजेताओं के नामों की भी घोषणा की। कार्यक्रम में कुरूक्षेत्र विश्व विद्यालय के धरोहर संग्रहालय की ओर से हरियाणवी संस्कृति से ओतप्रोत प्रदर्शनी भी लगाई गई जिसे महिलाओं ने खुब सराहा। इस मौके पर एडीजीपी ओपी सिंह और उपायुक्त सुमेधा कटारिया भी उपस्थित थी।



ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement