Perfumer arrested after Rs 284 crore in cash found-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 26, 2022 2:02 pm
Location
Advertisement

284 करोड़ रुपये की नकदी बरामद होने के बाद इत्र कारोबारी गिरफ्तार

khaskhabar.com : सोमवार, 27 दिसम्बर 2021 09:26 AM (IST)
284 करोड़ रुपये की नकदी बरामद होने के बाद इत्र कारोबारी गिरफ्तार
कानपुर/कन्नौज। कानपुर के इत्र कारोबारी पीयूष जैन को माल एवं सेवा कर (जीएसटी) की चोरी के आरोप में रविवार रात गिरफ्तार किया गया।

जैन ने हाल ही में तब सुर्खियां बटोरी थीं जब उनके परिसरों पर छापेमारी की तस्वीरें वायरल हुई थीं, जिसमें अधिकारियों को नोट गिनने वाली मशीनों से नोटों के ढेर गिनते हुए दिखाया गया था। उसके कानपुर और कन्नौज स्थित घर से 284 करोड़ रुपये नकद बरामद किया गया है।

आधिकारिक सूत्रों ने कहा कि जीएसटी खुफिया महानिदेशालय (डीजीजीआई) अहमदाबाद ने इत्र व्यवसायी पीयूष जैन के कारखाने और आवास से 10 करोड़ रुपये अधिक नकद बरामद किए है, जो उत्तर प्रदेश में कन्नौज जिले के ओडोकेम उद्योग के प्रमोटर हैं।

सूत्रों ने बताया कि जैन की फैक्ट्री से बेहिसाब चंदन का तेल, करोड़ों का इत्र भी जब्त किया गया है।

एक ट्रांसपोर्टर के स्वामित्व वाले कार्यालयों और गोदामों पर भी छापे मारे गए, जिसके बाद कार्रवाई पीयूष जैन के परिसर में स्थानांतरित हो गई।

केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के अध्यक्ष विवेक जौहरी ने कहा कि केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (सीबीआईसी) के इतिहास में यह सबसे बड़ी वसूली है।

डीजीजीआई सूत्रों के मुताबिक शुक्रवार को शुरू हुई तलाशी में जैन के कानपुर स्थित आनंदनगर स्थित घर से 177 करोड़ रुपये और उनके कन्नौज स्थित घर से 107 करोड़ रुपये की बेहिसाबी नकदी बरामद हुई।

50 कर अधिकारियों की एक टीम, जिसमें उत्तर प्रदेश और गुजरात (अहमदाबाद) की इकाइयां शामिल थीं, तलाशी अभियान में शामिल थीं।

जांच से जुड़े सूत्रों ने कहा कि जैन को एक सुरक्षित घर में ले जाया गया और कई घंटों तक पूछताछ की गई। उससे कई सवाल किए गए लेकिन वह जांचकतार्ओं को संतुष्ट करने में सक्षम नहीं था।

जैन को कर चोरी और फर्जी फर्मों के नाम पर कई चालान बनाने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

सूत्रों ने बताया कि पूछताछ के दौरान जैन ने दावा किया कि उनके घरों से बरामद 284 करोड़ रुपये नकद उनके पूर्वजों द्वारा छोड़े गए 400 किलो सोना बेचने के बाद जमा किए गए पैसे है।

अधिकारी के अनुसार, सोना बेचने का कारण पूछने पर व्यापारी ने कहा कि उसे व्यापार में निवेश के लिए नकदी की आवश्यकता थी। डीजीजीआई अधिकारी ने कहा कि पीयूष ने कहा कि वह पिछले कई सालों से छोटे ज्वैलर्स को बैचों में सोना बेच रहा है।

इस बीच, उसके दावों की सच्चाई की जांच के लिए जांच अधिकारी कन्नौज में उसके पुश्तैनी छिपैती घर की तिजोरियां और दीवारें तोड़ने में लगे हैं। एजेंसियों ने कन्नौज स्थित आवास से 250 किलो चांदी और 25 किलो सोना भी बरामद किया है।

आईटी विभाग के सूत्रों ने बताया कि कारोबारी के घर और फैक्ट्री के अंदर 36 लोग हैं, जिनमें जीएसटी इंटेलिजेंस और इनकम टैक्स के अधिकारी भी शामिल हैं।

वहां 'चंदन' तेल के नौ ड्रम भी मिले हैं और गत्ते के बक्सों से 2,000 रुपये के नोटों के बंडल बरामद किए गए हैं। कारोबारी के घर से नोट गिनने की मशीन भी मिली है।

इस बीच पीयूष के कन्नौज स्थित आवास में एक तहखाना भी मिला है। जांच दल ने पीयूष जैन के घर की दीवारों में कुछ और गुप्त लॉकरों की भी आशंका व्यक्त की है। इनका पता लगाने के लिए लखनऊ से आर्टेक्ट और विशेषज्ञों की एक टीम बुलाई गई है।

तलाशी के दौरान अधिकारियों को कुछ डायरी और बिल भी मिले। (आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement