Outlets will be opened in all 22 districts of the state to promote Khadi: Vipul Goyal-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 19, 2019 9:25 pm
Location
Advertisement

प्रदेश के सभी 22 जिलों में खादी को बढावा देने के लिए आउटलेट खोले जाएगें : विपुल

khaskhabar.com : शनिवार, 14 सितम्बर 2019 7:08 PM (IST)
प्रदेश के सभी 22 जिलों में खादी को बढावा देने के लिए आउटलेट खोले जाएगें : विपुल
चण्डीगढ़। हरियाणा के उद्योग, वाणिज्य, पर्यावरण एवं कौशल विकास मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा चरणबद्व तरीके से प्रदेश के सभी 22 जिलों में खादी को बढावा देने के लिए आउटलेट खोले जाएगें।

उद्योग मंत्री हरियाणा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के स्वर्ण जयंती वर्ष में पंचकूला में सैक्टर 1, 2, 5 व 6 चौक पर खादी का प्रतीक अम्बर चरखा का अनावरण करने बाद लोगों को सम्बोधित कर रहे थे। स्टेनलैस स्टील से बने इस चरखे पर खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा लगभग 13 लाख रुपए की राशि खर्च की गई है।

उन्होंने बताया कि गत वर्ष पंचकूला में खादी का प्रथम बिक्री केन्द्र खोला गया था और इसके सार्थक परिणामों को देखते हुए इस वर्ष झज्जर में दूसरा आउटलेट खोला जाएगा। उन्होंने इस आउटलेट के लिए झज्जर की महिला उद्यमी सोमवती को स्वीकृति पत्र भी भेंट किया। इसके अलावा, पुलिस विभाग व जेल कैंटिनों में खादी उत्पाद की आपूर्ति का आर्डर मिल चुका है और जल्द ही इसकी आपूर्ति आरम्भ की जाएगी।

गोयल ने कहा कि चरखा खादी के साथ-साथ आजादी का भी प्रतीक है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी खादी के विश्वस्तर के ब्रांण्ड एम्बेसडर है, जिन्होंने खादी को बढ़ावा देने की नई मुहिम चलाई हुई है। उन्होंने कहा कि पिछले 5 वर्षो में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के प्रयासों से खादी ग्रामोद्योग में 37 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है जबकि वर्ष 2004 से 2014 तक यह वृद्धि मात्र 6.7 प्रतिशत रही। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने आजादी दिलाने के लिए चरखे व खादी का आन्दोलन चलाया था और उसके उपरांत अब विश्व स्तर पर खादी को विशेष पहचान दिलवाने में प्रधानमंत्री ने सार्थक पहल की है।

उन्होंने कहा कि हरियाणा में इज आफ डूंइंग बिजेनैस के तहत जहां उद्यमियों को बेहतर माहौल मिला है वहीं निवेश के मामले में प्रदेश 14वें स्थान से तीसरे स्थान पर पहुंचा है और उतरी भारत में प्रथम स्थान पर है। इसी प्रकार, कौशल विकास के क्षेत्र में भी हरियाणा 13वें नम्बर से पहले स्थान पर पहुंचा है। उन्होंने कहा कि सुविधाजनक तरीके से एनओसी देने के लिए आरम्भ किए गए एक ही छत के नीचे सभी सुविधाएं पोर्टल से 3 लाख करोड़ रूपए से अधिक एनओसी दिए गए है और इनसे जो उद्योग स्थापित होगें, उनसे 14 लाख युवाओं के लिए रोजगार के अवसर मिलेंगें। उन्होंने मुख्यमंत्री की कार्यशैली की सराहना करते हुए कहा कि उन्होंने सत्ता को जनसेवा का माध्यम बनाया है और वायदो से बढकर कार्य किये है, इसलिए प्रदेश की जनता ने एकमत से दोबारा से सरकार बनाने का मन बना लिया है।

विधायक ज्ञानचंद गुप्ता ने कहा कि देश की आजादी के समय राष्ट्रपिता महात्मा गांधी ने स्वंय चरखा चलाकार देशवासियों को खादी के प्रयोग का संदेश दिया था। उन्होंने कहा कि खादी केवल वस्त्र नहीं बल्कि देश की उन्नति एवं रोजगार से जुड़ा हुआ विषय है। खादी के प्रयेाग बढने से जहां कपास उत्पादक किसानों को लाभ होगा वहीं प्रदेश में खादी वस्त्र तैयार करने वाले गरीब लोगों के लिए भी रोजगार के अवसर प्राप्त होगें। उन्होंने कहा कि अब तक इस चौक को वेलाविस्टा चौक के नाम से पहचाना जाता था लेकिन अब यह चरखा चौक के नाम से ही जाना जाएगा।

हरियाणा खादी ग्रामद्योग की चेयरपर्सन गार्गी कक्कड. ने कहा कि पिछले तीन वर्षो में प्रदेश में खादी का प्रयोग बढाने के लिए बोर्ड द्वारा जंहा नए आउटलेट खोलने का अभियान आरम्भ किया गया है वही खादी मित्र योजना के तहत हैफेड के माध्यम से को-आपरेटिव माकेटिंग सोसायटियां व प्राईमरी एग्रीकल्चर को-आपरेटिव सोसायटी, फेयर प्राईस शॉप में हर खादी ब्राण्ड की बिक्री की जा रही है। उन्होंने बताया कि बोर्ड द्वारा पैर्टरन बेस, क्रेडिट बैंक, ग्रामीण रोजगार सृजन और प्रधानमंत्री रोजगार सृजन जैसे कार्यक्रम भी चलाए जा रहे है। उन्होंने कहा कि मई 2017 सें 1363 खादी ग्रामोद्योग ईकाईयां स्थापित करके 10550 लोगों को रोजगार दिया गया है।

इस अवसर पर बोर्ड मुख्य कार्यकारी अधिकारी शेखर विद्यार्थी, एसडीएम सुशील कुमार, भाजपा जिलाध्यक्ष दीपक शर्मा, जिला महामंत्री हरेन्द्र मलिक, हरियाणा चैम्बर आफ कार्मस के प्रदेशाध्यक्ष विष्णु गोयल, स्वीमी देवीदयाल संस्थान के अध्यक्ष एमएल जिन्दल, भाजपा नेता कुलभूषण गोयल सहित अन्य गणमान्य नागरिक तथा खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड के अधिकारी उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement