nagaur : Traditional skills will be accelerated and protected: Industry Commissioner-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Mar 7, 2021 2:10 pm
Location
Advertisement

परंपरागत कौशल होगा संवद्र्धित और संरक्षित : उद्योग आयुक्त

khaskhabar.com : गुरुवार, 27 जुलाई 2017 6:24 PM (IST)
परंपरागत कौशल होगा संवद्र्धित और संरक्षित : उद्योग आयुक्त
जयपुर/ नागौर। केन्द्र सरकार के 5 करोड़ रुपए के वित्तीय सहयोग से हैंडटूल्स तकनीकी विकास केंद्र हैंडलूम कलस्टर नागौर का आधुनिकीकरण और उन्नयन किया जाएगा। उद्योग आयुक्त व सचिव सीएसआर कुंजी लाल मीणा ने गुरुवार को यहां उद्योग भवन में हैंडटूल कलस्टर आधुनिकीकरण और उन्नयन प्रगति समीक्षा बैठक ली। उन्होंने बताया कि केन्द्र सरकार के एमएसएमई तकनीकी विकास केन्द्र आगरा द्वारा आधुनिकीकरण और उन्नयन की डीपीआर राज्य सरकार की अनुषंषा के साथ केन्द्र सरकार के डीसी को भिजवाई जा चुकी है।

मीणा ने बताया कि प्रदेश के नागौर में खासतौर से मुल्तानी लुहार परिवारों द्वारा तैयार किए जा रहे लोहे के हैंडटूल्स की समूचे देश में मांग है। कलस्टर द्वारा इन उद्यमियों के कौशल विकास, उत्पादों की गुणवत्ता जांच और नए युवाओं को प्रशिक्षण देकर कुशल कारीगर और उद्यमी बनाने का कार्य किया जा रहा है। विभागीय प्रयासों से इस परंपरागत उद्योग का संरक्षण व संवद्र्धन किया जा रहा है। मीणा ने बताया कि इस कलस्टर में ज्वैलरी निर्माण में काम आने वाले उपादेय व महत्वपूर्ण टूल्स भी परंपरागत रूप से बनाए जा रहे हैं। जिसे अधिक उपादेय व आधुनिक डिजाइन और तकनीक के समावेशन से तैयार करने के कौशल विकास और मार्गदर्शन के लिए एमएसएमई तकनीकी विकास केन्द्र आगरा द्वारा कौशल विकास और प्रशिक्षण का कार्य शुरू कर दिया गया है। इसके साथ ही जॉब कार्य और मार्गदर्शन सेवाएं भी उपलब्ध कराई जा रही हैं। संयुक्त निदेशक उद्योग अविन्द्र लढ््ढा ने बताया कि जयपुर, अलवर सहित प्रमुख स्थानों पर स्थानीय मांग के अनुसार औजार तैयार कर उपलब्ध कराने के लिए बॉयर सेलर सम्मेलनों का आयोजन किया जाना प्रस्तावित है।


ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement