Morcha associated with Om Prakash Rajbhar lost some allies -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 30, 2021 4:43 am
Location
Advertisement

ओम प्रकाश राजभर से जुड़े मोर्चा ने कुछ सहयोगियों को खोया, आखिर क्यों, यहां पढ़ें

khaskhabar.com : बुधवार, 27 अक्टूबर 2021 12:47 PM (IST)
ओम प्रकाश राजभर से जुड़े मोर्चा ने कुछ सहयोगियों को खोया, आखिर क्यों, यहां पढ़ें
लखनऊ । बहुप्रचारित भागीदारी संकल्प मोर्चा (बीएसएम) के सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (एसबीएसपी) के प्रमुख ओम प्रकाश राजभर के नेतृत्व में बना छोटे दलों का गठबंधन नए सहयोगियों को जोड़ने के बदले तेजी से पुराने सहयोगियों को खो रहा है। पिछले हफ्ते समाजवादी पार्टी में नए दोस्त बनाने वाला मोर्चा, अब पुराने दोस्तों को खो रहा है।

एसबीएसपी के समाजवादी पार्टी से हाथ मिलाने के बाद ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) चुपचाप मोर्चा से दूर हो गई है।

एआईएमआईएम ने अपना गुस्सा तब व्यक्त किया जब राजभर ने इस महीने की शुरूआत में कहा था कि वह अब फिर से भाजपा के साथ गठबंधन के खिलाफ नहीं हैं। राजभर के सपा के साथ गठबंधन करने के बाद से विवाद और बढ़ गया क्योंकि ओवैसी का अखिलेश यादव के प्रति तिरस्कार जगजाहिर है।

इससे पहले, एआईएमआईएम एसबीएसपी के साथ मोर्चा पर आने वाली पहली पार्टियों में से एक थी। असदुद्दीन ओवैसी और ओम प्रकाश राजभर ने भी एक साथ राज्य का दौरा करना शुरू कर दिया था।

ओम प्रकाश राजभर बुधवार को मऊ जिले में एक महापंचायत की मेजबानी करने वाले हैं, जहां समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव शामिल होंगे।

एआईएमआईएम इस कार्यक्रम में अनुपस्थित रहेगी।

एआईएमआईएम नेताओं ने कहा कि पार्टी प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी को बुधवार को मऊ में आमंत्रित नहीं किया गया है। एआईएमआईएम की यूपी इकाई के प्रमुख शौकत अली ने कहा, "बुधवार को मुजफ्फरनगर में असदुद्दीन ओवैसी की एक जनसभा है। हमें इस कार्यक्रम के लिए कोई निमंत्रण नहीं मिला है और इसलिए हमारे नेता इसमें शामिल नहीं होंगे।"

एसबीएसपी के साथ उनकी पार्टी के गठबंधन के भविष्य के बारे में पूछे जाने पर, शौकत अली ने कहा, "राजभर अखिलेश यादव के साथ गए, हम नहीं। अगर राजभर हमें सपा के साथ गठबंधन में सीट दिला सकते हैं, तो हम जाएंगे। ऐसा इसलिए है क्योंकि हमारी लड़ाई सत्ता में हिस्सेदारी के लिए है।"

नाम न छापने की शर्त पर बात करने वाले एआईएमआईएम के एक वरिष्ठ नेता ने हालांकि कहा कि पार्टी मोर्चा छोड़ देगी क्योंकि वह अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली पार्टी के साथ गठबंधन नहीं करेगी।

उन्होंने कहा, "हमारे नेता समाजवादी पार्टी (सपा) के खिलाफ बोल रहे हैं। हम उस गठबंधन का हिस्सा नहीं बन सकते, जहां सपा है। चुनाव अभी महीनों दूर है, इसलिए कुछ भी निश्चित नहीं है।"

इस बीच, एसबीएसपी महासचिव और ओम प्रकाश राजभर के बेटे अरविंद राजभर ने कहा कि एआईएमआईएम कभी औपचारिक रूप से मोर्चा का हिस्सा नहीं रहा।

मोर्चा के एक और अहम सदस्य आजाद समाज पार्टी (भीम आर्मी) ने भी दूरी बना ली है।

आजाद समाज पार्टी के प्रमुख चंद्रशेखर ने कहा कि वह कभी भी मोर्चा का हिस्सा नहीं रहे।

"मैं कभी इसका हिस्सा नहीं था और चुनाव काफी दूर है। यह कहना मुश्किल है कि आने वाले महीनों में क्या होगा। एसबीएसपी पहले भी बीजेपी के साथ रहा है और फिर से उनके साथ हाथ मिला सकता है। कोई नहीं जानता उनके बारे में। हम राज्य में भाजपा सरकार के खिलाफ गठबंधन सुनिश्चित करना चाहते हैं और हम भाजपा को हराने के उद्देश्य से धर्मनिरपेक्ष दलों का स्वागत करते हैं।"

भीम आर्मी प्रमुख ने सितंबर में राजभर और ओवैसी के साथ एक बैठक में भाग लिया और नेताओं ने गठजोड़ के संकेत दिए थे।

एसबीएसपी ने 2017 के राज्य चुनाव में भाजपा के सहयोगी के रूप में चुनाव लड़ा था और राजभर को भाजपा सरकार में मंत्री नियुक्त किया गया था। उन्होंने 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले गठबंधन छोड़ दिया, क्योंकि उनका संगठन सीट-बंटवारे पर भाजपा के साथ समझौता करने में विफल रहा था।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement