Lok Sabha Elections 2019: Electoral Heat is Recognizing Agra Speculative Market-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 4, 2020 8:02 am
Location
Advertisement

लोकसभा चुनाव 2019 : चुनावी गर्मी में तप रहा है आगरा का सट्टा बाजार

khaskhabar.com : शुक्रवार, 26 अप्रैल 2019 7:22 PM (IST)
लोकसभा चुनाव 2019 : चुनावी गर्मी में तप रहा है आगरा का सट्टा बाजार
आगरा। राजनीतिक रुझानों पर दांव लगाने के लिए कुख्यात आगरा के सट्टा बाजार में लोकसभा चुनाव के सातों चरण को लेकर गर्मी साफ देखी जा सकती है।

अंदरूनी सूत्रों का कहना है कि हार-जीत और सीटों के अंतर को लेकर बहुत बड़े-बड़े दांव लगाए गए हैं। बेलागंज क्षेत्र के नंदन गुरु के अनुसार, "पूरी तरह से राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के पक्ष में माहौल है। कांग्रस को बोली लगाने वाले नहीं मिल रहे है। सट्टेबाजों की नजर में उत्तर प्रदेश में सपा-बसपा गठबंधन भी मजबूत है और इन पर अच्छा खासा पैसा लगाया गया है।"

हरि गोपाल के अनुसार भैरों बाजार में दांव लगाने वाले थोड़ा अतिरिक्त सर्तक हैं और सावधानी बरत रहे हैं। लेकिन, राहुल गांधी की कांग्रेस पार्टी को लेकर नकारात्मक ट्रेंड है।

हाल के महीनों में स्थानीय पुलिस प्रमुख अमित पाठक इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) को ध्यान में रखते हुए सट्टेबाजों पर अधिक सख्त रहे हैं। कई पकड़े भी गए हैं। खुद को इस सबसे दूर रखने वाले जौहरी बाजार के दुकानदार बांके लाल ने कहा, "कई लोग बिना किसी सही पहचान के फर्जी नाम से काम कर रहे हैं।"

सट्टा इस बात पर भी लगाया जा रहा है कि क्या राजग को 325 से ज्यादा सीटें मिलेंगी, या क्या बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती समाजवादी पार्टी (सपा) के प्रमुख अखिलेश यादव को छोड़कर राजग में शामिल होंगी।

स्थानीय स्तर पर, फतेहपुर सीकरी से कांग्रेस के उम्मीदवार राज बब्बर ने कुछ समर्थन हासिल करने में कामयाबी हासिल की है, लेकिन भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के उम्मीदवार राज कुमार चाहर पर अभी भी अधिक भाव लग रहा है।

लगता है कि गुरुवार को वाराणसी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के रोड शो से सट्टा बाजार को बड़ा संबल मिला है और कई सट्टेबाजों ने उत्तर प्रदेश में भाजपा के लिए बहुमत सीटों का दावा किया है। अनौपचारिक, कालाधन आधारित सट्टेबाजी के रैकेट काफी सक्रिय रहे हैं, लेकिन संचालन की गुप्त प्रकृति दावों के सत्यापन को रोकती है।

विपक्षी नेताओं का कहना है कि सट्टा बाजार के रुझानों में भाजपा समर्थकों द्वारा हेरफेर की जाती है, इसलिए इन्हें विश्वसनीय नहीं कहा जा सकता। लेकिन यह एक ज्ञात तथ्य है कि सट्टा बाजार रैकेट सिर्फ आगरा में ही नहीं, बल्कि हाथरस और मथुरा में भी चुनावों के दौरान भारी व्यवसाय करता है।

दिलचस्प बात यह है कि बड़ी संख्या में ज्योतिषियों ने प्रमुख नेताओं के जन्म चार्ट के आधार पर दावों की लंबी सूची के साथ सट्टा उद्योग में प्रवेश किया है।

वैदिक सूत्रम के चेयरमैन प्रमोद गौतम ने दावा किया कि मोदी के सितारे बुलंद हैं। वह आसानी से सत्ता में वापस आ रहे हैं, बस सीट पिछली बार से कम होंगी।

गौतम ने इससे पहले अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की जीत, विश्व कप क्रिकेट परिणाम, 2014 में मोदी की जीत और 2017 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जीत की सही भविष्यवाणी की थी।

उन्होंने आईएएनएस को बताया, "नरेंद्र मोदी के जन्म चार्ट में आज से आध्यात्मिक ग्रह बृहस्पति की अनुकूल स्थिति आने वाले चुनावों में सत्तारूढ़ राजग सरकार की जीत सुनिश्चित करेगी।

उन्होंने कहा, "मोदी को बड़े पैमाने पर समर्थन मिल रहा है। उनकी पार्टी के अध्यक्ष अमित शाह भी सकारात्मकता दिखा रहे हैं और दोनों एक साथ भाजपा को जीत दिलाएंगे।"

--आईएएनएस


ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement