Lok Sabha Chunav 2019 : Leaders language not in control in bihar Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 11, 2022 12:01 pm
Location
Advertisement

बिहार में चुनाव में मुद्दों पर बदजुबानी हावी, हर दल के नेता तोड़ रहे हैं सीमा!

khaskhabar.com : गुरुवार, 09 मई 2019 12:23 PM (IST)
बिहार में चुनाव में मुद्दों पर बदजुबानी हावी, हर दल के नेता तोड़ रहे हैं सीमा!
अपने विवादित बयानों से चर्चा में रहने वाले गिरिराज सिंह ने वंदे मातरम नहीं कहने वालों पर निशाना साधते हुए कहा था, जो वंदे मातरम नहीं गा सकता, जो मातृभूमि का सम्मान नहीं कर सकता, उसे देश माफ नहीं करेगा। मेरे पूर्वज सिमरिया घाट में गंगा नदी के किनारे मरे, और उन्हें कब्र की जरूरत नहीं पड़ी, लेकिन तुम्हें तो तीन हाथ जगह चाहिए। इस बयान को लेकर उनके खिलाफ आदर्श चुनाव आचार संहिता उल्लंघन का भी मामला दर्ज किया गया है।

बिहार की राजनीति पर गहरी नजर रखने वाले पटना के वरिष्ठ पत्रकार अजय कुमार कहते हैं, चुनाव में कुछ नेताओं की बदजुबानी ब्रह्मास्त्र बन जाता है। यह पिछले कई चुनावों से देखा जा रहा है। वैसे जनता और खासकर कार्यकर्ता भी इन भाषणों को सुनकर तृप्त होकर नेताओं के हां में हां मिलाते हैं तथा सोशल साइटों पर ऐसे पोस्ट पसंद किए जाते हैं, जिसे नेता मतों से जोडक़र देखते हैं।

कुमार कहते हैं, नेताओं के लिए महंगाई, भ्रष्टाचार, वादाखिलाफी, बेरोजगारी को लेकर उबला गुस्सा काफूर हो गया। सभी दल के नेता लगता है अपने चुनावी मुद्दे को भूल से गए हैं। हालांकि कांग्रेस के वरिष्ठ नेता तारिक अनवर ऐसे बयानों को सही नहीं मानते। उन्होंने कहा, चुनाव हो या नहीं हो, ऐसे बयान कहीं से भी राजनीति के लिए सही नहीं हैं। विरोधियों की आलोचना करना सही है, परंतु बयानों में भाषा की मर्यादा बनाए रखनी चाहिए।

बहरहाल, इस चुनावी समर में नेताओं की बदजुबानी ने अपने पुराने सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं, अब 23 मई को चुनाव परिणाम के बाद ही देखना होगा कि इन नेताओं की बदजुबानी से उनके मतों की संख्या में रिकॉर्ड वृद्धि होती है या रिकॉर्ड गिरावट आती है।

(IANS)

2/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement