Leela promoter hotel group keen to sell-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 30, 2022 7:15 am
Location
Advertisement

लीला के प्रमोटर होटल समूह की बिक्री को उत्सुक

khaskhabar.com : शुक्रवार, 15 फ़रवरी 2019 12:39 PM (IST)
लीला के प्रमोटर होटल समूह की बिक्री को उत्सुक
नई दिल्ली। मालिक की जानकारी बिना हस्तांतरण की अजीब कहानी से परेशान होटल लीला वेंचर्स के कंपनी सचिव एलन फर्नेस एनएसई और बीएसई के निगरानी विभाग को 12 फरवरी को लिखे पत्र में कहा, ‘‘हम स्पष्ट करना चाहते हैं कि कर्जदारों की सहमति से कंपनी विभिन्न विकल्पों का मूल्यांकन कर रही है और अब तक कंपनी में निवेश या कंपनी की परिसंपत्ति की बिक्री के लिए किसी भी निवेशक के साथ कोई करार नहीं हुआ है।’’

तो क्या ब्रूकफील्ड और जेएम फाइनेंशियल मीडिया में झूठी अफवाह फैलाकर शेयरधारकों और ऋणदाताओं की आंखों में धूल झोंक रहे हैं?

पिछले साल सितंबर से चर्चा में रही कहानी का अंत नहीं हुआ है क्योंकि इसमें एक कर्जदार की मंजूरी का इंतजार किया जा रहा है। दो अन्य आवेदक भी दौड़ में शामिल हैं, लेकिन न्यूनतम गारंटी की रकम बहुत अधिक होने से उनके लिए दरवाजे बंद हो गए हैं।

मामले में आतिथ्य क्षेत्र की प्रमुख कंपनी के खिलाफ दिवालिया की कार्यवाही शुरू करने के लिए जेएम, एआरसी ने राष्ट्रीय कंपनी कानून न्यायाधिकरण (एनसीएलटी) का रुख किया है।

मुंबई की जायदाद पर विवाद बना हुआ है क्योंकि भारतीय विमानपत्तन प्राधिकरण (एएआई) ने एकतरफा फैसला लेते हुए होटल की 18,000 वर्ग मीटर की जमीन की लीज समाप्त करके खाली कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। कानूनी सलाह के आधार पर लीला इसे चुनौती देने पर विचार कर रही है।

ब्रूकफील्ड और जेएम का दावा है कि वे मुंबई की जायदाद को सौदे का हिस्सा बनाए बगैर लीला को एक नई कंपनी बनाएंगे।

कंपनी में जेएम की हिस्सेदारी 26 फीसदी है और 6,164 करोड़ रुपये के कुल कर्ज पर उसका 96 फीसदी नियंत्रण है जबकि नायर बंधु, दीपक और विवेक का नियंत्रण 47 फीसदी शेयर पर है जिसमें से उनका 96 फीसदी शेयर पहले से ही कर्जदारों के पास गिरवी है। आतिथ्य सेवा कारोबार की बड़ी कंपनी आईटीसी की कंपनी में सात फीसदी हिस्सेदारी है।

लीला का घाटा चालू वित्त वर्ष 2018-19 के शुरुआती नौ महीनों में पिछले साल की समान अवधि के सात करोड़ रुपये से बढक़र 89 करोड़ रुपये हो गया है।

कनाडाई कंपनी ब्रूकफील्ड एसेट मैनेजमेंट द्वारा लीला को एक नई कंपनी के रूप में ढालने को लेकर मीडिया में लगातार रिपोर्ट आने के बाद कंपनी का घाटा बढ़ा है।
(आईएएनएस)

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement