Indian knowledge and traditions will be included in the country education system: Union Education Minister Dharmendra Pradhan-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Oct 19, 2021 4:48 am
Location
Advertisement

देश की शिक्षा प्रणाली में शामिल होंगे भारतीय ज्ञान और परंपराएं : केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान

khaskhabar.com : गुरुवार, 16 सितम्बर 2021 6:26 PM (IST)
देश की शिक्षा प्रणाली में शामिल होंगे भारतीय ज्ञान और परंपराएं : केन्द्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान
नई दिल्ली। शिक्षा मंत्रालय यह सुनिश्चित करेगा कि नई शिक्षा नीति के तहत भारतीय ज्ञान और परंपरा को जीवन जीने के तरीके के रूप में शिक्षा प्रणाली के दायरे में शामिल किया जाए। इसके लिए शिक्षा मंत्रालय नई शिक्षा नीति के तहत विभिन्न पाठ्यक्रम में प्रेरणादायी भारतीय ज्ञान प्रणाली और कला को शामिल करेगा। शिक्षा के क्षेत्र में भारतीय ज्ञान और परंपरा को जीवन के तरीके के रूप में शामिल करने के परिप्रेक्ष्य में, 'भारतीय ज्ञान प्रणाली, कला और संस्कृति को बढ़ावा देने' के लिए शिक्षक पर्व 2021 के अन्तर्गत पर एक वेबिनार का भी आयोजन किया है। यह आयोजन केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय द्वारा किया गया।

इससे पहले नई शिक्षा नीति परिवर्तनकारी सुधारों के एक वर्ष पूरा होने पर केन्द्रीय शिक्षा एवं कौशल विकास एवं रोजगार मंत्री धर्मेन्द्र प्रधान कह चुके हैं कि कोई भी समाज अपनी जड़ों से जुड़े बिना आगे नहीं बढ़ सकता। शिक्षा मंत्री के मुताबिक हमारा अतीत वास्तुकला की भव्यता, इंजीनियरिंग के चमत्कार और कलात्मक उत्कृष्टता के उदाहरणों से भरा पड़ा है। उन्होंने कहा कि भारत की इस सांस्कृतिक संपदा के संरक्षण, संवर्धन और प्रसार को देश की सर्वोच्च प्राथमिकता होनी चाहिए क्योंकि यह देश की पहचान के लिए महत्वपूर्ण है।

प्रधान ने इस बात पर प्रकाश डाला कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति ने 21वीं सदी के भारत के लिए एक रोडमैप तैयार किया है और हमारी पारंपरिक ज्ञान प्रणालियों पर जोर दिया है। शिक्षा मंत्री का कहना है कि भारतीय ज्ञान परंपराओं को आगे बढ़ाकर हम एक नए युग की शुरूआत के लिए बीज बो सकते हैं।

शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक ज्ञान को कला, संस्कृति, भाषा के साथ भारतीयता की भावना के साथ जोड़ने की जरूरत है। इसी के अन्तर्गत केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय भारतीय ज्ञान और परंपरा को जीवन शैली के रूप में शिक्षा के क्षेत्र में शामिल करने का पक्षधर है। इसी ²ष्टि से, 'भारतीय ज्ञान प्रणाली, कला और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए शिक्षा मंत्रालय ने गुरुवार को वेबिनार का आयोजित किया।

शिक्षा मंत्रालय का कहना है कि एनईपी 2020 भारत को संस्कृति के खजाने के रूप में वर्णित करता है। भारत की सांस्कृतिक संपदा के संरक्षण और संवर्धन के लिए जागरूकता फैलाना आवश्यक है।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement