Implementing Uniform Civil Code is the right decision, considering implementing it in Himachal Pradesh too - Jai Ram Thakur-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 3, 2022 8:34 pm
Location
Advertisement

समान नागरिक संहिता लागू करना सही निर्णय, हिमाचल प्रदेश में भी लागू करने पर कर रहे हैं विचार - जयराम ठाकुर

khaskhabar.com : सोमवार, 25 अप्रैल 2022 7:50 PM (IST)
समान नागरिक संहिता लागू करना सही निर्णय, हिमाचल प्रदेश में भी लागू करने पर कर रहे हैं विचार - जयराम ठाकुर
नई दिल्ली। हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने प्रदेश में दोबारा बहुमत के साथ सरकार बनाने का दावा करते हुए कहा है कि प्रदेश की जनता आम आदमी पार्टी के राजनीतिक स्टाइल को कभी स्वीकार नहीं करेगी। इसके साथ ही उन्होंने कांग्रेस को नेतृत्व विहीन और दिशाहीन पार्टी बताते हुए कहा कि राज्य सरकार प्रदेश में समान नागरिक संहिता लागू करने को लेकर विचार कर रही है और इसे लेकर अध्ययन किया जा रहा है।

हिमाचल प्रदेश के राजनीतिक हालात, विधानसभा चुनाव की तैयारियों, आम आदमी पार्टी के राजनीतिक हमले, कांग्रेस से मिल रही चुनौतियों और राज्य में समान नागरिक संहिता लागू करने जैसे अन्य कई अहम मुद्दों पर आईएएनएस के वरिष्ठ सहायक संपादक संतोष कुमार पाठक ने हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर से खास बातचीत की।

सवाल - हिमाचल प्रदेश चुनावी वर्ष में प्रवेश कर चुका है। प्रदेश में एक रिवाज रहा है कि यहां कोई भी सरकार लगातार दूसरी बार सत्ता में नहीं आ पाती है। क्या इस बार यह रिवाज टूटने जा रहा है ?

जवाब - 1985 के बाद राज्य में कोई सरकार रिपीट नहीं हुई है, यह सत्य है लेकिन इस बार यह रिवाज टूटने जा रहा है। हाल ही में जिन 5 राज्यों में विधानसभा चुनाव हुए उनमें भी कुछ इसी तरह का रिवाज था लेकिन इस बार उत्तराखंड में हमारी ( भाजपा ) सरकार रिपीट हुई। उत्तर प्रदेश में लगभग 37 वर्षों के बाद कोई सरकार रिपीट हुई है। इसलिए रिवाज बदल गया है और यह बदलाव सिर्फ उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर और गोवा के लिए ही नहीं है बल्कि बदलाव पूरे देश में हो रहा हैं और इसलिए हिमाचल प्रदेश में भी दोबारा से भाजपा की सरकार बनने जा रही है।

सवाल - हिमाचल प्रदेश में आम तौर पर अब तक मुख्य मुकाबला भाजपा और कांग्रेस के बीच ही होता रहा है लेकिन इस बार आम आदमी पार्टी भी पूरे दमखम के साथ चुनाव लड़ने की तैयारी कर रही है। केजरीवाल स्वयं लगातार हिमाचल का दौरा कर रहे हैं।

जवाब - देखिए, हिमाचल प्रदेश ने कभी किसी तीसरे विकल्प को स्वीकार नहीं किया है, इसलिए वहां आप की कोई जगह नहीं है। वो राज्य में अपनी मौजूदगी साबित करने का प्रयास कर रहे हैं लेकिन उन्हें कोई कामयाबी नहीं मिलेगी। पहाड़ पर चढ़ने में उनकी सांस फूल जाएगी। आक्रामक शब्दों और ऊंची आवाज में असंसदीय आरोप लगाने की आप की राजनीति को हिमाचल की जनता स्वीकार नहीं करेगी। वो कहने को कुछ भी दावे करते रहे लेकिन हिमाचल प्रदेश में उनके लिए कोई जगह नहीं है।

सवाल - लेकिन अरविंद केजरीवाल तो लगातार आपकी सरकार पर निशाना साध रहे हैं। वो तो यहां तक कह रहे हैं कि आपने उनकी योजना की नकल कर ली है ?

जवाब - ऐसा नहीं है कि वो सिर्फ अपने आपको बुद्धिमान माने, योग्य माने कि किसी और के पास इतना दिमाग ही नहीं है। हम प्रदेश में जो योजनाएं चला रहे हैं वो आज से नहीं वर्षों से चला रहे हैं और कुछ योजनाओं में हमने नई चीजों को शामिल किया है। उन्हें ( केजरीवाल ) समझना चाहिए कि भाजपा देश ही नहीं दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी है। हमारे पास दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, अमित शाह और राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा का नेतृत्व है। हमें किसी की नकल करने की जरूरत नहीं है।

सवाल - कांग्रेस को कितनी बड़ी चुनौती मानते हैं आप ? कांग्रेस की चुनावी रणनीति तय करने में प्रशांत किशोर भी बड़ी भूमिका निभा सकते हैं ?

जवाब - स्वाभाविक तौर पर कांग्रेस देश की सबसे पुरानी पार्टी है और वर्षों तक राज्य की सत्ता में रही है लेकिन वर्तमान में वो नेतृत्व विहीन और दिशाहीन पार्टी बन चुकी है। जहां तक प्रशांत किशोर का सवाल है वो कांग्रेस को सलाह दे रहे हैं, लेकिन हमारे पास संगठन का मजबूत ढांचा है, केंद्रीय स्तर पर मजबूत नेतृत्व है, नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री हैं, अमित शाह का मार्गदर्शन मिल रहा है और हमारी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, हिमाचल से ही है और इन्ही वजहों से राज्य में दोबारा से भाजपा की मजबूत सरकार बनने जा रही है।

सवाल - भाजपा के तीन कोर एजेंडे रहे हैं - अनुच्छेद 370, अयोध्या में राम मंदिर निर्माण और समान नागरिक संहिता। कश्मीर से 370 हट चुका है, अयोध्या में भव्य राम मंदिर निर्माण का कार्य जारी है और समान नागरिक संहिता को लेकर भी भाजपा की कई राज्य सरकारों ने कदम बढ़ा दिया है। हिमाचल प्रदेश में इसे लेकर आपकी क्या सोच है?

जवाब - यह निर्णय अच्छा है ( भाजपा की कुछ राज्य सरकारों द्वारा उठाया गया कदम ) , इससे अच्छी दिशा में एक संदेश गया है। हिमाचल प्रदेश में भी समान नागरिक संहिता लागू करने को लेकर प्रदेश सरकार विचार कर रही है, अध्ययन कर रही है। हमने अधिकारियों को इसे एक्जामिन करने को कहा है कि हिमाचल प्रदेश के संदर्भ में किस तरह का कानून ला सकते हैं। हम जल्दबाजी में कोई कदम नहीं उठाना चाहते हैं क्योंकि हम बेहतर तरीके से इसे राज्य में लाना चाहते हैं।

सवाल - आप लगातार प्रदेश में दोबारा से सरकार बनाने का दावा कर रहे हैं । लेकिन राज्य में एंटी इनकंबेंसी को लेकर आपका क्या कहना है ? यह भी कहा जा रहा है कि पार्टी 20 प्रतिशत के लगभग विधायकों का टिकट काटने जा रही है।

जवाब - देखिए , सरकार में रहते हुए कई बार , कई वजहों से पार्टी कार्यकतार्ओं या जनता में थोड़ी बहुत निराशा या नाराजगी हो जाती है । इसे लेकर केंद्रीय नेतृत्व सर्वे कराएगा, सीट के अनुसार अध्ययन करेगा और उसके बाद टिकट बंटवारे को लेकर पार्टी नेतृत्व ही फैसला करेगा लेकिन मैं कह सकता हूं कि हिमाचल में इस तरह की एंटी इनकंबेंसी का कोई दौर नहीं है।

सवाल - सीटों को लेकर भी आपने क्या कोई टारगेट सेट किया है ?

जवाब - मैं इतना ही कहूंगा कि हिमाचल प्रदेश में दोबारा से भाजपा की सरकार बनेगी और अच्छे बहुमत के साथ बनेगी।

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement