How was white cotton produced in America-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 10, 2021 3:21 am
Location
Advertisement

अमेरिका में सफेद कपास का उत्पादन कैसे हुआ?

khaskhabar.com : शुक्रवार, 16 अप्रैल 2021 11:46 AM (IST)
अमेरिका में सफेद कपास का उत्पादन कैसे हुआ?
बीजिंग| 18वीं और 19वीं सदी तक, कपास उद्योग अमेरिका के लिए आय के मुख्य स्रोतों में से एक था। उस समय अमेरिका को 'कपास साम्राज्य' भी कहा जाता था। अमेरिका के लिए, कपास न केवल एक आर्थिक शक्ति थी, बल्कि एक राजनीतिक शक्ति भी थी। कपास को उन कारकों में से एक माना जाता है, जिन्होंने उस समय गृहयुद्ध शुरू किया था। अमेरिका के दक्षिणी राज्यों में कपास की खूब खेती होती थी, लेकिन इसे उगाना घाटे का सौदा माना जाता था। कारण यह था कि कॉटन के बीज से कॉटन निकालने में बहुत समय और पैसा लगता था। इसमें इतना समय और पैसा लगता था कि एक बार तो किसान कॉटन की खेती बंद करने की बात सोचने लगे थे।

लेकिन इसे आसान बनाया 'कॉटन जिन' नामक मशीन के आविष्कारक इली ह्विटनी ने। 8 दिसंबर 1765 को मैसाचुएट्स, अमेरिका में जन्मे इली ह्विटनी ने सन् 1793 में 'कॉटन जिन' मशीन का आविष्कार किया। इस मशीन के द्वारा एक दिन में करीब 25 किलो कॉटन को बीजों से निकाला जा सकता था। इस आविष्कार के कारण अमेरिका में कॉटन की खेती बढ़ गई और विश्व बाजार में कॉटन के कपड़े छा गए।

परंतु, इससे पहले अमेरिका में कपास उत्पादन का स्तर बहुत कम था और इसकी अर्थव्यवस्था के लिए बहुत कम महत्व था। वृक्षारोपण प्रणाली मुख्य रूप से तंबाकू, धान और इंडिगो पर आधारित थी। कपड़ा उद्योग में कपास की स्थिति के बारे में सभी जानते थे, लेकिन समस्या तकनीकी कठिनाइयों की थी। समय की कमी और श्रम की बचत विधि से कपास के बीजों को फाइबर से अलग करना बहुत मुश्किल होता था। ऐसा इसलिए, क्योंकि कपास ऊन कपास के बीज को लपेटता है, जिससे कपास इकट्ठा करना बहुत मुश्किल हो जाता है।

इली व्हिटनी ने जिस तकनीक का आविष्कार किया वह लोकप्रिय हो गया, लेकिन अन्य लोगों ने इसे अनधिकृत रूप से उपयोग करना शुरू कर दिया, जिसके परिणामस्वरूप न्यूनतम वित्तीय लाभ हुआ। कॉटन जिन की लोकप्रियता के साथ, अमेरिका में बड़े पैमाने पर कपास उद्योग का जन्म हुआ।

कपास उगाने वाले उद्योग का विस्तार अमेरिका के अनेक राज्यों में हुआ, जिसमें दक्षिण कैरोलिना, उत्तरी कैरोलिना, जॉर्जिया और वर्जीनिया शामिल हैं और जल्दी से पश्चिम की ओर फैल गया। बाद में, टेक्सास और एरिजोना प्रमुख कपास उत्पादक क्षेत्र बन गए। सन् 1926 तक, अमेरिका में कपास का क्षेत्रफल करीब 4.5 करोड़ एकड़ तक फैल गया।

अमेरिका के दक्षिणी भाग में कपास अर्थव्यवस्था राजनीति, संस्कृति और जीवन का केंद्र बन गया। अमेरिका को 'कॉटन किंग' कहा जाने लगा। यह केवल एक उपनाम नहीं है, बल्कि यह शक्ति और धन का प्रतिनिधित्व भी करता है। अमेरिका ने विस्तारित कपास उद्योग में काम करने के लिए कई भारतीय श्रमिकों को मार डाला। अफ्रीका से अमेरिका लाए गए दासों का मुख्य व्यवसाय या तो कपास उद्योग में था या खनन उद्योग में। उन दासों का मूल्य कपास के मूल्य से जुड़ा हुआ था।

अमेरिकियों के लिए उन गुलामों के हाथ और पैर काटना आम बात थी जो कपास नहीं उठा सकते थे। अमेरिकी उनके कटे हुए स्थान पर नमक और मिर्च लगाते थे। सजा के रूप में, दासों को मौत की सजा देते थे। कमजोर और बीमार गुलामों को मार दिया करते थे। श्वेत अमेरिकी ऐसे दृश्यों का आनंद लेते थे। यदि किसी गुलाम ने गलती की या अपराध किया, तो उसकी आंखों को फोड़ देते थे, या कान काट देते थे, हर तरह की यातनाएं दी जाती थीं।

अमेरिकी कपास की खेती में ये आम घटनाएं थीं। 100 से अधिक वर्षों के लिए, अमेरिकी शासकों ने कपास की खेती के 'मजबूर श्रम' पद्धति के माध्यम से धन, प्रतिष्ठा और शक्ति अर्जित की। अमेरिका में कपास के खेतों में अभी भी गुलामों के अवशेष हैं। मिसिसिपी राज्य ने 2013 तक दासता को समाप्त करने के लिए मतदान प्रक्रिया को पूरा नहीं किया। इसका मतलब है कि 21वीं सदी के बाद भी अमेरिका में कानूनी दास मौजूद हैं।

(साभार : चाइना मीडिया ग्रुप, पेइचिंग)

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement