Himachal apple growers hope to benefit from bountiful rains -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 27, 2021 4:13 am
Location
Advertisement

हिमाचल के सेब उत्पादकों को भरपूर बारिश से लाभ की उम्मीद

khaskhabar.com : रविवार, 01 अगस्त 2021 8:39 PM (IST)
हिमाचल के सेब उत्पादकों को भरपूर बारिश से लाभ की उम्मीद

शिमला। भारत के प्रमुख सेब उत्पादक क्षेत्रों में से एक हिमाचल प्रदेश में सेब उत्पादक उत्साहित हैं कि बारिश की गतिविधि बढ़ने से फल को अधिकतम आकार हासिल करने में मदद करने के लिए पर्याप्त नमी मिलेगी। यह कुल सेब उत्पादन को भी बढ़ाएगा।

राज्य के बागवानी विभाग ने कहा कि फलों की कटाई अभी कम सेब बेल्टों में शुरू हुई है। मुख्य रूप से शिमला जिले में, जहां अकेले राज्य के कुल सेब उत्पादन का 80 प्रतिशत हिस्सा है।

बागवानी विभाग ने कहा कि 30 जुलाई तक देश के विभिन्न बाजारों में कुल 6,60,000 सेब के डिब्बे भेजे जा चुके हैं।

बागवानी निदेशक जे.पी. शर्मा ने आईएएनएस को बताया कि इस साल पहाड़ी राज्य में सेब का उत्पादन 4 करोड़ पेटी होने का अनुमान है, जो पिछले साल के 3 करोड़ पेटियों की तुलना में बेहतर है।

हिमाचल प्रदेश की 90 प्रतिशत से अधिक सेब उपज घरेलू बाजार में जाती है। सेब कुल क्षेत्रफल का 49 प्रतिशत फल फसलों के अंतर्गत आता है और राज्य की 85 प्रतिशत फल अर्थव्यवस्था 4,000 करोड़ रुपये है।

2020-21 के आर्थिक सर्वेक्षण में कहा गया है कि राज्य में सेब उत्पादन के तहत क्षेत्र 1950-51 में 400 हेक्टेयर से बढ़कर 2019-20 में 1,14,144 हेक्टेयर हो गया है। 2019-20 में 70 मिलियन बॉक्स के साथ उत्पादन सामान्य था।

वर्तमान में जुब्बल, कोटखाई, रोहड़ू, कोटगढ़, नेरवा और करसोग जैसे क्षेत्रों में सेब की कटाई चल रही है।

शुरूआती सीजन की ये किस्में आम तौर पर 2,200 रुपये से 2,400 रुपये प्रति 20 किलोग्राम मिलती है।

रॉयल डिलीशियस, रेड चीफ, सुपर चीफ, ओरेगन स्पर और स्कारलेट स्पर जैसे सुपीरियर ग्रेड अगस्त के मध्य तक आने लगेंगे।

सेब के लिए प्रमुख बाजार चंडीगढ़, पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में हैं, राज्य की राजधानी से लगभग 65 किमी दूर नारकंडा शहर फलों के व्यापार का एक प्रमुख केंद्र है।

एसपी भारद्वाज, पूर्व संयुक्त निदेशक, डॉ. वाई.एस. परमार यूनिवर्सिटी ऑफ हॉर्टिकल्चर एंड फॉरेस्ट्री ने आईएएनएस को बताया कि इस सीजन में फसल 70 मिलियन बॉक्स के सामान्य उत्पादन से 25-30 फीसदी कम रहने की उम्मीद है।

फसल में गिरावट का मुख्य कारण सर्दियों में बर्फ की कमी और फिर जुलाई के मध्य तक कम बारिश है।

उन्होंने कहा, "जून और जुलाई में फसल को फल और रंग के विकास के लिए नमी की आवश्यकता होती है। परिपक्व मौसम के दौरान पानी की कमी न केवल फलों की गुणवत्ता और उत्पादन को प्रभावित करती है, बल्कि इसके परिणामस्वरूप फल गिर जाते हैं।"

उन्होंने कहा, "अब बारिश की गतिविधि में वृद्धि के साथ, जहां भी कटाई शुरू होनी बाकी है, वहां फसल का आकार बढ़ जाएगा।"

भारद्वाज के मुताबिक वजन के आधार पर फल बेचा जाता है। अधिकतम आकार प्राप्त करने का अर्थ है मात्रा में समग्र वृद्धि।

राज्य की राजधानी के पास ढल्ली में सेब बाजार में व्यापारी जियान ठाकुर ने कहा कि सेब के मौसम की शुरूआत के साथ दिल्ली के आजादपुर बाजार में 20 किलो के डिब्बे की कीमत 2,400 रुपये है।

एक बड़ी खेप दिल्ली के थोक बाजार और हरियाणा के पंचकुला में जा रही है, जहां उन्हें अच्छे दाम मिल रहे हैं।

उन्होंने कहा, "पिछले साल की तरह, इस बार भी गुजरात और महाराष्ट्र के व्यापारी महामारी के कारण नहीं पहुंचे हैं। किसान अपनी फसल सीधे दिल्ली और पंचकुला के बाजारों में ले जा रहे हैं।"

स्थानीय मौसम विभाग के अनुसार, शुरूआती मानसून के बावजूद पहाड़ी राज्य में जून में 16 प्रतिशत कम वर्षा हुई। फरवरी में यह माइनस 80 फीसदी तक था।

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि 8 जुलाई के बाद व्यापक रूप से भारी से बहुत भारी बारिश की शुरूआत के साथ राज्य में बारिश की गतिविधियां तेज हो गई हैं।

राज्य में कुल खेती योग्य क्षेत्र का लगभग 81 प्रतिशत भाग वर्षा पर निर्भर है।

किसानों का कहना है कि अप्रैल और मई में बेमौसम बर्फबारी और बार-बार ओलावृष्टि से फसल को नुकसान हुआ है।

बागवानी विभाग के अनुमान के अनुसार कोल्ड चेन की कमी के कारण 25 प्रतिशत फल उपज खराब हो जाती है।

--आईएएनएस

आरएचए/आरजेएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement