Green signal to fill 4245 posts in Health and Medical Education Departments of Punjab-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 14, 2020 1:27 pm
Location
Advertisement

पंजाब के स्वास्थ्य और मेडीकल शिक्षा विभागों में 4245 पद भरने के लिए हरी झंडी

khaskhabar.com : बुधवार, 01 जुलाई 2020 12:22 PM (IST)
पंजाब के स्वास्थ्य और मेडीकल शिक्षा विभागों में 4245 पद भरने के लिए हरी झंडी
चंडीगढ़ । कोरोनावायरस के फैलाव के कारण सरकारी अस्पतालों में मरीज़ों की बढ़ रही संख्या के कारण स्थिति से और प्रभावी ढंग के द्वारा निपटने के लिए पंजाब मंत्रीमंडल ने स्वास्थ्य विभाग में खाली पड़े 3954 रेगुलर पद और मैडीकल शिक्षा और अनुसंधान विभाग में 291 पद भरने के लिए हरी झंडी दे दी है।
यह फ़ैसला मुख्यमंत्री कार्यालय में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की अध्यक्षता अधीन हुई मंत्रालय की मीटिंग के दौरान लिया गया।
मुख्यमंत्री कार्यालय के एक प्रवक्ता ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग में 3954 पदों में से 2966 पद पहले पड़ाव में भरे जाएंगे जबकि बाकी 988 पद अगले पड़ाव में भरे जाएंगे जो 30 सितम्बर, 2020 को रिक्त होंगे। मंत्रीमंडल ने डा. के.के. तलवाड़ के नेतृत्व में विशेष चयन कमेटी की तरफ से वॉक-इन -इंटरव्यू के द्वारा मैडीकल अफसरों (स्पैशलिस्ट) की जाने वाली भर्ती को भी जारी रखने की मंज़ूरी दे दी है।
इसी तरह मंत्रीमंडल ने डाक्टरों, पैरा मैडीकल और अन्य स्टाफ की भर्ती पंजाब लोक सेवा आयोग और पंजाब अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड के घेरे में से निकाल कर बाबा फऱीद यूनिवर्सिटी ऑफ हैल्थ सायंसज़, फरीदकोट के द्वारा करने की मंजूरी दे दी है। बाबा फऱीद यूनिवर्सिटी के द्वारा यह पद भरने का फ़ैसला कोविड -19 की महामारी के दरमियान आपात ज़रूरतों के मद्देनजऱ लिया गया है जबकि इससे पहले ग्रुप ए और बी की भर्ती पंजाब लोक सेवा आयोग और ग्रुप सी और डी की भर्ती अधीनस्थ सेवाएं चयन बोर्ड द्वारा की जाती है।
विस्तार में जानकारी देते हुये प्रवक्ता ने बताया कि 2966 पदों में से 235 मैडीकल अफ़सर (जनरल), एक मैडीकल अफ़सर स्पैशलिस्ट (माईक्रोबायोलॉजिस्ट), चार मैडीकल अफ़सर स्पैशलिस्ट (सोशल प्रीवैंटिव मैडिसन), 35 मैडीकल अफ़सर (डैंटल), 598 स्टाफ नर्सें, 180 फार्मासिस्ट (फार्मेसी अफ़सर), 600 मल्टीपरपज़ हैल्थ वर्कर (महिला) और 200 मल्टीपरपज़ हैल्थ वर्कर (पुरुष), 139 रेडीयोग्राफरज़, 44 डायलसिस टैकनीशियन, 116 ओपरेशन थियेटर ऐसिस्टैंट, 14 ई.सी.जी. टैकनीशियन के अलावा 800 वार्ड अटेंडेंट की भर्ती की जायेगी। इनके अलावा मंत्रीमंडल ने 30 सितम्बर, 2020 को रिक्त होने वाले कुल 988 पदों के विरुद्ध 265 मैडीकल अफ़सर (जनरल), 323 मैडीकल अफ़सर स्पैशलिस्ट, 302 फार्मासिस्ट (फार्मेसी अफ़सर) और 98 एम.एल.टी. (ग्रेड -2) की भर्ती करने का फ़ैसला किया है।
मंत्रीमंडल ने पहले से सरकारी नौकरी कर रहे व्यक्तियों की प्रत्यक्ष भर्ती के द्वारा नियुक्ति में ऊपरी आयु सीमा 45 साल तक करने की छूट की राह पर स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग के विभिन्न विंगों/संस्थानों में ठेके/आउटसोर्सिंग के आधार पर पहले ही काम कर रहे मुलाजिमों की भर्ती के समय ऊपरी आयु सीमा 45 साल तक करने में छूट देने की मंज़ूरी दे दी है। हालाँकि, शैक्षिक योग्यता में किसी किस्म की ढील नहीं मिलेगी।
उक्त मुलाजिमों के लिए ऊपरी आयु सीमा 45 साल तक करने की छूट इस कारणकी गई क्योंकि वह विभाग के कामकाज से अच्छी तरह वाकिफ़ हैं और कोविड -19 की महामारी के दौरान उन्होंने शानदार सेवाएं निभाई।
जूनियर रैज़ीडैंटस को एक साल के लिए सीनियर रैज़ीडैंटस के तौर पर रखने की मंजूरी
कोविड -19 महामारी के खि़लाफ़ लड़ाई के विरुद्ध एक अन्य अहम फ़ैसले में कैबिनेट की तरफ से उन्होंने जूनियर रैज़ीडैंटस को सीनियर रैज़ीडैंटस (एडहॉक) के तौर पर एक साल के लिए उनकी तरफ से दिये बाँड के अनुसार एक साल के लिए रखे जाने के लिए मंजूरी दी गई जिनकी तरफ से तीन साल की पोस्ट ग्रेजुएशन पास कर ली गई है। कुल 232 जूनियर रैज़ीडैंट (पी.सी.एम.एस वर्ग के जूनियर रैज़ीडैंटों के अलावा) को उनकी तरफ से दिए बाँड के अनुसार रखा जायेगा क्योंकि सीनियर रैज़ीडैंटों के 267 पद इनके लिए हाल ही में दिए गए विज्ञापन के बाद भी अभी तक रिक्त पड़े हैं। कैबिनेट की तरफ से विभाग के द्वारा 32 सहायक प्रोफैसरों (एनेसथीसिया) के कांट्रेक्ट आधार पर एक साल के लिए और 7 सुपर स्पैशलिस्ट डाक्टरों की रेगुलर स्तर पर भर्ती करने के लिए भी मंजूरी दी गई है। इसके अलावा एक साल के लिए एनेसथीसिया तकनीशियनों के 20 पदों को भी मंज़ूरी दी गई है।
रोजग़ार सृजन और प्रशिक्षण विभाग की साल 2016 -17 और 2017 -18 की प्रशासकीय रिपोर्टें मंजूर
मंत्रीमंडल द्वारा रोजग़ार सृजन और प्रशिक्षण विभाग की साल 2016 -17 और 2017 -18 की सालाना प्रशासकीय रिपोर्टों को मंजूरी दे दी गई है।



ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement