Getting recognition and respect at the national level is a matter of pride for the entire police force: Director General of Police-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 21, 2019 12:41 am
Location
Advertisement

राष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान पाना पूरे पुलिस बल के लिए गर्व की बात : पुलिस महानिदेशक

khaskhabar.com : शुक्रवार, 23 अगस्त 2019 10:07 PM (IST)
राष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान पाना पूरे पुलिस बल के लिए गर्व की बात : पुलिस महानिदेशक
चंडीगढ़। हरियाणा पुलिस को आज फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (फिक्की) द्वारा दो स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड से सम्मानित किया गया।

हरियाणा पुलिस को ये पुरस्कार प्रशिक्षण एवं क्षमता निर्माण श्रेणी में ‘डिजिटल जांच, प्रशिक्षण और विश्लेषण केंद्र (डीआईटीएसी)’ के तहत श्रेष्ठ प्रयासों के लिए और सामुदायिक पुलिसिंग की श्रेणी में ‘आपकी संगिनी’ के तहत सर्वोत्तम प्रथाओं के बढ़ाने के लिए प्रदान किया गया।
आज नई दिल्ली में आयोजित एक समारोह में हरियाणा पुलिस की ओर से अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक, सीआईडी अनिल कुमार कुमार राव ने डीआईटीएसी के लिए फिक्की स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड-2019 और डीसीपी पूर्वी गुरुग्राम, श्रीमती सुलोचना गजराज ने ‘आपकी संगिनी’ पहल के लिए स्मार्ट पुलिसिंग अवार्ड-2019 प्राप्त किया।

पुलिस महानिदेशक मनोज यादव ने दो प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पुरस्कारों से नवाजे जाने पर पुलिस अधिकारियों को बधाई देते हुए कहा कि राष्ट्रीय स्तर पर पहचान व सम्मान पाना पूरे पुलिस बल के लिए गर्व की बात है। उन्होंने डीआईटीएसी व आपकी संगिनी की समस्त टीम को उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन और इस पुरस्कार को प्राप्त करने के लिए भी बधाई दी।
डीआईटीएसी की स्थापना सीआईडी हरियाणा के तत्वावधान में राष्ट्रीय तकनीकी अनुसंधान संगठन के सहयोग से गुरुग्राम में की गई है। इस संबंध में अगस्त 2016 में समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए गए थे।

सीआईडी प्रमुख अनिल कुमार राव के व्यक्तिगत प्रयासों से डीआईटीएसी को एक रिकॉर्ड समय में स्थापित किया गया था और 28 दिसंबर, 2016 को हरियाणा के मुख्यमंत्री द्वारा इसका उद्घाटन किया गया था। सोशल मीडिया मॉनिटरिंग सेल, साइबर लैब और ट्रेनिंग लैब इसके तीन प्रमुख विंग हैं।

सामुदायिक पुलिसिंग श्रेणी के तहत तत्कालीन एसपी पलवल सुलोचना गजराज ने आपकी संगिनी परियोजना की शुरुआत की थी। इसके तहत, महीने में दो बार चार दिवसीय जागरूकता सत्र मॉड्यूल का आयोजन किया गया, जिसमें लडकियों व महिलाओं को आत्मरक्षा प्रशिक्षण के साथ पोश/पोक्सो और साइबर-क्राइम जागरूकता सत्र शामिल हैं। ये जागरूकता सत्र पलवल जिले के चुनिंदा सरकारी स्कूलों और कॉलेजों सहित गांवों में आयोजित किए गए थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement