Geeta Sthal will be on Puran Dhar of Kurukshetra-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 12, 2020 7:03 am
Location
Advertisement

गीता स्थली कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर होगा पवित्र ग्रंथ गीता पर शोध

khaskhabar.com : शनिवार, 25 नवम्बर 2017 4:21 PM (IST)
गीता स्थली कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर होगा पवित्र ग्रंथ गीता पर शोध
कुरूक्षेत्र । गीतास्थली कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर अब पवित्र ग्रंथ गीता के एक-एक शब्द पर शोध सम्भव हो पाएगा। इस असम्भव कार्य को सम्भव करने के लिए राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने गीता ज्ञान संस्थानम् के अंतर्गत बनने वाले अंतर्राष्ट्रीय भगवद गीता शोध केन्द्र एवं संदर्भ ग्रंथालय का शिलान्यास किया।
राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद की प्रेरणा से गीता ज्ञान संस्थानम् के अंतर्गत बनने वाले अंतर्राष्ट्रीय भगवद गीता शोध केन्द्र एवं संदर्भ ग्रंथालय का शिलान्यास करने के लिए जैसे ही परिसर में पहुंचे तो यहां पहुंचने पर काव्या और पारनिका ने तिलक लगाकर राष्ट्रपति का अभिनंदन और गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद तथा संस्था के तमाम पदाधिकारियों ने महामहिम राष्ट्रपति को पुष्पगुच्छ भेंटकर स्वागत किया। इसके पश्चात राष्ट्रपति ने करीब 40 करोड़ रुपए की लागत से बनने वाले गीता शोध केन्द्र और संदर्भ ग्रंथालय का मंत्रोच्चारण के बीच हरियाणा के राज्यपाल प्रोफेसर कप्तान सिंह सोलंकी, हिमाचल के राज्यपाल आचार्य डॉ० देवव्रत, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल, गीता मुनीषी स्वामी ज्ञानानंद, गुजरात से आए आचार्य सभा के राष्ट्रीय महासचिव परमात्मानंद, प्रसिद्ध कथावाचक संजीव कृष्ण शास्त्री की गौरवमयी उपस्थिति के बीच शिलान्यास किया।
गीता मनीषी स्वामी ज्ञानानंद ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को अंतर्राष्ट्रीय भगवद गीता शोध केन्द्र एवं संदर्भ ग्रंथालय के बारे में विस्तृत जानकारी देते हुए बताया कि गीता ज्ञान संस्थानम में विश्वभर में गीता पर हुए शोध को संकलित किया जाएगा। इस संस्थान में गीता पर शोध करने वाले शोधार्थियों को सम्बन्धित सामग्री उपलब्ध करवाई जाएगी ताकि गीता पर और अधिक विस्तृत शोध हो सके। संस्थान का मकसद हैं कि गीता के एक-एक शब्द पर विस्तृत शोध होना चाहिए। गीता ज्ञान संस्थानम् की परियोजना पर लगभग 100 करोड़ रुपए खर्च होगा और शोध केन्द्र और ग्रंथालय पर करीब 40 करोड़ रुपए का खर्च आएगा और इस शोध केन्द्र को 2 साल में मुक्कमल करने का प्रयास किया जाएगा। शोधार्थियों को संस्थान में पुस्तकालय व उनके आवास की भी व्यवस्था होगी। इस कार्यक्रम के अंत में स्वामी ज्ञानानंद ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पवित्र ग्रंथ गीता और प्रसाद भेंट किया।
इस अवसर पर हरियाणा के शिक्षा एवं पर्यटन मंत्री राम बिलास शर्मा, नगर निकाय मंत्री कविता जैन, परिवहन मंत्री कृष्ण पंवार, थानेसर विधायक सुभाष सुधा, लाडवा विधायक डा. पवन सैनी, सूचना, जन सम्पर्क एवं भाषा विभाग के निदेशक समीर पाल सरो, कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड के सदस्य सचिव एवं राज्यपाल के सचिव अमित अग्रवाल, उपायुक्त कुरूक्षेत्र, सुमेधा कटारिया, केडीबी के मानद सचिव अशोक सुखीजा, भाजपा के जिलाध्यक्ष धर्मवीर मिर्जापुर, नगर परिषद की अध्यक्षा उमा सुधा, आरएसएस के विभाग कार्यवाहा डा. प्रीतम सिंह, हसंराज सिंगला, महेन्द्र सिंगला, उपेन्द्र सिंगला, एस पी कौशिक, वासुदेव, अशोक चावला, राधे श्याम, मिनाक्षी नरुला, ज्योति छाबड़ा सहित संस्थान से जुड़े गणमान्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement