Four couples in Lok Sabha polls ready to go to Parliament-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jun 4, 2020 11:04 am
Location
Advertisement

लोकसभा चुनाव में चार दंपती संसद जाने की तैयारी में, यहां जानें कौन-कौन

khaskhabar.com : मंगलवार, 07 मई 2019 12:47 PM (IST)
लोकसभा चुनाव में चार दंपती संसद जाने की तैयारी में, यहां जानें कौन-कौन
नई दिल्ली। सन् 1978 में आई फिल्म 'मुसाफिर' का गीत 'मोरे सैंया भए कोतवाल तो अब डर काहे का' इतना लोकप्रिय हुआ कि यह मुहावरे के रूप में आज भी प्रचलित है। लेकिन यदि 'सैंया' और 'सजनी' दोनों कोतवाल बन जाएं तब कौन-सा मुहावरा होगा? जाहिर है, बिल्कुल नया मुहावरा होगा और इसे गढ़ रहे हैं चार दंपती, जो संसद जाने की जुगत में इस बार लोकसभा चुनाव के मैदान में हैं।
इन चार दंपतियों में अखिलेश यादव-डिंपल यादव, राजेश रंजन (पप्पू यादव)-रंजीत रंजन, शत्रुघ्न सिन्हा-पूनम सिन्हा, सुखबीर सिंह बादल-हरसिमरत कौर बादल शामिल हैं। समाजवादी पार्टी (सपा) के अध्यक्ष अखिलेश यादव इस बार के लोकसभा चुनाव में आजमगढ़ सीट से गठबंधन के उम्मीदवार हैं। इसके पहले वह तीन बार (2000, 2004, 2009) कन्नौज लोकसभा सीट से निर्वाचित हो चुके हैं। 15 मार्च, 2012 को वह 38 साल की उम्र में उत्तर प्रदेश के सबसे युवा मुख्यमंत्री बने थे।
तीन मई, 2012 को उन्होंने लोकसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया था, और पांच मई, 2012 को वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य निर्वाचित हो गए थे। आजमगढ़ में अखिलेश का मुख्य मुकाबला भाजपा उम्मीदवार भोजपुरी गायक-अभिनेता दिनेश लाल यादव 'निरहुआ' से है। कांग्रेस ने इस सीट से उम्मीदवार नहीं उतारे हैं। अखिलेश की पत्नी डिंपल यादव पति अखिलेश की पुरानी सीट कन्नौज से उम्मीदवार हैं। डिंपल हालांकि अपना पहला लोकसभा चुनाव 2009 में कांग्रेस उम्मीदवार राज बब्बर से फिरोजाबाद सीट से हार गई थीं। तब अखिलेश ने दो सीटों -कन्नौज और फिरोजाबाद- से चुनाव लड़ा था, और दोनों पर उन्होंने जीत दर्ज की थी। बाद में उन्होंने फिरोजाबाद सीट छोड़ दी थी। हालांकि, उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सपा की जीत के बाद अखिलेश ने कन्नौज सीट भी छोड़ दी और 2012 में इस सीट पर हुए उपचुनाव में डिंपल निर्विरोध निर्वाचित हुई थीं। डिंपल ने 2014 के चुनाव में भी इस सीट से जीत दर्ज की। वह तीसरी बार कन्नौज से चुनाव मैदान में हैं। लेकिन अभी तक पति-पत्नी दोनों एक साथ संसद नहीं जा पाए हैं। उम्मीद है, इस बार दोनों की मुराद पूरी हो जाएगी।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/4
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement