Dr. Harsh Vardhan said, Dedicated and collective efforts brought 124 people from Japan and 112 from Wuhan to safe India-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Apr 6, 2020 4:06 pm
Location
Advertisement

समर्पित और सामूहिक प्रयासों से जापान से 124 लोगों और वुहान से 112 लोगों को सुरक्षित भारत लाया गया: डॉ. हर्ष वर्धन

khaskhabar.com : गुरुवार, 27 फ़रवरी 2020 4:31 PM (IST)
समर्पित और सामूहिक प्रयासों से जापान से 124 लोगों और वुहान से 112 लोगों को सुरक्षित भारत लाया गया: डॉ. हर्ष वर्धन
नई दिल्ली/जयपुर। केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने बताया है कि जापान से 119 भारतीय नागरिकों और श्रीलंका, नेपाल, दक्षिण अफ्रीका और पेरू के 5 नागरिकों समेत 124 लोगों को जापान से एयर इंडिया के विमान से गुरुवार को दिल्ली लाया गया। इन लोगों को योकोहामा में समुद्र तट पर कोरोना वायरस कोविद-19 के कारण ‘डायमंड प्रिसेस क्रूज समुद्री जहाज’ के भीतर अलग रखा गया था। इसके अलावा वुहान से 112 लोगों को भी भारतीय वायुसेना के विमान से गुरुवार को नई दिल्ली लाया गया है। इनमें 76 भारतीय नागरिक और बांग्लादेश, म्यामां, मालदीव, चीन, दक्षिण अफ्रीका, अमरीका और मेडागास्कर के 36 नागरिक शामिल हैं।

केन्द्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्री डॉ. हर्ष वर्धन ने बताया कि सभी निकाले गए व्यक्ति भारत पहुंच गए हैं। डॉ. हर्ष वर्धन ने यह भी कहा कि जापान से लाए गए लोगों को मानेसर स्थित सेना के शिविर में आइसोलेशन (अलग) में रखा जाएगा, जबकि वुहान से लाए गए लोगों को छावला में आईटीबीपी केन्द्र में अलग रखा जाएगा। उन्होंने कहा कि क्रूज डायमंड प्रिंसेस के 138 भारतीय नागरिकों में से 122 की जांच की गई थी और 119 निगेटिव पाए गए थे और तीन भारतीय नागरिकों ने फिलहाल भारत लौटने की इच्छा व्यक्त नहीं की। जापान में इस समय 16 लोग अस्पताल में हैं और उनका उपचार चल रहा है तथा उन्हें अलग रखा गया है। भारत सरकार ने मानवीय सहायता के रूप में चीन के वुहान में कोविद-19 से निपटने के लिए 15 टन चिकित्सा राहत की सामग्री भेजी है।

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा, ‘मैं सभी पक्षों का आभार व्यक्त करता हूं और मुझे इस बात का गर्व है कि विभिन्न मंत्रालयों, हमारे सशस्त्र बलों, डॉक्टरों, एयर इंडिया, चीन और जापान में स्थित हमारे दूतावासों और अन्य पक्षों के सहयोग से इतनी बड़ी संख्या में लोगों को सुरक्षित लाना संभव हुआ है। सभी एजेंसियों के मिले-जुले समर्पित प्रयासों को हम सलाम करते हैं’। भारत की वसुधैव कुटुम्बकम की भावना के अनुरूप हमने भारतीय नागरिकों और अन्य देशों के नागरिकों को जापान और वुहान से सुरक्षित निकाला।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि कोविद-19 के प्रसार के बारे में उभर रही वैश्विक स्थिति के मद्देनजर पिछले यात्रा परामर्शों के अलावा अतिरिक्त निर्देश जारी किए गए हैं। भारतीय नागरिकों को सलाह दी गई है कि वे जब तक अत्यंत आवश्यक न हो, सिंगापुर, कोरिया गणराज्य, ईरान और इटली की यात्रा नहीं करें। कोरिया, ईरान और इटली से आने वाले उन लोगों तथा 10 फरवरी, 2020 से वहां गए लोगों के लौटने के बाद उन्हें भारत में 14 दिन के लिए अलग रखा जाएगा।

डॉ. हर्ष वर्धन ने कहा कि संयुक्त सचिव स्तर के स्वास्थ्य मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारी कोविद-19 की निगरानी की तैयारी और प्रबंधन का जायजा लेने के लिए विभिन्न राज्यों में हैं। इससे राज्य स्तर पर निगरानी व्यवस्था को मजबूत बनाने और इस रोग के बारे में चिंता के समाधान में मदद मिलेगी। इन अधिकारियों को अनुपालन के लिए एक चेक लिस्ट दी गई है, वे 2 मार्च, 2020 को मंत्रालय को अपनी रिपोर्ट सौंपेंगे।

केन्द्रीय मंत्री ने कहा कि अब तक 4787 उड़ानों से आए 4,87,927 यात्रियों की स्क्रिनिंग की गई। यह स्क्रिनिंग 21 हवाई अड्डों, 12 अन्य बंदरगाहों तथा विशेष रूप से नेपाल के साथ लगी सीमा के प्रवेश स्थलों पर की गई और अब भी स्क्रिनिंग की जा रही है। यात्रियों को सामुदायिक निगरानी में रखा गया है। यह कार्य प्रतिदिन एकीकृत रोग निगरानी कार्यक्रम के अंतर्गत किया जा रहा है। वर्तमान में सामुदायिक निगरानी में 23,531 लोग हैं। इसके अलावा 2836 नमूने जांच के लिए भेजे गए, जिसमें 2830 निगेटिव पाए गए, केरल में तीन पॉजिटिव पाए गए और इन तीनों रोगियों को उपचार के बाद घर भेज दिया गया है। अभी तीन नमूनों की जांच रिपोर्ट आनी शेष है। मानेसर और छावला शिविर में रखे गए 645 यात्रियों को 18 फरवरी, 2020 को छुट्टी दे दी गई।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement