Dr. Banwari Lal said, Land Development Bank in Haryana will not be closed-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Feb 23, 2020 1:38 pm
Location
Advertisement

अरबों के कर्ज की वसूली नहीं होने से ख़राब है हरियाणा भूमि विकास बैंक की हालत, सहकारिता मंत्री बोलें नहीं होंगे बंद

khaskhabar.com : शुक्रवार, 17 जनवरी 2020 7:35 PM (IST)
अरबों के कर्ज की वसूली नहीं होने से ख़राब है हरियाणा भूमि विकास बैंक की हालत, सहकारिता मंत्री बोलें नहीं होंगे बंद
निशा शर्मा
चंडीगढ़। अरबों रुपए के कर्ज की वसूली नहीं हो पाने से हरियाणा भूमि विकास बैंक की हालत ख़राब है, लेकिन इसे बंद करने का कोई प्रस्ताव अभी खट्टर सरकार के विचाराधीन नहीं है। सहकारिता मंत्री ने कर्ज की वसूली के लिए किसानों के लिए ब्याजमाफी की योजना को 31 जनवरी तक आगे बढ़ा दिया है।

भूमि विकास बैंक की जो शाखाएं इस समय घाटे में हैैं, वहां अब कर्ज देने का काम बंद कर दिया गया है, लेकिन वसूली की प्रक्रिया बाधित नहीं हो, इसलिए वहां स्टाफ बना रहेगा, अगर बैंक की शाखाएं बंद हो गई तो फिर वसूली होना मुश्किल हो जाएगा।

सहकारिता मंत्री डॉ. बनवारी लाल के मुताबिक कर्ज पर ब्याजमाफी योजना शुरु किए जाने के बाद से बैंक के 92 हजार डिफाल्टरों में से एक हजार लोग इसका फायदा उठा चुके हैं, इनसे 250 करोड़ रुपए की वसूली की जा चुकी है। ब्याज माफी के रूप में किसानों को 73 करोड़ रुपए का फायदा मिला है।

इसी तरह जिलों में भी केंद्रीय सहकारी बैैंकों के 32 हजार डिफाल्टरों में से सात हजार ने 152 करोड़ रुपए जमा करवाए हैैं। सहकारी समितियों (पैक्स) के करीब सात लाख डिफाल्टरों से 3,100 करोड़ की वसूली होनी है। ब्याजमाफी योजना के चलते 2.60 लाख किसानों ने अब तक 1,161 करोड़ रुपए जमा करवा दिए हैैं।
बड़े राजनेताओं के भी सहकारी समितियों के कर्जदार होने के सवाल पर डॉ. बनवारी लाल ने कहा, ' 10 लाख से ऊपर के कर्जदार लोग सूचीबद्ध किए गए हैं।' उन्होंने कहा कि एक साथ भुगतान करने में ज्यादातर कर्जदारों ने अपनी असमर्थता जाहिर की है, इसलिए बकायादारों को कुल राशि का 25 फीसदी जमा 31 मार्च तक जमा कराने के लिए कहा गया है, बाकी राशि 10 समान किस्तों में दी जा सकेगी और इनसे 10 फीसदी के हिसाब से ब्याज वसूल किया जाएगा।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement