Disclosure of money laundering in Bhindakua Chamunda Mata temple in Barmer, two accused arrested -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 27, 2021 1:18 pm
Location
Advertisement

बाड़मेर में भिण्डाकुआ चामुण्डा माता मंदिर मे नकबजनी का खुलासा, दो आरोपी गिरफतार

khaskhabar.com : शुक्रवार, 15 अक्टूबर 2021 9:19 PM (IST)
बाड़मेर में भिण्डाकुआ चामुण्डा माता मंदिर मे नकबजनी का खुलासा, दो आरोपी गिरफतार
बाड़मेर। जिले के थाना बालोतरा स्थित जन आस्था केंद्र भिण्डाकुआ चामुण्डा माता मंदिर में 25 सितम्बर की रात हुई चोरी की वारदात का खुलासा कर थाना पुलिस ने मंदिर से चोरी किये गये जेवर के खरीददार व बिचौलिए को गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। जिनसे चोरी के माल की बरामदगी हेतु पूछताछ की जा रही है।
अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक बालोतरा नितेशआर्य ने बताया कि 25 सितम्बर की रात चामुण्डा माता मंदिर भीण्डाकुआ थाना बालोतरा मे नकबजनी की वारदात हुई। अज्ञात चोर मंदिर मे रखी दोनो मुर्तियेा के सोने के मुकुट, तिलक व अन्य आभूषण तथा दान पात्र तोड कर करीब दो से ढाई लाख रूपये ले गये। गांव के नारायण सिंह राजपुरोहित की रिपोर्ट पर मुकदमा दर्ज कर सीओ धनफुल मीणा के निर्देशन व थानाधिकारी बाबु लाल के सुपरविजन में बालोतरा थाने से टीम गठित की गई।
गठित विशेष टीम ने सिरोही व पाली क्षेत्र मे अज्ञात मुलजिमों की तलाश की। इसी दौरान मुखबीर से सूचना मिली कि मंदिर में नकबजनी की घटना मे शरीक नारायण गरासिया ने चोरी किये गये जेवरात राम लाल देवासी पुत्र वनाजी निवासी जूना बेडा के मार्फत ईवर लाल पुत्र उदय चंद सोनी निवासी बेडा को बेचे है। जिस पर टीम ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया। मंदिर में चोरी का आरोपी नारायण गरासिया पुलिस को देख बाईक छोड़ झाड़ियों व पहाडो मे भाग खड़ा हुआ।
नकबजनी के आरोपी हुए चिन्हित


मामले में अशोक कुमार, नारायण, रमेश व सिरमा राम को चिन्हित किया गया है। जिन्हें शीघ्र गिरफ्तार किया जाएगा। चारों आरोपी सिरोही, पाली व भीलवाडा जिले की कई नकबजनी की वारदातो मे वाछित है।

मंदिर में निर्माण कार्य के दौरान मजदूरी कर की रेकी, बाद में साथियों से मिल वारदात को दिया अंजाम

बालोतरा कस्बे के भिण्डाकुआ गांव मे स्थित चामणुडा माता मंदिर मे चल रहे निर्माण कार्य पर अशोक कुमार गरासिया निवासी थाना नाणा मजदुरी करने आया था। जिसने इस दौरान मंदिर कि मुर्तियो पर श्रृंगार के रूप मे चढाये गये सोने व चांदी के जेवरात तथा दान पेटी की रेकी की। उसके बाद अपने गांव कोयलवाव पहुचं गांव के ही रहने वाले गैंग के सदस्य नारायण गरासिया, रमेश कुमार गरासिय व सिरमा राम गरासिया के साथ मिल कर 25 सितम्बर की मध्य रात मंदिर मे नकबजनी की घटना को अंजाम दिया।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement