Delhi failed in pollution control, is maligning Punjab - Naresh Arora-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jan 28, 2021 1:40 pm
Location
Advertisement

प्रदूषण नियंत्रण में दिल्ली नाकाम, पंजाब को कर रही है बदनाम - नरेश अरोड़ा

khaskhabar.com : गुरुवार, 19 नवम्बर 2020 5:03 PM (IST)
प्रदूषण नियंत्रण में दिल्ली नाकाम, पंजाब को कर रही है बदनाम - नरेश अरोड़ा
चंडीगढ़। राजनीतिक रणनीतिकार नरेश अरोड़ा ने गुरुवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को राजधानी में फैले उच्च प्रदूषण का जिम्मेदार बताया है। उनका मानना है कि दिल्ली सरकार खुद की नाकामी से बचने के लिए प्रदूषण का ठीकरा पंजाब के किसानों पर फोड़ रही है।
केजरीवाल पराली जलाने का अतिशयोक्तिपूर्ण प्रचार कर स्वयं की विफल नीतियों को छिपा रहे हैं।
आंकड़े दिल्ली सरकार की वास्तविकता अभिव्यक्त कर रहे हैं। "TERI और IIT द्वारा जारी किए गए तथ्य दर्शाते हैं कि दिल्ली के प्रदूषण में स्वयं के मार्ग अपशिष्ट 40%, उद्योग 20% सार्वजनिक परिवहन 20% उत्तरदाई हैं जबकि पंजाब और हरियाणा जैसे पड़ोसी राज्यों में जलने वाली पराली मात्र 16% ही दिल्ली के प्रदूषण के लिए जिम्मेदार है।"

अरोड़ा ने कहा कि दिल्ली सरकार पंजाब के किसानों के विरुद्ध अनवरत दुष्प्रचार व झूठे तथ्य सार्वजनिक कर रही है तथा इस कोशिश को असफल करने व पंजाब के किसानों की छवि व सम्मान संरक्षण में पंजाब आधारित राजनीतिक दल भी नाकाम सिद्ध हो रहे हैं।

“यह बहुत ही आश्चर्य की बात है कि पंजाब का कोई भी राजनीतिक दल दिल्ली के किसानों द्वारा फैलाए जा रहे प्रदूषण पर मौन है। कई अध्ययन व आंकड़े यह स्पष्ट कर चुके हैं कि सिर्फ पराली जलाना दिल्ली प्रदूषण का सर्वाधिक मुख्य कारण नहीं है| इसके बाद भी सभी दल किसानों को कलंकित करने वाली इस मुहीम के खिलाफ चुप्पी साधे हुए हैं।

"काउंसिल ऑन एनर्जी, एनवायरनमेंट एंड वाटर (CEEW) द्वारा प्रकाशित एक अध्ययन को आधार बनाते हुए अरोड़ा ने कहा कि वाहनों का उत्सर्जन दिल्ली में PM2.5 प्रदूषकों में सबसे अहम है । अध्ययन बताता है कि वाहनों व निर्माण से मिट्टी का गठन कमजोर हो जाता है तथा धूल के माध्यम से PM10 प्रदूषक के रूप में 36 से 66 प्रतिशत का हिस्सेदार होता है।

अरोड़ा ने कहा कि विभिन्न विनिर्माण भी प्रदूषण के लिए उत्तरदाई हैं निर्माण और सड़कों कि खुदाई से मिट्टी होकर बाहर निकल आती है तथा वायुमंडल में फैलकर प्रदूषण वृद्धि में 17 प्रतिशत जिम्मेदार होती है। यह गतिविधि प्रदूषण स्तर को हानिकारक स्थिति में पहुंचा देती है।

अरोड़ा ने महत्वपूर्ण बिंदु निरूपित किया कि पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर में लैंडफिल के निकट स्थित अपशिष्ट से ऊर्जा निर्माण करने वाला संयंत्र प्रदूषण का बड़ा कारण है। यहाँ से उत्सर्जित प्रदूषण मानव प्रजनन क्षमता पर प्रतिकूल प्रभाव डाल रहा है तथा नवजात शिशु व बच्चों को प्रभावित कर रहा है। यही नहीं यह संयत्र कैंसर जैसी जानलेवा बीमारी को भी बढ़ावा दे रहा है।

नरेश अरोड़ा देश के शीर्ष राजनीतिक अभियानों के रणनीतिकार हैं, जिन्होंने छत्तीसगढ़, राजस्थान, हरियाणा और पंजाब विधानसभा चुनावों में कांग्रेस पार्टी के लिए कई सफल अभियान संचालित किए हैं।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement