DCP suicide scandal: SHO mama trapped in saving nephew-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 7, 2021 7:10 pm
Location
Advertisement

डीसीपी आत्महत्या कांड : भांजे को बचाने में फंसा एसएचओ मामा

khaskhabar.com : शनिवार, 17 अगस्त 2019 10:10 PM (IST)
डीसीपी आत्महत्या कांड : भांजे को बचाने में फंसा एसएचओ मामा
फरीदाबाद। हरियाणा के आईपीएस और फरीदाबाद एनआईटी पुलिस मुख्यालय में डीसीपी रहे विक्रमजीत सिंह कपूर आत्महत्या मामले में गिरफ्तार एसएचओ इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद ने धीरे-धीरे मुंह खोलना शुरू कर दिया है। इंस्पेक्टर ने यह भी कबूल लिया है कि वह एक आपराधिक मामले फंसे अपने भांजे का नाम हटवाने के चक्कर में खुद ही फंस गया। चार दिन पहले तक हरियाणा पुलिस में आतंक का दूसरा नाम रहे और फिलहाल पुलिस हिरासत में चल रहे आरोपी इंस्पेक्टर ने डीसीपी को ब्लैकमेल करने के बाबत कुछ सनसनीखेज खुलासे किए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, अपनी ही पुलिस के जाल में बुरी तरह फंस चुके इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद ने हिरासत में पूछताछ के दौरान माना है कि उसके भांजे के खिलाफ मुजेसर थाने में हत्या की कोशिश का मामला दर्ज था। आरोपी ने अपने भांजे को बचाने के लिए डीसीपी विक्रमजीत सिंह कपूर से गुजारिश की थी। कपूर ने जब मदद नहीं की तो अब्दुल उनसे चिढ़ गया। उसने कपूर की घेराबंदी करके उन्हें कमजोर कर जाल में फंसाने का षड्यंत्र रचा। इस षड्यंत्र में शातिर दिमाग और अब भूपानी थाने (नहरपार फरीदाबाद) के निलंबित इंस्पेक्टर अब्दुल शाहिद ने अपनी एक पूर्व परिचित महिला और एक तथाकथित पत्रकार को साजिश में शामिल कर लिया।

साजिशन, महिला के जरिये डीसीपी के कई आपत्तिजनक ऑडियो-वीडियो तैयार करवाए गए। उसके बाद कथित ब्लैकमेलर पत्रकार के जरिये डीसीपी कपूर को धमकी दिलवाई गई कि अगर उसने अब्दुल के भांजे को आपराधिक मामले से नहीं बचाया तो इसका गंभीर परिणाम भुगतना होगा। इस मामले में जिस पत्रकार का नाम सामने आया है, वह फरीदाबाद से ही एक हिंदी साप्ताहिक अखबार निकालता है। कई साल पहले इस तथाकथित ब्लैकमेलर पत्रकार को पुलिस ने हत्या के एक मामले में गिरफ्तार भी किया था।

फरीदाबाद पुलिस मुख्यालय प्रवक्ता सूबे सिंह ने इन तथ्यों की पुष्टि करते हुए आईएएनएस से बातचीत में कहा कि आरोपी इंस्पेक्टर की महिला मित्र के पिता ने भी जमीन विवाद से जुड़े एक मामले की शिकायत पुलिस में कर रखी थी, जिसका सीमाक्षेत्र डीसीपी कपूर के अधिकार क्षेत्र में आता था। लिहाजा, शातिर दिमाग एसएचओ ने महिला मित्र की कमजोर नस का नाजायज फायदा उठाकर लगे हाथ महिला मित्र का भी इस्तेमाल कर लिया। पुलिस को इंस्पेक्टर की इस महिला मित्र के बारे में तमाम जानकारियां मिल चुकी हैं। ब्लैकमेलिंग में शामिल इंस्पेक्टर का कथित पत्रकार दोस्त फरार है।

डीसीपी कपूर ने 14 अगस्त की सुबह करीब 5 से 6 बजे के बीच फरीदाबाद पुलिस लाइन में स्थित अपने सरकारी बंगले पर खुद को गोली मारकर जान दे दी थी। दिल दहला देने वाली घटना के पीछे के किरदारों में एसएचओ, उसकी महिला मित्र और तथाकथित ब्लैकमेलर कोई पत्रकार शामिल है..इसका खुलासा डीसीपी के सुसाइड नोट और उनके परिजनों से मिली जानकारी के बाद हुआ।

पुलिस ने सुसाइड नोट के आधार पर 14 अगस्त को ही एसएचओ अब्दुल शाहिद को निलंबित कर उसे हिरासत में ले लिया था। एक दिन की पूछताछ के बाद उसे 15 अगस्त को गिरफ्तार कर अगले दिन 16 अगस्त को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने आरोपी इंस्पेक्टर को चार दिन की पुलिस रिमांड पर भेजा है।

--आईएएनएस

कस्बे सहित आस-पास के क्षेत्र में पिछले दो दिन से मुसलाधार बारिश हो रही है। छीपाबड़ौद तहसील के खजुरिया डैम से करीब 13500 क्यूसेक पानी छोड़ दिया। अचानक ल्हासी नदी व चरस खाल्ल (नाले) का जलस्तर बढ़ गया। इससे दो बसें अंधेरी व ल्हासी नदी के बीच फंस गई जिन्हें मुकन्दपुरा गांव के लोगों ने संभाल लिया। साथ ही खानपुर-छबड़ा जाने वाली हाड़ा बस ल्हासी व चरस खाल्ल के बीच फसी गई। बस में 5 बच्चे, 10 महिलाएं एवं 18 पुरुष सवार थे।

वहीं गुरुवार को राजेंद्र मेघवाल अपनी पत्नी और आठ साल की बेटी हिना के साथ राखी मनाने मंडावरी गांव जा रहा था। हीरान गांव के नाले में हिना बह गई जिसका शव रेस्क्यू टीम ने निकाल लिया। अटरू में एक कच्चा मकान झह जाने से एक बच्ची की मौत हो गई। छीपाबड़ौद के तूमड़ा गांव में खेत पर गए मां बेटे बाढ़ में फंस गए। जिन्हें रात को निकाल लिया गाय। बारां के जिला कलक्टर इंद्र सिंह राव ने जिले में भारी वर्षा के चलते सभी विद्यालयों मैं 16 अगस्त का अवकाश घोषित किया है। मौसम विभाग की और से जिले सहित हाड़ौती भर में भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Haryana Facebook Page:
Advertisement
Advertisement