Dahanan and Angadan is Mahadan - Avinash Rai Khanna-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 8, 2020 6:27 am
Location
Advertisement

देहदान और अंगदान है महादान - अविनाश राय खन्ना

khaskhabar.com : शनिवार, 28 अप्रैल 2018 4:25 PM (IST)
देहदान और अंगदान है महादान - अविनाश राय खन्ना
अविनाश राय खन्ना
दिल्ली एनाॅटमी एक्ट-1953 के अन्तर्गत दिल्ली में लावारिस पाये गये मृत शरीरों को चिकित्सा की शिक्षा में लगे संस्थानों को सौंप देने का प्रावधान है जिससे मृत शरीर की चीर-फाड़ करके चिकित्सा के विद्यार्थियों को मानव शरीर के आन्तरिक अंगों-प्रत्यंगों आदि का पूर्ण ज्ञान दिया जा सके। अक्सर लावारिस पाये गये मृत शरीरों का पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट दर्ज होने के बाद पोस्टमार्टम करवाया जाता है। पोस्टमार्टम के बाद शरीर का चिकित्सा अनुसंधान के कार्यों में अच्छे प्रकार से प्रयोग नहीं हो पाता। इसलिए चिकित्सा संस्थाओं ने मृत शरीरों के देह दान का तरीका ढूंढ़ निकाला।

इस योजना के तहत लावारिस मृत शरीरों का नहीं अपितु परिवारों में सामान्य मृत्यु को प्राप्त हुए उदार हृदय वाले महानुभावों का शरीर चिकित्सा अनुसंधान के लिए प्रयोग किया जाने लगा।
इस कार्य के लिए मृत्यु से पूर्व ही व्यक्ति अपना इच्छापत्र घोषित करता है। इस इच्छापत्र पर उसके पारिवारिक सदस्यों से गवाह की तरह हस्ताक्षर कराये जाते हैं। केवल इच्छापत्र घोषित करना पर्याप्त नहीं होता अपितु परिवार के सदस्यों को भी उदार हृदय होना पड़ता है। तभी किसी व्यक्ति की मृत्यु के बाद उसके मृत शरीर को परिवार के सदस्य सम्बन्धित चिकित्सा संस्थान को सौंपने के लिए तैयार होते हैं। मृत्यु के बाद लगभग 8 घंटे के भीतर मृत शरीर को चिकित्सा संस्थान के नियंत्रण में सौंपा जाना चाहिए। मृत्यु से पूर्व यदि मृत व्यक्ति ने अपने इच्छा पत्र के द्वारा विधिवत देह दान की घोषणा कर रखी हो तो अच्छा है अन्यथा बिना इच्छापत्र के भी यदि परिवार के सदस्य चाहें तो मृत शरीर को अनुसंधान के लिए प्रदान कर सकते हैं।
व्यक्ति की मृत्यु होने के उपरान्त किसी एम.बी.बी.एस. डाॅक्टर से मृत्यु का प्रमाण पत्र लेना चाहिए। मृतक का कोई भी फोटो पहचान पत्र जैसे - ड्राइविंग लाईसेंस, निर्वाचन पहचान पत्र, आधार कार्ड आदि की प्रति देह दान करते समय प्रस्तुत करनी होती है। इसके अतिरिक्त परिवार के जो सदस्य मृत शरीर को सौंपने के लिए अस्पताल जायें उन्हें भी अपना पहचान पत्र साथ दिखाना होता है। व्यक्ति की मृत्यु होने पर परिवार से अपेक्षित होता है कि वे मृत शरीर को अस्पताल दिये जाने की सूचना अपने स्थानीय पुलिस स्टेशन में अवश्य दें। वैसे यह कार्य शरीर रचना विभाग स्वतः भी कर देता है।
मृत शरीर प्राप्त होते ही यह विभाग उस पर कई प्रकार की दवाईयाँ आदि लगाकर सुरक्षित रख लेता है जिससे आवश्यकता पड़ने तक शरीर को सुरक्षित रखा जा सके। यदि किसी परिवार के कोई सदस्य मृतक के अंतिम दर्शन न कर पाये हों तो वे दो-तीन दिन के भीतर अस्पताल जाकर मृत शरीर के दर्शन कर सकते हैं, परन्तु इसके लिए विभाग को पहले से सूचित करना होगा। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान यह विभाग केवल राजधानी क्षेत्र दिल्ली के अन्दर मृत शरीरों को ही देह दान के रूप में स्वीकार करता है। दिल्ली के बाहर यदि कोई व्यक्ति मृत्यु के उपरान्त चिकित्सा अनुसंधान कार्यों के लिए अपनी देह दान करना चाहें तो उन्हें अपने क्षेत्र के किसी शैक्षणिक चिकित्सा संस्थान से सम्पर्क करना चाहिए। अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान का ही एक और विभाग है - ओरबो। यह मृत व्यक्तियों के अंगों का बैंक है। इस बैंक में हृदय, फेफड़े, किडनी, लिवर, पैंक्रियाज़, आँखें, हृदय के वाल्व तथा त्वचा आदि का प्रयोग अन्य रोगियों की चिकित्सा के लिए किया जाता है। यह विभाग मानवीय अंग अधिनियम 1994 के अन्तर्गत मृत व्यक्तियों के अंगों का दान प्राप्त करने के लिए अधिकृत हैं। अंग बैंक के द्वारा अंगों को सुरक्षित तभी निकाला जा सकता है जब मृत्यु के तत्काल बाद मृत शरीर को अस्पताल पहुँचा दिया जाये। 4-5 घण्टे के बाद तो किसी भी अंग का प्रत्यारोपण सम्भव नहीं होता।
शरीर रचना विभाग के पास देह दान के इच्छापत्र तो प्रतिमाह लगभग 80 से 100 के बीच प्राप्त हो जाते हैं, परन्तु इनका क्रियान्वयन इतनी बड़ी संख्या में नहीं होता। इच्छापत्र घोषित करने वाले अनेकों लोगों की मृत्यु होने पर परिजनों की इच्छा न होने के कारण मृत शरीर अस्पताल को नहीं मिल पाते। यह अस्पताल प्रतिमाह केवल 5 से 10 मृत शरीर ही प्राप्त करता है। देह दान को लेकर यदि परिवार में किसी प्रकार का कलह-क्लेश हो तो भी यह विभाग मृत शरीर प्राप्त करने से इन्कार कर देता है।



ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

1/2
Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement