Crime News: Couple arrested in forgery in jaipur-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Dec 13, 2019 10:47 am
Location
Advertisement

क्राइम न्यूज : फर्जीवाडे में दंपति गिरफ्तार

khaskhabar.com : शनिवार, 16 नवम्बर 2019 8:03 PM (IST)
क्राइम न्यूज : फर्जीवाडे में दंपति गिरफ्तार
जयपुर। अनपढ़ मां के दस्तखत कर पैतिृक संपत्ति हथियाने वाले पति-पत्नी के श्याम नगर पुलिस ने गिरफ्तार किया है। संपत्ति जाली कागजात तैयार कर अपने भतीजे को चल-अचल संपत्ति से बेदखल कर दिया था। पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार कर अदालत में पेश किया जहां से न्यायिक अभिरक्षा में भेज दिया।

एसएचओ श्याम नगर संतरा मीणा ने बताया कि गिर तार आरोपित अशोक कुमार शर्मा (59) और उसकी पत्नी किरण देवी (56) नेमीसागर कॉलोनी वैशाली नगर में रहते हैं। दोनों के खिलाफ जाली कागजातों से धोखाधड़ी कर पैतिृक स पत्ति हथियाने की रिपोर्ट उनके भतीजे नवनीत शर्मा ने रिपोर्ट दर्ज कराई है। जमीनी विवाद अदालत में भी चल रहा है। पुलिस ने पड़ताल कर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

क्या था मामला : परिवादी नवनीत शर्मा के पिता यागेश शर्मा थे। यागेश शर्मा का भाई अशोक है। योगेश की वर्ष 1983 में सड़क हादसे में मौत हो गई जिस समय नवनीत बहुत छोटा था और अपनी मां व दादा-दादी के साथ रहता था। सुदर्शनपुरा 22 गोदाम में इनकी राजस्थान हीट-ट्रीट नाम से फर्म संचालित थी। योगेश की मौत होने पर कारोबार आरोपित अशोक संभालने लगा। परिवादी ने पैतिृक संपत्ति में से हिस्सा मांगा तो आरोपित ने सारी संपत्ति खुद के नाम बताते हुए उसे बेदखल करने की बात कहकर वे कागजात दिखाए जिसमें पीडि़त की दादी द्वारा पूरा मालिकाना हक अशोक को दिया गया था। आरोपित ने फर्म को फर्जी कागजातों से अपनी पत्नी किरण देवी के नाम करवा लिया था। पीडि़त ने उसके खिलाफ धोखाधड़ी की रिपोर्ट दर्ज करवाकर अदालत में सिविट सूट दायर किया था।

बिल और हस्ताक्षर से फंसा : परिवादी के दादा-दादी की भी मौत हो चुकी है। जानकारी के अनुसार आरोपित ने थाने और कोर्ट में मां के द्वारा दिए गए मालिकाना हक के कागजात पेश किए। सभी कागजातों में आरोपित ने अपनी मां के हस्ताक्षर दिखाए थे। पेच उस वक्त फंसा जब इस बात के साक्ष्य मिले कि उसकी मां हस्ताक्षर के बजाय सिर्फ अंगूठा लगाती थी। जानकारी के अनुसार योगेश की मौत के बाद क्लेम राशि उठाते वक्त भी मां ने अंगूठा ही लगाया था। दूसरी ओर आरोपित ने खुद का हक जताते हुए वर्ष 2003 और वर्ष 2015 में जो बिजली का बिल पेश किया उसमें भी भिन्नता था। पुलिस ने इन्हीं साक्ष्यों के आधार पर दोनों को गिरफ्तार कर लिया।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement