CM Arvind Kejriwal did not invite any opposition leader in his oath taking ceremony, read full report Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Aug 17, 2022 12:52 pm
Location
Advertisement

चाहिए मोदी का साथ या एकला चलो! CM केजरीवाल ने दिया क्या संदेश? पढ़ें पूरी रिपोर्ट

khaskhabar.com : रविवार, 16 फ़रवरी 2020 6:12 PM (IST)
चाहिए मोदी का साथ या एकला चलो! CM केजरीवाल ने दिया क्या संदेश? पढ़ें पूरी रिपोर्ट
केजरीवाल के हालिया राजनीतिक फैसलों पर नजर डालें तो पता चलता है कि कई मौकों पर उन्होंने विपक्ष के दूसरे दलों से अलग जाकर स्टैंड लिया है। जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटाए जाने पर जहां कांग्रेस सहित कई विपक्षी दल भाजपा के खिलाफ मुखर रहे, वहीं केजरीवाल ने इस मुद्दे पर मोदी सरकार का समर्थन किया था।

इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में भाजपा ने नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) का विरोध करने वालों के खिलाफ खूब हल्ला बोला। भाजपा ने शाहीन बाग के मुद्दे को जोर-शोर से उठाया। भाजपा की ओर से लाख उकसाने के बावजूद केजरीवाल नहीं डगमगाए और इन मुद्दों पर कभी भी कुछ भी खुलकर नहीं बोले। चुनाव प्रचार के दौरान जब केंद्र सरकार ने अध्योध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट बनाने की घोषणा की, तो कांग्रेस ने इस पर सवाल उठाए, वहीं केजरीवाल ने कहा कि अच्छे कामों के लिए कोई वक्त नहीं होता है।

इसके अलावा चुनाव में खुद को राम भक्त बताने वाली भाजपा से मुकाबले के लिए केजरीवाल ने खुद को हनुमानभक्त बताया। दिलचस्प बात यह है कि इस बार दिल्ली विधानसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी की प्रचंड जीत के बाद कई विपक्षी नेताओं ने अरविंद केजरीवाल को बधाई दी थी। बधाई देने वालों में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, नवीन पटनायक जैसे नेता शामिल रहे। रविवार को झारखंड और केरल के मुख्यमंत्री दिल्ली में थे, लेकिन इनमें से किसी को भी केजरीवाल ने शपथ ग्रहण में नहीं बुलाया।

(IANS)

2/2
Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement