Captured elephant shifted to Dudhwa reserve -m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Jul 29, 2021 11:12 pm
Location
Advertisement

कैद करके रखे गए हाथी को दुधवा रिजर्व में स्थानांतरित किया गया

khaskhabar.com : बुधवार, 16 जून 2021 11:20 AM (IST)
कैद करके रखे गए हाथी को दुधवा रिजर्व में स्थानांतरित किया गया
लखीमपुर खीरी । चंदौली जिले में एक व्यक्ति को कुचलने के आरोप में काशी वन्यजीव संभाग परिसर में करीब 18 महीने तक कैद में रखे गए 45 वर्षीय हाथी 'मिठू' को अब गिरफ्तार कर दुधवा नेशनल पार्क लाया गया।

हाथी इस समय अन्य खेमे के हाथियों से दूर सोनारीपुर रेंज के गुलारा वन चौकी में बंद है।

छह महीने की क्वारंटीन अवधि पूरी करने के बाद, 24 अन्य हाथियों के साथ बुल हाथी का उपयोग गश्त के लिए किया जाएगा।

दुधवा के पशु चिकित्सा विशेषज्ञों द्वारा की गई चिकित्सा जांच में हाथी को फिट पाया गया है। हालांकि, नए वातावरण के कारण होने वाली चिंता के किसी भी लक्षण के लिए उसे निगरानी में रखा जाएगा।

इसके महावत, आसिफ और चारा काटने वाले टिंकू राय, जो वाराणसी में मिठू की देखभाल कर रहे थे, दुधवा में तब तक रहेंगे जब तक हाथी एक स्थानीय महावत से परिचित नहीं हो जाता।

दुधवा के फील्ड डायरेक्टर संजय पाठक के अनुसार, "बुल हाथी ने कोई आक्रामक व्यवहार नहीं दिखाया और यहां आने के बाद से शांत है।"

दुधवा के पास अब रिजर्व में गश्त के लिए 25 खेमे के हाथी हैं।

पाठक ने कहा कि हाथी द्वारा एक आदमी को कुचलने का रिकॉर्ड एक दुर्घटना हो सकता है 'क्योंकि इससे किसी और को नुकसान नहीं हुआ।'

फील्ड डायरेक्टर संजय पाठक के अनुसार, "हाथी बेहद समझदार होते हैं और अनावश्यक रूप से हमला नहीं करते हैं। मानक प्रक्रिया के अनुसार, हम मिठू को उसके महावत के साथ एक अलग स्थान पर रखेंगे, जो वाराणसी में इसकी देखभाल कर रहा था।"

उन्होंने बताया "स्थानीय महावत भी इसके साथ संबंध बनाने की कोशिश करेंगे। इसमें छह महीने या उससे अधिक या कम समय लग सकता है। हम इसे वही खाना देंगे जो इसे वाराणसी में मिल रहा था। हम 2.5 क्विंटल से ज्यादा चारा, गन्ना खिलाते हैं और हाथी के हर दिन स्वस्थ रहने को सुनिश्चित करेंगे।"

--आईएएनएस

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement