Capt Amarinder Singh inaugurated development projects of Rs. 29.03 crores in Patiala-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
May 10, 2021 3:07 am
Location
Advertisement

सीएम ने पटियाला में 29.03 करोड़ रूपये के विकास प्रोजेक्टों की शुुरूआत की

khaskhabar.com : शुक्रवार, 25 जनवरी 2019 10:44 PM (IST)
सीएम ने पटियाला में 29.03 करोड़ रूपये के विकास प्रोजेक्टों की शुुरूआत की
पटियाला। लोगों को अत्याधुनिक आवास सुविधा प्रदान करने के लिए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शुक्रवार को 29.03 करोड़ रुपये की विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी। यह प्रोजेक्ट पटियाला डेवलपमेंट अथॉरिटी (पीडीए) द्वारा फलौली गांव में शहरी एस्टेट के चौथे चरण के तहत निष्पादित किया जाना है। पंजाबी विश्वविद्यालय के साथ लगते 76 एकड़ के क्षेत्र में विकसित होने वाले इस नए अर्बन एस्टेट को रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथारिटी (रेरा) के तहत पंजीकृत किया गया है। इस अर्बन एस्टेट का जमीन से जमीन पूलिंग योजना के तहत साधु बेला रोड से 60 फीट चौड़ी सडक़ के माध्यम से जोड़ा जाएगा। प्रोजेक्ट की ले आउट योजना के अनुसार, 445 प्लॉट बनाए गए हैं, जिनमें से 348 आवासीय और 97 वाणिज्यिक हैं। पीडीए ने पहले ही 23.34 करोड़ रूपये के विकास कार्य आवंटित कर दिए हैं और पूरी परियोजना 30 अप्रैल, 2020 तक पूरी हो जाएगी।

इसके तुरंत बाद मुख्यमंत्री ने लगभग 25 लाख रूपये की लागत से स्थानीय सरकारी मल्टी पर्पज स्कूल विद्यालय में अटल टिंकरिंग प्रयोगशाला’ (एटीएल) और एक ई-लाइब्रेरी भी लोगों को समर्पित की इसमें से 12 लाख रूपये की राशि नीती आयोग द्वारा प्रदान की जाएगी जबकि शेष स्थानीय स्तर पर फंडिंग से जुटाई जाएगी। इसका उद्देश्य युवा मानसिकता में जिज्ञासा, रचनात्मकता और कल्पना को बढ़ावा देना है, छात्रों के साथ बातचीत करते हुए मुख्यमंत्री ने घोषणा की है कि दसवॠीं, ग्यारहवीं और बारहवीं कक्षा के छात्रों को सरकार द्वारा 900 इलेक्ट्रॉनिक टैबलेट दिए जाएंगे।

इसके अलावा राज्य में एक सरकारी स्कूल में अपनी तरह की पहली ई-लाइब्रेरी को 30 टैबलेट और 25 लैपटॉप से स्थापित किया गया है, जिसे हाई स्पीड वाई-फाई से जोड़ा गया है। ट्यूटोरियल आयोजित करने और विकसित करने के उद्देश्य से तैयार की गई इस ई-लाइब्रेरी को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों प्रकार से ई-पुस्तकें उपलब्ध होंगी और ई-सामग्री सहजता से सभी की पहुंच में होंगी। प्रिंट और डिजिटल जानकारी एकत्र करने, व्यवस्थित करने और समेटने के अलावा यह डिजिटल और इलेक्ट्र्रॉनिक सूचना के प्रवेश द्वार के रूप में भी कार्य करेगा।

दूसरी और शहर में आवारा कुत्तों के खतरे को प्रभावी ढंग से सीमित करने के लिए कैप्टन अमरिंदर ने 20 लाख रूपये की लागत से अत्याधुनिक पशु जन्म नियंत्रण केंद्र की भी औपचारिक शुरूआत की है। सरकारी पशु चिकित्सा पॉलीक्लिनिक परिसर में बनाया गया यह केंद्र पशु जन्म नियंत्रण कुत्तों) नियम, 2001 के अनुसार सुप्रीम कोर्ट के नियम के तहत खोला गया है।
पशुओं की जनसंख्या नियंत्रण का यह कार्यक्रम एनिमल वेलफेयर बोर्ड ऑफ इंडिया की निगरानी में चलाया जाएगा, जिसमें प्रति माह न्यूनतम 400 कुत्तों का स्टरलाइजेशन करने का लक्ष्य रखा गया है। एक नई अत्याधुनिक सुविधा का निर्माण किया गया है, जिसमें 16 सामुदायिक डॉग केनेल हैं जो 85 कुत्तों तक को पकड़ सकते हैं। प्रत्येक केनेल की अपनी पानी की आपूर्ति और जल निकासी है। संक्रामक या रेबीज प्रभावित कुत्तों को अलग करने के लिए एक अलग क्वारेंटाइन केनेल बनाया गया है। ऑपरेशन थिएटर को सभी आवश्यक उपकरण, तीन ऑपरेटिंग टेबल, एक आटोक्लेव मशीन और छत पर एलईडी ओटी लाइट के साथ अपडेट किया गया है।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार रवीन ठुकराल, पीआरटीसी के चेयरमैन के.के. शर्मा, स. हरिन्दरपाल सिंह हैरीमान, पंजाब समाज भलाई बोर्ड की चेयरपर्सन श्रीमती गुरशरण कौर रंधावा, पटियाला नगर निगम के मेयर संजीव शर्मा बिट्टू, सीनियर डिप्टी मेयर स. योगिन्दर सिंह योगी, डिप्टी मेयर विन्ती संगर सहित शहर के कई काऊंसलर भी उपस्थित रहे, जिनके साथ मुख्यमंत्री ने विशेष तौर पर मुलाकात की।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Punjab Facebook Page:
Advertisement
Advertisement