Bundelkhand : None political party has given priority to unemployment and migration issue Slide 2-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 15, 2019 11:15 pm
Location
Advertisement

बुंदेलखंड : किसी ने नहीं दी बेरोजगारी और पलायन मुद्दे को प्राथमिकता

khaskhabar.com : मंगलवार, 09 अप्रैल 2019 10:37 AM (IST)
बुंदेलखंड : किसी ने नहीं दी बेरोजगारी और पलायन मुद्दे को प्राथमिकता
बुंदेलखंड किसान यूनियन के केंद्रीय अध्यक्ष विमल कुमार शर्मा कहते हैं, कमोबेश सभी राजनीतिक दल से जुड़े नेता सत्ता परिवर्तन के साथ ही बुंदेलखंड की संपदा (बालू, पत्थर और वन संपदा) लूटना शुरू कर देते हैं, लेकिन कोई भी दल आद्यौगिक संस्थानों की स्थापना के बारे में नहीं सोचता। बेरोजगारी दिन-ब-दिन बढ़ती जा रही है। उन्होंने कहा कि 85 हजार शिक्षित बेरोजगार सरकारी आंकड़े हैं, गैर शिक्षित बेरोजगार कितने हैं? यह आंकड़ा किसी के पास नहीं हैं, जबकि बांदा जिले के ही करीब एक लाख लोग महानगरों की शरण लिए हुए हैं।

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नरैनी सीट से विधायक राजकरन कबीर का कहना है कि योगी सरकार बुंदेलखंड एक्सप्रेस-वे का निर्माण कराने जा रही है, इसके बनते ही लाखों बेरोजगारों को रोजगार मिलना शुरू हो जाएगा। रही बात, फैक्ट्री या अन्य कारखाने लगवाने की, तो केंद्र में दोबारा मोदी सरकार बनने पर इसकी पहल की जाएगी।

वहीं, सामाजिक संगठन पब्लिक एक्शन कमेटी की प्रमुख श्वेता मिश्रा ने कहा कि चुनाव जीतने के लिए सभी दलों के उम्मीदवार एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे हैं और मतदाताओं को झूठे आश्वासन दे रहे हैं। लेकिन हर बार की तरह इस बार भी सपा, बसपा, भाजपा और कांग्रेस ने अलग से बुंदेलखंड की बेरोजगारी की समस्या को अपना चुनावी मुद्दा नहीं बनाया है।

(IANS)

2/2
Advertisement
Khaskhabar UP Facebook Page:
Advertisement
Advertisement