Board will soon be formed for the welfare of unorganized sector workers in Rajasthan-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Sep 22, 2020 4:34 pm
Location
Advertisement

राजस्थान में असंगठित क्षेत्र के कामगारों के कल्याण के लिए जल्द बनेगा बोर्ड

khaskhabar.com : मंगलवार, 04 अगस्त 2020 9:05 PM (IST)
राजस्थान में असंगठित क्षेत्र के कामगारों के कल्याण के लिए जल्द बनेगा बोर्ड
जयपुर। मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने प्रदेश में असंगठित क्षेत्र के लाखों कामगारों के कल्याण के लिए बड़ा निर्णय लिया है। उन्होंने इनकी सामाजिक सुरक्षा के लिए ‘स्टेट सोशल सिक्योरिटी बोर्ड फॉर अनऑर्गनाइज्ड वर्कर्स‘ का गठन जल्द करने के निर्देश दिए हैं। यह बोर्ड इन श्रमिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा योजनाओं की रूपरेखा तैयार करेगा।
गहलोत मंगलवार को मुख्यमंत्री निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से श्रम तथा कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता विभाग की समीक्षा बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में सभी जिला कलेक्टर एवं संबंधित विभागों के जिला स्तरीय अधिकारी भी वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुडे़।
वंचित निर्माण श्रमिकों के पंजीयन के लिए चलाएं अभियान
मुख्यमंत्री ने वंचित पात्र निर्माण श्रमिकों का भवन एवं अन्य संन्निर्माण श्रमिक कल्याण बोर्ड के माध्यम से पंजीयन करने के लिए प्रदेशभर में अभियान चलाने के निर्देश दिए हैं, ताकि हर पात्र श्रमिक को बोर्ड के माध्यम से संचालित सामाजिक सुरक्षा योजनाओं का लाभ मिल सके। उन्होंने निर्देश दिए कि श्रम विभाग के अधिकारी चौखटी तथा निर्माण स्थलों पर जाकर वंचित श्रमिकों को पंजीयन कराने के लिए प्रेरित करें।
उद्योगों की मांग के अनुरूप हो कौशल विकास
कौशल, नियोजन एवं उद्यमिता विभाग की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि युवाओं को रोजगार से जोड़ने के लिए उन्हें उद्योगों की मांग के अनुरूप प्रशिक्षित करना जरूरी है। इसके लिए वृहद स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम संचालित किए जाएं। उन्होंने निर्देश दिए कि कौशल विकास के लिए वर्तमान में कई तरह की योजनाएं चल रही हैं। इन योजनाओं को एकीकृत एवं सरल बनाया जाए ताकि युवाओं को इनका लाभ लेने में आसानी हो।
जिला रोजगार अधिकारी अब जिला रोजगार एवं कौशल विकास अधिकारी
मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड महामारी के इस दौर में रोजगार का बड़ा संकट पैदा हुआ है। ऎसे में युवाओं एवं श्रमिकों को रोजगार से जोड़ने के लिए उनका कौशल विकास किया जाना जरूरी है। उन्होंने निर्देश दिए कि इसके लिए तैयार किए राजकौशल पोर्टल का जिला कलेक्टर बेहतर उपयोग सुनिश्चित करवाएं। उन्होंने कहा कि रोजगार एवं कौशल विकास एक-दूसरे के पूरक हैं, ऎसे में जिला रोजगार अधिकारी का पदनाम अब जिला रोजगार एवं कौशल विकास अधिकारी किया जाए।
विभागीय योजनाओं का प्रस्तुतीकरण देते हुए शासन सचिव, श्रम, नियोजन, कौशल एवं उद्यमिता विभाग नीरज के पवन ने बताया कि बीते डेढ़ साल में एक लाख युवाओं को कौशल प्रशिक्षण दिया गया है। उन्होंने बताया कि युवाओं को इंग्लिश, आई.टी. एवं पर्सनेलिटी डेवलपमेंट का प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है। राजकौशल पोर्टल पर 52 लाख 54 हजार श्रमिकों का पंजीयन किया गया है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य - शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar Rajasthan Facebook Page:
Advertisement
Advertisement