BJP MLAs son arrested for threatening to kill Jyotiraditya Scindia-m.khaskhabar.com
×
khaskhabar
Nov 14, 2018 4:50 am
Location
Advertisement

सांसद को मारने की धमकी देने वाले बेटे को थाने लेकर पहुंची BJP विधायक

khaskhabar.com : मंगलवार, 04 सितम्बर 2018 6:28 PM (IST)
सांसद को मारने की धमकी देने वाले बेटे को थाने लेकर पहुंची BJP विधायक
दमोह। मध्यप्रदेश के हटा विधानसभा से भाजपा विधायक उमा देवी के बेटे प्रिंसदीप लालचंद्र खटीक द्वारा FB के जरिए कांग्रेस सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को गोली माने की धमकी दी।

इस मामले में बीजेपी विधयक उमा देवी खटीक ने कांग्रेस नेता ज्योतिरादित्य सिंधिया से अपने बेटे की हरकत पर माफी मांग ली है। इतना ही नहीं, उमा देवी अपने फरार बेटे प्रिंसदीप को लेकर थाने पहुंची और उसे गिरफ्तार करवा दिया।

सोमवार को प्रिंसदीप ने मध्यप्रदेश कांग्रेस चुनाव अभियान समिति के अध्यक्ष और सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया को गोली मारने की धमकी दी थी। प्रिंसदीप लालचंद्र खटीक ने फेसबुक के जरिए ज्योतिरादित्य सिंधिया को धमकी देते हए एक पोस्ट किया था जिसमें जिसमें उन्होंने लिखा, ‘सुन ज्योतिरादित्य तेरी रगों में जीवाजी राव का खून है, जिसने बुंदेलखंड की बेटी झांसी की रानी का खून किया था, अगर उपकाशी हटा में प्रवेश कर इस धरती को अपवित्र करने की कोशिश की तो गोली मार दूंगा, लुहारी में ही, या तो मेरी मौत होगी या तेरी।’

वहीं अब पुलिस के सामने प्रिंसदीप ने स्वीकार किया की रात के माहौल में उससे गलती हो गई। उमा देवी ने मीडिया से कहा, ‘दुव्र्यवहार के लिए कोई जगह नहीं है। उसने (प्रिंसदीप) को जेल जाना होगा। मैं उसे लेकर खुद थाने आई हूं।’ खटीक ने कहा कि मेरी पार्टी बीजेपी का मेरे बेटे की टिप्पणी से कोई लेना-देना नहीं है।

इससे पहले, सोमवार की सुबह से प्रदेशभर में मचे बबाल के बाद कांग्रेस ने हटा में प्रिंसदीप के खिलाफ मामला कायम कराया था और गिरफ्तारी की मांग को लेकर दमोह सहित प्रदेश के कई जिलों में कांग्रेस ने प्रदर्शन किया। जब देर रात खुद विधायक उमा देवी खटीक अपने बेटे को लेकर हटा पुलिस थाने पहुंची तो प्रिंस के तेवर कम नहीं थे और मीडिया से बात करते हुए उसकी दलील थी की रात के माहौल में गलती हो गई।

पुलिस ने आरोपी प्रिंसदीप को गिरफ्तार कर हिरासत में लिया है। पुलिस ने इस मामले में सिर्फ धमकी देने और बेइज्जती करने जिसे धाराओं का इस्तेमाल किया है और आईटी एक्ट की धाराओं के मामले में पुलिस अधिकारी कह रहे हैं कि सुप्रीम कोर्ट के दिशा निर्देशों का पालन किया गया है।

ये भी पढ़ें - अपने राज्य / शहर की खबर अख़बार से पहले पढ़ने के लिए क्लिक करे

Advertisement
Khaskhabar.com Facebook Page:
Advertisement
Advertisement